Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्ममहाराष्ट्रमुम्बईराजनीतिस्पेशल

औरंगजेब से जुड़े विवादों के बीच उसके मकबरे पर पहुंचे प्रकाश आंबेडकर, अब क्या करेंगे उद्धव ठाकरे

REPORT TIMES

Advertisement

छत्रपति संभाजीनगर: बाबासाहेब आंबेडकर के पोते, वंचित बहुजन आघाड़ी के प्रमुख, उद्धव ठाकरे की शिवसेना के अलायंस पार्टनर प्रकाश आंबेडकर शनिवार (17 जून) को औरंगजेब के मकबरे पर पहुंचे. यहां पहुंचकर उन्होंने औरंगजेब की कब्र पर फूल चढ़ाए और शीश झुकाए. ऐसा करके उन्होंंने पहले से ही चल रहे औरंगजेब से जुड़े विवाद को हवा दे दी है और अपने सहयोगी उद्धव ठाकरे को टेंशन में डाल दिया है. ऐसा करके उन्होंने बीजेपी को यह मौका दे दिया है कि वे उद्धव ठाकरे से सवाल करें.बीजेपी जरूर उद्धव से यह पूछेगी कि राहुल गांधी और कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने सावरकर का किया अपमान, आप नहीं बोले, अब आपके छत्रपति शिवाजी महाराज के महाराष्ट्र में आपके परम मित्र प्रकाश आंबेडकरने किया औरंगजेब का सम्मान, अब बोलेंगे?

Advertisement

गालियां देनी हैं तो जयचंद को दो, औरंगजेब को क्यों- प्रकाश आंबेडकर

Advertisement

छत्रपति संभाजीनगर (औरंगाबाद) से 24 किलोमीटर दूर खुल्ताबाद में औरंगजेब का मकबरा है. यहां आकर प्रकाश आंबेडकर ने कहा, ‘औरंगजेब ने भारत में 50 से ज्यादा साल तक राज किया है. क्या इस हकीकत को मिटा सकते हैं?  अगर गालियां ही देनी हैं तो जयचंद को दीजिए, औरंगजेब को क्यों? जयचंदों की वजह से ही बाहरी ताकतें ताकतवर हुईं. औरंगजेब का क्या दोष? औरंगाबाद तुगलक काल से दूसरी राजधानी रही है.’

Advertisement

Advertisement

मैं सीएम होता तो औरंगजेब के नाम पर दंगे नहीं होते, होते तो,दबा देता- आंबेडकर

Advertisement

जब पत्रकार ने सवाल किया कि हाल ही में औरंगजेब से जुड़े विवादों की वजह से राज्य में दंगे हुए हैं. फिर भी आप औरंगजेब के मकबरे में आकर उनके प्रति अपना सम्मान जता रहे हैं. इससे आपको नहीं लगता क्या कि आप विवादों को हवा दे रहे हैं? इस पर प्रकाश आंबेडकर ने कहा कि, ‘मैं अगर मुख्यमंत्री होता तो दंगे होते ही नहीं. यह सरकार दंगे रोकने में असफल हुई है. मेरे रहते अगर दंगे होते, तो मैं दो दिनों में दबा देता. विवादों को बढ़ने दिया जाता है, इसलिए वे बढ़ते हैं.’

Advertisement

कहां गया छत्रपति शिवाजी महाराज का महत्व? कहां गया उद्धव ठाकरे का हिंदुत्व?

Advertisement

बता दें कि प्रकाश आंबेडकर लगातार महाविकास आघाड़ी में चौथे पार्टनर बन कर घुसना चाह रहे हैं. लेकिन कांग्रेस और एनसीपी उन्हें आघाड़ी का पार्टनर बनाने को तैयार नहीं हैं. ऐसे में उनका गठबंधन फिलहाल उद्धव ठाकरे के साथ ही हुआ है. उद्धव ठाकरे की शिवसेना का अस्तित्व ही, उसका आरंभ ही, उसका विकास ही छत्रपति शिवाजी महाराज और उनके बेटे संभाजी महाराज के नाम पर हुआ है. प्रकाश आंबेडकर अगर उनके दुश्मन औरंगजेब की कब्र पर सर झुकाते हैं तो वाकई में बीजेपी को सवाल करने का मौका दे देते हैं. ऐसे में बीजेपी उद्धव ठाकरे से जरूर पूछेगी- कहां गया छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम का महत्व, कहां गया भगवा और हिंदुत्व ?

Advertisement

शरद पवार ने प्रकाश आंबेडकर को बताया BJP की B टीम

Advertisement

प्रकाश आंबेकर के बारे में शरद पवार ने कल (16 जून, शुक्रवार) ही जलगांव दौरे के वक्त पत्रकारों को संबोधित करते हुए यह बयान दिया था कि वे बीजेपी की बी टीम हैं. आज प्रकाश आंबेडकर औरंगजेब के मकबरे में जाकर उद्धव ठाकरे के लिए पेंच निर्माण कर चुके हैं. जिस औरंगाबाद का नाम छत्रपति संभाजी नगर करने की लड़ाई बालासाहेब ठाकरे ने शुरू की थी और उद्धव ठाकरे की आखिरी कैबिनेट मीटिंग में औरंगजेब के नाम की निशानी हटा कर औरंगाबाद शहर को छ्त्रपति संभाजी नगर करने का प्रस्ताव पास किया गया था. इसके बाद शिंदे-फडणवीस सरकार ने केंद्र की बीजेपी सरकार से शहर का नाम छत्रपति संभाजी नगर करवाया. अब उद्धव ठाकरे के पार्टनर प्रकाश आंबेडकर अगर औरंगजेब की कब्र पर जाकर सर झुकाएंगे तो जाहिर सी बात है कि उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं. ऐसे में क्या शरद पवार का आंबेडकर को लेकर बयान सही है? यह अहम सवाल है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

नई दिल्ली : तनाव के बीच भारतीय विदेश मंत्री का चीन को कड़ा संदेश

Report Times

यदि आपको डिप्रेशन या एंजाइटी जैसा महसूस हो रहा है तो इन कार्यों को करने से बचे

Report Times

रीट की परीक्षा के लिए तैयार जिला प्रशासन, जिला कलक्टर कुड़ी ने बैठक कर सौंपी अधिकारियों को जिम्मेदारी

Report Times

Leave a Comment