Report Times
latestOtherचिड़ावाज्योतिषटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्मस्पेशल

शिवनगरी के शिवालय: यहां शिवालय में प्रज्वलित रहती है अखण्ड ज्योति

REPORT TIMES

Advertisement

चिड़ावा यानी शिवनगरी के शिवालयों की श्रृंखला में आज हम पहुंचे हैं एक और प्राचीन शिवालय में। ये है प्राचीन राधा-गोविंद मंदिर। इस मंदिर को भैड़ा वाला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। 200 साल पहले इस मंदिर और शिवालय का निर्माण जगन्नाथ भैड़ा ने करवाया। फिलहाल मंदिर की व्यवस्था मंदिर कमेटी अध्यक्ष बाबूलाल भैड़ा सम्भाल रहे हैं। इस शिवालय की विशेषता ये है कि यहां शिवालय और मंदिर में अखंड ज्योति लगातार प्रज्वलित है। जिस गर्भगृह में राधा-गोविंद विराजे हैं, उसके बांई तरफ शिवालय स्थित है। राधा-गोविंद के गर्भगृह में ही गरुड़ देव की मूर्ति विराजित है।

Advertisement

Advertisement

जो कि बहुत कम मंदिरों में देखने को मिलता है। वहीं सूर्य देव की मूर्ति के साथ ही गोविंद को अतिप्रिय गौमाता की मूर्तियां भी भगवान के साथ पूजी जा रही है। भगवान राधा-गोविंद के बिल्कुल सामने बिराजे हैं हनुमान जी महाराज।

Advertisement

Advertisement

मंदिर में विशेष रूप से जन्माष्टमी के अवसर पर खास उत्सव होता है। राजकला कॉम्प्लेक्स के पास वाली गली में स्थित ये मंदिर स्थापत्य कला का भी बेजोड़ नमूना है। यहाँ पर की गई सुंदर चित्रकारी और मुख्यद्वार पर उकेरे गए गणेशजी महाराज के चित्र प्राचीन चित्र शैली का बेहतरीन उदाहरण हैं। मन में श्रद्धा के भाव लिए इस दर पर आने वालों की मनोकामना अवश्य पूरी होती, ऐसी श्रद्धालुओं की मान्यता है। अब लेते हैं आस्था और विश्वास की इस ठौर से विदाई और कल फिर मिलेंगे एक और प्राचीन शिवालय में….हर..हर… महादेव

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related posts

चिड़ावा : डालमिया की ढाणी में भक्तों के सामूहिक प्रयासों से निखरा मन्दिर का स्वरूप

Report Times

राजस्थान में पंचायतीराज एवं नगरीय उप चुनाव की घोषणा, जानें पूरा कार्यक्रम

Report Times

CM अशोक गहलोत को हुआ वायरल इंफेक्शन

Report Times

Leave a Comment