Report Times
latestOtherकरियरजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्मराजनीतिराजस्थानस्पेशल

स्कूलों में मां सरस्वती की मूर्ति जरूरी, ड्रेस कोड भी होगा लागू… एक्शन में राजस्थान के शिक्षा मंत्री

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान के सभी स्कूलों में अब मां सरस्वती की मूर्ति या चित्र अनिवार्य होगा. अगर ऐसा नहीं होता है तो उस स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. प्रदेश के शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने सख्त रुख अपनाते हुए यह निर्देश जारी किया है. इसके अलावा प्रदेश में हिजाब का मामला भी गर्माता जा रहा है. राज्य की राजधानी जयपुर में हुए विवाद के बाद अब भजनलाल सरकार स्कूलों में हिजाब पर एक्शन लेने की तैयारी में लग गई है. इसके लिए सरकार में शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने विभाग से दूसरे राज्यों में हिजाब बैन के स्टेटस और राजस्थान में इसके प्रभावों को लेकर रिपोर्ट मांगी है. सूत्रों के मुताबिक शिक्षा विभाग में उच्च स्तर पर स्कूलों में हिजाब बैन मामले में रिपोर्ट तैयार करके शिक्षा मंत्री मदन दिलावर को भेजी जाएगी. पूरे मामले पर राजस्थान के शिक्षा मंत्री का बयान भी सामने आया है. उन्होंने स्कूलों में ड्रेस कोड लागू करने की बात कही है. वहीं, जिन स्कूलों में सरस्वती मां की मूर्ति और चित्र नहीं होगा उसके खिलाफ कार्रवाई किए जाने के भी निर्देश दिए गए हैं.

Advertisement

Advertisement

हिजाब पर रुख सख्त, मां सरस्वती की मूर्ति अनिवार्य

Advertisement

प्रदेश में हिजाब को लेकर सरकार गंभीर रुख अख्तियार कर रही है. वह प्रदेश के सभी स्कूलों में जल्द ड्रेस कोड लागू करने जा रही है. इसकी तैयारी भी तेजी से की जा रही है. खुद शिक्षा मंत्री मदन दिलावर इसे गंभीरता से लिए हुए हैं. उन्होंने एक बयान दिया है जिसमें उन्होंने कहा है कि प्रदेश में ड्रेस कोड ही लागू होगा. उन्होंने जयपुर के एक स्कूल का हवाला देते हुए कहा कि स्कूल में जो हालत बने उसके लिये जांच के आदेश दिए गए हैं. धर्मांतरण नहीं होने देंगे. सरकार, सरकार होती है वह आदेशों की पालना कराना जानती है. साथी ही उन्होंने स्पष्ट कहा कि जिस विद्यालय में सरस्वती मां की मूर्ति, चित्र नहीं होगा उस स्कूल के खिलाफ कार्रवाई होगी.

Advertisement

यहां से हुई विवाद की शुरुआत

Advertisement

दरअसल इस पूरे विवाद की शुरुआत सोमवार को राजधानी जयपुर के गंगापोल इलाके में स्थित सरकारी स्कूल से हुई थी. यहां स्कूल के वार्षिक कार्यक्रम में हवा महल विधायक बालमुकुंद आचार्य को बुलाया गया था. स्कूल में मां सरस्वती की मूर्ति नहीं होने पर बालमुकुंद आचार्य ने आपत्ति दर्ज की और स्कूल प्रशासन से इस बारे में पूछा था. वहीं, मूर्ति रखने की खाली जगह पर दरगाह पर चढ़ाए जाने वाली चादर का देखकर उन्होंने स्कूल प्रशासन को जमकर लताड़ लगाई थी. विधायक बालमुकुंद आचार्य ने वार्षिक उत्सव पर ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने के लिए मुस्लिम बच्चियों को बोला था. इसी बात पर विवाद हो गया था. विधायक की इस बात से नाराज छात्राएं सड़कों पर उतरी और सुभाष चौक थाने का घेराव किया था. उन्होंने विधायक के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की थी.

Advertisement
Advertisement

Related posts

कार्तिक आर्यन को देखते ही गुलाब लेकर दौड़ पड़ीं लड़कियां, नजारा देख एक्टर ने किया ये काम

Report Times

क्रय – विक्रय सहकारी समिति के चुनाव सम्पन्न : मुकेश कुमार सैनी बने अध्यक्ष, दयाराम बने उपाध्यक्ष

Report Times

बालों को घने और लम्बे बनाना चाहते है तो अपनाए यह घरेलू उपाय

Report Times

Leave a Comment