Report Times
latestOtherकरियरजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

जूनियर अकाउंटेंट भर्ती में दो महीने बाद भी मुख्य परीक्षा के लिए कटऑफ तय नहीं

REPORT TIMES 

Advertisement

जयपुर: चयन बोर्ड की समान पात्रता परीक्षा (सीईटी) में शामिल होने वाले इस भर्ती के लिए योग्य आवेदकों से 27 जून से आवेदन मांगे गए थे। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड में धीमी गति से चल रहे काम के चलते जूनियर अकाउंटेंट एवं तहसील राजस्व लेखाकार भर्ती के लिए आवेदन करने वाले 1.92 लाख अभ्यर्थी असमंजस में हैं। इस भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि निकलने के दो महीने बाद भी बोर्ड ने 15 गुणा की कटऑफ जारी नहीं की है। इस कारण यह सभी 1.92 लाख अभ्यर्थी असमंजस में हैं कि वे मुख्य परीक्षा में शामिल हो पाएंगे या नहीं। अभ्यर्थियों ने जल्दी से जल्दी इस भर्ती की 15 गुणा की कटऑफ जारी करने की मांग की है। दरअसल बोर्ड ने जूनियर अकाउंटेंट के 5190 पदों पर और तहसील राजस्व लेखाकार के 198 पदों पर भर्ती निकाली थी।

Advertisement

Advertisement

चयन बोर्ड की समान पात्रता परीक्षा (सीईटी) में शामिल होने वाले इस भर्ती के लिए योग्य आवेदकों से 27 जून से आवेदन मांगे गए थे। आवेदन की अंतिम तिथि 26 जुलाई तक 192666 अभ्यर्थियों ने आवेदन कर दिया। लेकिन इस भर्ती में यह शर्त है कि पदों के मुकाबले 15 गुणा अभ्यर्थी ही इस भर्ती की मुख्य परीक्षा में शामिल होंगे। इस कारण 1.92 लाख में से करीब 80 हजार ही परीक्षा में बैठेंगे। लेकिन यह 80 हजार अभ्यर्थी कौन होंगे। इनकी कटऑफ बोर्ड ने अभी तक जारी नहीं की है। इस कारण 1.92 लाख अभ्यर्थी असमंजस में हैं कि वे कटऑफ में आएंगे या नहीं। उनका कहना है कि अगर बोर्ड कटऑफ जारी कर दे तो स्थिति क्लियर हो जाएगी कि कौन मुख्य परीक्षा में शामिल होगा। इस भर्ती के लिए परीक्षा अगले साल 11 फरवरी को होगी। पदों के मुकाबले टॉप-15 गुणा का होगा चयन चयन बोर्ड सबसे पहले पदों के मुकाबले टॉप 15 गुणा का चयन करेगा। इसके बाद कैटेगरी वाइज अभ्यर्थियों का प्रतिशत देखा जाएगा। जिस कैटेगरी का प्रतिशत 15 गुणा से कम होगा तो 15 गुणा तक के अभ्यर्थियों को और ले लिया जाएगा।

Advertisement
Advertisement

Related posts

निकाय चुनाव के बाद 2024 पर नजर, हारी हुई सीटों के लिए क्या है बीजेपी की रणनीति?

Report Times

बरसों से चुप बैठा जर्मनी अचानक F-35 लड़ाकू विमान क्यों खरीद रहा, रूस से टेंशन का असर तो नहीं?

Report Times

राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने झारखंड वित्त विधेयक को चौथी बार लौटाया, बताया केंद्र सरकार के अधिकार में हस्तक्षेप

Report Times

Leave a Comment