Report Times
latestOtherकार्रवाईटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीबिहारराजनीति

बिहार में बिना परमिशन CBI जांच पर रोक लगाएगी नीतीश सरकार,सीबीआई को बिहार में जांच के लिए पहले राज्य सरकार से इजाजत लेनी होगी

REPORT TIMES

Advertisement

बिहार में पिछले दिनों सीबीआई ने लैंड फॉर जॉब स्कैम के मामले में छापेमारी की थी। इस दौरान आरजेडी के कई नेताओं के घरों और अन्य ठिकानों पर छापे मारे गए थे। इस बीच खबर है कि बिहार सरकार सीबीआई को जांच की मंजूरी पर रोक लगा सकती है। यदि ऐसा होता है तो सीबीआई को बिहार में जांच के लिए पहले राज्य सरकार से इजाजत लेनी होगी। इससे पहले बंगाल और कई अन्य राज्यों ने भी ऐसा फैसला लिया था। बता दें कि आरजेडी, जेडीयू और कांग्रेस का सत्ताधारी गठबंधन लगातार यह आरोप लगाता रहा है कि केंद्र सरकार सीबीआई का बेजा इस्तेमाल कर रही है। दिल्ली स्पेशल पुलिस एस्टेबलिशमेंट ऐक्ट, 1946 के तहत सीबीआई का गठन हुआ था। इसके मुताबिक सीबीआई के लिए यह जरूरी है कि वह किसी भी राज्य में जांच के लिए पहले प्रदेश सरकार से अनुमति ले। अब तक 9 राज्यों ने सीबीआई को दी यह मंजूरी वापस ले ली है। इन राज्यों में पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब, मेघालय शामिल हैं। ऐसे राज्यों की संख्या इनमें ज्यादा हैं, जो विपक्ष द्वारा शासित हैं। आरजेडी के नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि जिस तरह से केंद्र सरकार सीबीआई का इस्तेमाल विरोधियों के खिलाफ कर रही है, उसे देखते हुए बिहार सरकार को एजेंसी को जांच की मंजूरी वापस ले लेनी चाहिए।

Advertisement

Advertisement

उन्होंने कहा कि इसके अलावा बिहार सरकार को अदालत का रुख भी करना चाहिए। वहां उसे इस बात को उठाना चाहिए कि कैसे सीबीआई का बेजा इस्तेमाल केंद्र सरकार की ओर से किया जा रहा है। तिवारी ने कहा कि एनडीए सरकार के दौर में केंद्रीय एजेंसियों ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है। मनोज झा ने भी इस मामले पर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यह पार्टी सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स जैसी एजेंसियों का इस्तेमाल विरोधियों को परेशान करने के लिए कर रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार महाराष्ट्र जैसे प्लान को अंजाम देने के लिए बिहार में सीबीआई का बेजा इस्तेमाल कर रही है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि भाजपा इस बात से परेशान है कि गुरुग्राम में सीबीआई ने जिस मॉल पर छापेमारी की थी, वह तेजस्वी यादव का नहीं निकला। इस बीच जेडीयू ने भी कहा है कि यह सही समय है, जब राज्य में जांच के लिए सीबीआई को मिली मंजूरी वापस ले ली जाए। राज्य सरकार के मंत्री मदन साहनी ने कहा कि जिस तरह से एजेंसियों का इस्तेमाल विपक्षी नेताओं की छवि खत्म करने के लिए हो रहा है, वह गलत है। बिहार की जनता सब देख रही है और वे लोग समय आने पर ऐसे लोगों को करारा जवाब देंगे।

Advertisement
Advertisement

Related posts

सैनी धर्मशाला में समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती सैनी समाज संस्था जिलाध्यक्ष राजेश सैनी मुख्य आतिथ्य में मनाई गई

Report Times

कांग्रेस को मिल सकता है नया अध्यक्ष,गहलोत को अध्यक्ष बनाने पर बनी आम सहमति!

Report Times

जगदीप धनकड़ या अल्वा किसके सत्रह जाएगी आम आदमी पार्टी

Report Times

Leave a Comment