Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थान

राजस्थान के दौसा पीजी काॅलेज के छात्रसंघ चुनाव में जूनियर से की सगाई छात्रसंघ चुनाव हारी सपना का नहीं हुआ ‘सपना’ पूरा

REPORT TIMES

Advertisement

राजस्थान के दौसा पीजी काॅलेज के छात्रसंघ चुनावन से पहले एक दिन पहले छात्रा से सगाई कर सुर्खियों में आए रत्तीराम मीना की मंगेतर सपना मीना दौसा पीजी काॅलेज से छात्रसंघ चुनाव हार गई है। निर्दलीय संजय गुर्जर चुनाव जीते हैं। रत्तीराम ने हाईकोर्ट से राहत नहीं मिलने पर काॅलेज की ही छात्रा सपना मीना से सगाई कर ली और उम्मदीवार बना दिया था। छात्रसंघ चुनाव के आज रिजल्ट जारी हुए है। दौसा पीजी काॅलेज से संजय अध्यक्ष निर्वाचित हुए है। सपना ने मीना ने नामांकन दाखिल करते समय कहा था कि वह उनका सपना पूरा करेंगे। दरअसल, रत्तीराम मीणा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने का सपना देख रहे थे। लेकिन नियम उनके सपने के आड़े आ गए। वे चुनाव नहीं लड़ सकते थे, लेकिन इस बीच उनकी जिंदगी में दूसरी सपना आ चुकी थी। बड़ोली (दौसा) की इस लड़की से उनकी सगाई की बातचीत चल रही थी।

Advertisement

Advertisement

18 अगस्त को सगाई और फिर किया पर्चा दाखिल

Advertisement

रत्तीराम को पता चला कि वह खुद चुनाव नहीं लड़ सकते तो उन्होंने अपनी सपना को चुनाव लड़ाने का फैसला लिया। घरवालों से बात की और सपना के साथ रिश्ता पक्का कर लिया। दोनों के घरवाले राजी हुए और इसी 18 अगस्त को दोनों की सगाई हो गई और सोमवार को सपना ने छात्रसंघ चुनाव में पर्चा भी भर दिया था। सपना ने कहा, ‘मेरा चुनाव लड़ने का कोई विचार नहीं था। रत्तीराम से मेरी सगाई की बात पहले से ही चल रही थी। ऐसे में रत्तीराम चुनाव नहीं लड़ सके तो अध्यक्ष पद के लिए मुझे कैंडिडेट बनाया। अब कैम्पेनिंग में वे अपने समर्थकों के साथ जुटे हुए हैं।’ सपना ने पर्चा तो निर्दलीय भरा था, लेकिन सोमवार शाम एबीवीपी ने प्रत्याशी घोषित कर दिया था। कॉलेज में अध्यक्ष पद के लिए कुल 7 उम्मीदवार मैदान में थे।

Advertisement

काॅलेज में  दो साल से नहीं हुए थे चुनाव 

Advertisement

राहुवास निवासी रत्तीराम मीणा ग्रेजुएशन पास कर चुके थे। दो साल कोरोना की वजह से चुनाव नहीं लड़ सके। पीजी में एडमिशन की तैयारी की तो कॉलेज निदेशालय की ओर से आदेश जारी किया गया कि इस बार केवल यूजी स्टूडेंट ही चुनाव लड़ सकेंगे। ऐसे में रत्तीराम का चुनाव लड़ने का सपना अधूरा रह गया। बता दें कि यह दौसा जिले का सबसे बड़ा कॉलेज है। इसमें 4,107 छात्राएं, 5,116 छात्र पढ़ते हैं। इनमें से 9,223 स्टूडेंट्स वोटर हैं।

Advertisement
Advertisement

Related posts

बाल विवाह के मुद्दे पर असम में बवाल… अबतक 2170 गिरफ्तार, महिलाओं का प्रदर्शन

Report Times

योग के लिए जनसंपर्क पीले चावल बांटे

Report Times

‘भैरोंसिंह शेखावत के कांग्रेस नेताओं से थे अच्छे संबंध’ वसुंधरा राजे ने पूछा- क्या ये मिलीभगत हुई?

Report Times

Leave a Comment