Report Times
latestOtherकार्रवाईक्राइमझारखण्डटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्म

2 साल से अंकिता के लिए ‘आतंक’ था शाहरुख, फिर जिंदा जलाकर मार डाला

REPORT TIMES

Advertisement

झारखंड के दुमका में अंकिता हत्याकांड को लेकर उबाल है। एकतरफा मोहब्बत में शाहरुख नाम के लड़के ने नाबालिग लड़की को पेट्रोल छिड़कर जिंदा जला डाला। यह अचानक सनक में आकर की गई कोई वारदात नहीं है, बल्कि दो साल से शाहरुख अंकिता के लिए ‘आतंक’ बन चुका था। शाहरुख करीब दो साल से अंकिता के पीछे पड़ा था। अपनी मौत से पांच दिन पहले फूलो झानो मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कार्यकारी मजिस्ट्रेट को दिए बयान में अंकिता ने कहा था कि उसकी एक सहेली से शाहरुख ने मोबाइल नंबर ले लिया था और अक्सर फोन कर कर दोस्ती का दबाव बनाता था। जबकि अंकिता उससे बात करना भी पसंद नहीं करती थी। वह न केवल बार-बार फोन कर अकिता को परेशान करता था बल्कि स्कूल जाने के रास्ते में पीछा कर छेड़खानी करने का प्रयास करता था। अंकिता को तंग आ कर स्कूल जाना बंद करना पड़ा था। ट्यूशन भी पिता के साथ जाना पड़ता था। शाहरुख ने अंकिता के घर पर पत्थरबाजी भी की थी। वह उसके घर में घुस जाता था। इस पर लोगों ने एक बार चोर कह कर पिटाई भी की थी। इसके बाद भी उसका हौसला पस्त नहीं हुआ।

Advertisement

एक दिन वह अंकिता के घर के दरवाजे पर लगे ग्रिल को लोहे के खंती से उखाड़ने का प्रयास किया था। अंकिता के पिता ने बताया कि शुरू में लोक लाज के भय से वे थाना नहीं गए पर जब शाहरुख की हरकत बढ़ गई तो एक बार वे थाना जाने लगे तो शाहरुख के बड़े भाई ने माफी मांग कर थाना जाने से मना कर दिया था। शाहरुख की हरकत में सुधार नहीं हुआ। हाल के दिनों में डिजनीलैंड मेला देखने भी अंकिता शाहरुख के खौफ के कारण पिता के साथ गई थी।

Advertisement

Advertisement

एक साल पहले हो गई थी मां की मौत
अंकिता के पिता संजीव सिंह एक किराना व्यवसायी की दुकान में काम करते हैं। आर्थिक तंगी के बावजूद वे अंकिता और उसके भाई को अच्छी तालीम देना चाहते थे। अंकिता भी पढ़ने में ठीक थी। अंकिता की मां का एक साल पहले कैंसर से निधन हो चुका है। अब अंकिता की मौत से संजीव सिंह टूट गए हैं। दो बेटियों में एक बेटी की शादी हो चुकी है। दूसरे नम्बर पर अंकिता थी। बेटा 12 साल का है। घर में अंकिता के दादा-दादी भी हैं।

Advertisement

घटना से पहले फोन पर दी थी धमकी
घटना के एक दिन पहले भी 22 अगस्त को उसने फोन पर धमकी दी थी कि मुझसे बात नहीं करोगी तो जान से मार देंगे। रात में छात्रा अपने कमरे में सोई हुई थी कि तड़के 4 बजे शाहरुख उसके घर पहुंच कर खिड़की से पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी थी। फूलो झानो मेडिकल कॉलेज अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद बेहतर इलाज के लिए उसे 23 अगस्त को ही देर रात रिम्स रांची में भर्ती किया गया था। अंकिता का शरीर का पीठ का हिस्सा, दोनों हाथ, दोनों पैर और पेट का भाग बुरी तरह से जल गया था। मौत के साथ पांच दिनों के संघर्ष के बाद वह जिंदगी की जंग हार गई। रांची में पोस्टमार्टम के बाद उसका शव देर शाम तक दुमका लाया जा सकेगा।

Advertisement

फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की होगी पहल 
दुमका के उपायुक्त रवि शंकर शुक्ला ने कहा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए आवश्यक पहल की जाएगी। साथ ही परिजनों को मुआवजा दिया जाएगा। साथ ही उन्होंने लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है। उपायुक्त ने लोगों से शांति की अपील करते हुए कहा कि दोषी पर जल्द कारवाई होगी।

Advertisement

परिजनों को मिले मुआवजा, नौकरी व सुरक्षा सुनील सोरेन
दुमका के सांसद सुनील सोरेन ने दुमका की बेटी अंकिता की मौत पर शोक संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि वह काफी होनहार बच्ची थी। उसकी मौत ने मुझे अंदर से झकझोर दिया है। मैं मर्माहत हूं। वह अपना उज्जवल भविष्य को बनाने में लगी थी, लेकिन बीच में दिल दहलाने वाली जघन्य हत्या की शिकार हो गई। सांसद ने मांग किया है कि शाहरुख को फास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलाई जाए। साथ ही सरकार उनके परिजनों को सरकारी नौकरी और उचित मुआवजा दे। परिजनों को सुरक्षा देने के लिए भी जिला प्रशासन को कहा गया है।

Advertisement
Advertisement

Related posts

पुरानी बस्ती स्थित मंदिर में छप्पन भोग किया समर्पित

Report Times

चौरसिया मंदिर में हुआ गणेश महोत्सव के तहत सांस्कृतिक कार्यक्रम : बच्चों की मनमोहक प्रस्तुतियों ने मन मोहा, महिलाएं ने भी जमकर लिया उत्सव का आनंद

Report Times

संयुक्त किसान मोर्चा के संयोजन में किसानों का प्रदर्शन

Report Times

Leave a Comment