Report Times
latestOtherकरियरजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

BJP का गढ़ मानी जाती है हवा महल सीट, पिछली बार कांग्रेस के हाथों मिली थी हार

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान की राजनीति में राजधानी जयपुर की अपनी अलग ही पहचान है. जयपुर जिले की हवा महल विधानसभा सीट प्रदेश की हाई प्रोफाइल सीट में गिनी जाती है. हवा महल सीट से विधायक महेश जोशी राज्य सरकार में मंत्री विधायक हैं. दुनिया भर में मशहूर हवा महल सीट भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के लिए बेहद खास सीट मानी जाती है हवा महल विधानसभा सीट पर मुस्लिम वोटर्स की भी अच्छी खासी संख्या हैं. यहां से जीत हमेशा ब्राह्मण प्रत्याशी को मिलती है. यहां पर लगातार कई बार भारतीय जनता पार्टी का भी कब्जा रहा था लेकिन पिछली बार महज कुछ वोटों से कांग्रेस के विधायक महेश जोशी ने जीत हासिल की थी. राजस्थान में अभी राजनीतिक सरगर्मी काफी तेज हो गई है. कुछ महीनों के अंदर ही यहां पर विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. राजस्थान की राजधानी जयपुर गुलाबी नगरी के नाम से विख्यात है और 8 विधानसभा सीटों वाले जयपुर की 4 विधानसभा सीटों को भारतीय जनता पार्टी का गढ़ माना जाता है.

Advertisement

Advertisement

कितने वोटर, कितनी आबादी

Advertisement

2018 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो तब चुनाव मैदान में 19 उम्मीदवारों ने अपनी चुनौती पेश की थी, लेकिन मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच ही रहा था. बीजेपी के सुरेंद्र पारीक को 76,192 वोट मिले तो वहीं कांग्रेस के डॉक्टर महेश जोशी के खाते में 85,474 वोट आए. जोशी ने 9,282 मतों के अंतर से यह मुकाबला जीत लिया. तब के चुनाव में हवा महल सीट पर कुल 2,31,997 वोटर्स थे जिसमें 1,24,311 पुरुष वोटर्स तो महिला वोटर्स की संख्या 1,07,684 थी. इसमें कुल 1,68,870 (73.1%) वोट पड़े. NOTA के खाते में 796 (0.3%) वोट आए थे. फिलहाल हवा महल सीट पर कुल 2,48,265 वोटर्स हैं.

Advertisement

कैसा रहा राजनीतिक इतिहास

Advertisement

हवा महल सीट पर सबसे ज्यादा कब्जा भारतीय जनता पार्टी का रहा. यहां से भंवरलाल शर्मा छह बार विधायक रहे जो इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा बार विधायक रहने का रिकॉर्ड है. भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें मंत्री पद का भी तोहफा दिया जिसकी जिम्मेदारी उन्होंने बखूबी निभाई. भंवर लाल एक बार जनता पार्टी तो शेष 5 बार बीजेपी के टिकट से चुने गए थे.

Advertisement

फिर 2003 के चुनाव में बीजेपी के सुरेंद्र पारीक को भी इस सीट पर जीत मिली. लेकिन 2008 के चुनाव में बीजेपी की जीत का रथ थम गया और कांग्रेस के ब्रज किशोर शर्मा ने जीत हासिल कर ली. हालांकि 2013 में हवा महल सीट पर फिर से जीत हासिल करते हुए BJP के सुरेंद्र पारीक ने जीत हासिल की तो 2018 में महज 9,282 वोटों से महेश जोशी ने पारीक को शिकस्त दे दी.

Advertisement

सामाजिक-आर्थिक ताना बाना

Advertisement

हवा महल सीट पार भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस से दोनों के लिए ही मैदान में ब्राह्मण बिरादरी के उम्मीदवार को उतारना बेहद सुरक्षित रहता है क्योंकि 90 हजार से ज्यादा मुस्लिम वोटर्स हैं तो वहीं ब्राह्मण वोटर की संख्या भी बहुत अधिक है. इस स्टेज पर इतने मुस्लिम वोटर्स होने के बाद भी आज तक कोई भी मुस्लिम कैंडिडेट चुनाव नहीं जीत पाया है.घनी आबादी वाला क्षेत्र हवा महल एक विश्व प्रसिद्ध स्थान है. यहां पर ट्रैफिक व्यवस्था के अलावा वायु प्रदूषण और पानी की समस्या अहम समस्याएं हैं. वर्तमान में महेश जोशी कांग्रेस सरकार में भूजल मंत्री हैं, लेकिन कब्रिस्तान का मुद्दा बहुत बड़ा हो गया जिसे लेकर विधायक के लेकर लोगों में खासी नाराजगी देखी जा सकती है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजस्थान पुलिस ने कागजों में नष्ट कर दी थी अवैध शराब, असल में तस्करों को बेच दी; गुजरात में पकड़ी गई, कई अफसर सस्पेंड

Report Times

पहली पत्नी रेशमा और दूसरी मोनिका, राजस्थान में कांग्रेस के प्रत्याशी अमीन कागजी की कहानी

Report Times

राजस्थान – छात्रसंघ चुनावो को लेकर हाई कोर्ट में याचिका दायर

Report Times

Leave a Comment