Report Times
latestOtherउत्तर प्रदेशकार्रवाईक्राइमटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीति

योगी के मंत्री आर्म्स एक्ट मामले में दोषी करार, जमानत बांड दिए बिना अदालत कक्ष से गायब

REPORT TIMES

Advertisement

कानपुर (यूपी): कानपुर की एक अदालत ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के मंत्री राकेश सचान को तीन दशक पुराने शस्त्र अधिनियम के मामले में दोषी ठहराया, जिसके बाद मंत्री जी जमानत बांड दिए बिना अदालत कक्ष से गायब हो गए. हालांकि, मंत्री ने गायब होने के आरोप से इनकार करते हुए दावा किया कि उनका मामला अंतिम फैसले के लिए सूचीबद्ध नहीं था.

Advertisement

अभियोजन अधिकारी (पीओ) ऋचा गुप्ता ने कहा कि जब अदालत ने बचाव पक्ष के वकील से सजा की मात्रा पर बहस करने को कहा तो सचान दोषी ठहराए जाने के तुरंत बाद अदालत कक्ष से चले गए.

Advertisement

गुप्ता ने कहा कि सचान बिना जमानत बांड के चले गए और इस संबंध में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाएगी.

Advertisement

पीटीआई से फोन पर बात करते हुए पुलिस आयुक्त बी पी जोगदंड ने सचान के खिलाफ लिखित शिकायत मिलने की पुष्टि की. हालांकि, उन्होंने शिकायत की सामग्री के बारे में विस्तार से नहीं बताया और कहा कि उन्होंने इसे व्यक्तिगत रूप से नहीं देखा है.

Advertisement

एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि सचान अदालत के दोषसिद्धि आदेश से भाग गए, जो उन्हें उनके हस्ताक्षर करने के लिए दिया गया था.

Advertisement

अधिकारी ने कहा कि मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्णय वरिष्ठ न्यायिक अधिकारियों के साथ मैराथन बैठक के बाद लिया गया था, यह मानते हुए कि बिना कार्रवाई के उन्हें छोड़ने से पीठासीन अधिकारी को परेशानी हो सकती है.

Advertisement

बाद में कानपुर देहात जिले में मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए सचान ने गुपचुप तरीके से कोर्ट रूम छोड़ने के आरोप से इनकार किया. यह स्वीकार करते हुए कि वह किसी काम से अदालत गए थे, मंत्री ने दावा किया कि उनका मामला अंतिम फैसले के लिए सूचीबद्ध नहीं था.

Advertisement

उन्होंने कहा कि उनके वकील ने उन्हें व्यक्तिगत पेशी से छूट देने के लिए एक आवेदन दिया है. मंत्री ने कहा कि वह अदालत के फैसले का सम्मान करेंगे, चाहे जो भी हो.

Advertisement

गुप्ता ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि 1991 में पुलिस ने राकेश सचान के पास से एक अवैध तमंचा बरामद किया था. सचान इस साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे.
उन्होंने 90 के दशक की शुरुआत में समाजवादी पार्टी में शामिल होकर राजनीति में प्रवेश किया था. 1993 और 2002 में, वह फतेहपुर लोकसभा सीट से 2009 में संसदीय चुनाव जीतने से पहले घाटमपुर विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related posts

शिक्षक संघ ने 17 सूत्री मांगों को उठाया, कहा- सरकार नहीं दे रही ध्यान

Report Times

चिड़ावा : शिक्षक संघ सियाराम के वार्षिक अधिवेशन का शुभारंभ

Report Times

7th Pay Commission Big Update: कर्मचारियों के लिए सरकार करेगी तीन बड़े ऐलान 

Report Times

Leave a Comment