Report Times
latestOtherकर्नाटकटॉप न्यूज़ताजा खबरेंमहाराष्ट्रराजनीतिस्पेशल

महाराष्ट्र के 40 गांवों पर कर्नाटक का दावा, शिंदे-फडणवीस बोले- एक भी गांव जाने नहीं देंगे

REPORT TOMES 

Advertisement

महाराष्ट्र और कर्नाटक सीमा विवाद बहुत पुराना है. दरअसल दोनों राज्यों के कुछ ऐसे सीमावर्ती भाग हैं जिन पर दोनों राज्यों के अपने-अपने दावे हैं. महाराष्ट्र का कर्नाटक के कुछ इलाकों में मराठी भाषी लोगों की तादाद ज्यादा होने के आधार पर दावा कायम है. इसी तरह कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई ने भी महाराष्ट्र  के सांगली जिले के जत तालुका के 40 गांवों पर कन्नड़ भाषियों की तादाद ज्यादा होने की वजह से आज (23 नवंबर, बुधवार) यह दावा किया कि वे कर्नाटक में शामिल होना चाहते हैं. महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे और उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इसका जोरदार जवाब दिया है.

Advertisement

यह विवाद एक बार फिर से गरमाने की वजह यह है कि आज से सुप्रीम कोर्ट में महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद पर सुनवाई हो रही है. ऐसे मौके पर कर्नाटक के सीएम ने कहा, ‘महाराष्ट्र के जत तालुका के 40 गांवों के लोग कर्नाटक में शामिल होना चाहते हैं. हम उनकी मांग पर गंभीरता से विचार कर रहे है.’ इसके बाद महाराष्ट्र में इस पर हर पार्टी की ओर से प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गईं.

Advertisement

Advertisement

महाराष्ट्र के सीएम शिंदे की प्रतिक्रिया, एक भी गांव नहीं जाने का दिया भरोसा

Advertisement

‘यह मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. जत तालुका के गांवों की मांग पुरानी है. वहां पानी की कमी की समस्या है. कल और परसों हमारी इस पर अहम बैठक हुई है. हम एक भी गांव महाराष्ट्र से कर्नाटक जाने नहीं देंगे. कोर्ट के फैसले का सम्मान करतेहुए, केंद्र सरकार की मदद से बातचीत से सुलझाएंगे.’ महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने आज शिरडी में साईं बाबा का दर्शन करने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा.

Advertisement

फिर भी कर्नाटक के सीएम के बयान पर महाराष्ट्र में घमासान

Advertisement

शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट के सांसद संजय राउत ने कहा कि कर्नाटक में बीजेपी की सरकार है, महाराष्ट्र में मिंधे गुट (कमजोर) की सरकार है जो बीजेपी के इशारे पर चलती है. बीजेपी महाराष्ट्र को 4-5 टुकड़ों में बांटना चाहती है. बीजेपी के सीनियर लीडर सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि यह जवाहरलाल नेहरू की गलती है कि राज्य में सीमाओं को इस तरह से अतार्किक तरीके से निर्धारित किया गया. अगर कर्नाटक सरकार महाराष्ट्र के 40 गांवों पर दावा कर रही है तो कर्नाटक में भी ऐसे सैकड़ों गांव हैं, जिन पर हमारा दावा है, यह उनको ध्यान रहे.

Advertisement

महाराष्ट्र से कोई गांव कर्नाटक नहीं जाएगा, इलाके वहां से यहां आएंगे

Advertisement

इस पूरे मामले पर नागपुर में मीडिया से संवाद करते हुए देवेंद्र फडणवीस ने आज कहा, ‘सीमा विवाद के मुद्दे पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कुछ दिनों पहले एक अहम बैठक की. इस बैठक में अहम फैसले किए गए. सीमावर्ती भागों में रहने वाले लोगों की पूरी मदद करने की हमारी योजनाएं शुरू हैं. इसीलिए शायद कर्नाटक के सीएम ने यह बयान दिया है. महाराष्ट्र का एक भी गांव कहीं नहीं जाएगा. हम सुप्रीम कोर्ट में लड़ते हुए कर्नाटक से बेलगाम, कारवार, निपाणी समेत कई गांव वापस महाराष्ट्र में लाएंगे.’

Advertisement

‘गांवों को पानी होगा उपलब्ध, दूर होगी शिकायत’

Advertisement

फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र के जत तालुका के गांवों ने साल 2012 में कर्नाटक जाने की इच्छा जताई थी. लेकिन यह बात पुरानी हो चुकी है. गांववालों की शिकायत थी कि उन्हें पानी नहीं मिल रहा है. फडणवीस ने कहा कि जब वे मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने कर्नाटक से बातचीत की थी. म्हैसाल की संशोधित योजना में इन गांवों को शामिल किया गया था.

Advertisement

आगे फडणवीस ने कहा कि पिछले ढाई साल में महाविकास आघाड़ी सरकार के वक्त इन योजना को मान्यता नहीं दी गई. हो सकता है कोरोना की वजह से निर्णय नहीं लिया गया हो. अब इस योजना पर पूरी रफ्तार से काम हो रहा है. गांवों को पानी जल्दी उपलब्ध होगा. इसके लिए केंद्र सरकार ने भी पैसे दिए हैं. योजनाएं पूरी करने के लिए पैसों की कोई कमी नहीं है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

लैब टेक्नीशियन दिवस मनाया: कोरोना काल में किए गए कार्य की सराहना की गई

Report Times

सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ के खाते में एक और उपलब्‍ध‍ि, रोजगार उपलब्ध कराने में नंबर वन बना उत्तर प्रदेश

Report Times

Lexus LX600 : भारत में शुरू हुई Lexus के इस धांसू कार की बुकिंग, जानें टोकन मनी से लेकर फीचर्स तक की डिटेल्स

Report Times

Leave a Comment