Report Times
latestOtherउदयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थान

राजस्थान में सुप्रीम कौर्ट के आदेश का उलंघन नेट बंद करके किया मोलिक अधिकारों का हनन

REPORT TIMES

Advertisement

उदयपुर मर्डर के बाद गहलोत सरकार ने राजस्थान में इंटरनेट बैन कर दिया है। ये डिजिटल इमरजेंसी है। 1975 में इंदिरा गांधी सरकार से अलग, पर मौलिक अधिकार तो छीना ही गया है। 1975 में कोई सरकार के खिलाफ न कुछ बोल सकता था, न लिख सकता था। देश अदृश्य जेल में था। आम आदमी के सारे अधिकार सस्पेंड कर दिए गए थे। 47 साल बाद राजस्थान में वैसा ही माहौल है।

Advertisement

Advertisement

उदयपुर मामले में पुलिस का फेल्योर सामने आ चुका है, लेकिन उसकी सजा आम लोगों को इंटरनेट बंद करके दी जा रही है। पिछले दो दिन से करोड़ों राजस्थानी डिजिटल कैद झेल रहे हैं। नेटबंदी के नाम पर सरकार ने मौलिक अधिकार छीन लिए हैं।ये पहली बार नहीं है, हर बार सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए इंटरनेट बंदी को ही हथियार बना रही है। पेपर लीक नहीं रोक पाते तो इंटरनेट बंद। इंटेलिजेंस फेल्योर के कारण करौली, जोधपुर में दंगे होते हैं तो इंटरनेट बंद। उधर, एमपी में भी हाल ही में दंगे हुए, लेकिन वहां इंटरनेट 1 मिनट के लिए भी बंद नहीं हुआ। कश्मीर के बाद राजस्थान दूसरा राज्य है, जहां सबसे ज्यादा इंटरनेट बंद होता है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related posts

कप्तान रोहित शर्मा ने जाना ऋषभ पंत का हाल, डॉक्टर्स से बात कर लिया हेल्थ अपडेट

Report Times

शिक्षा विभाग ने टाइम टेबल जारी: 9वीं-11वीं की समान परीक्षा का टाइम टेबल जारी, एग्जाम 28 से

Report Times

महंगा दाम पर गेहूं बेचने की आस मे किसान ने गेहूं को किया घर मे स्टोर

Report Times

Leave a Comment