Report Times
latestOtherगुजरातटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिस्पेशल

गुजरात में आजादी के बाद कांग्रेस की सबसे बड़ी हार, प्रभारी रघु शर्मा ने ली जिम्मेदारी, दिया इस्तीफा

REPORT TIMES

Advertisement

गुजरात में चुनावों के बाद मतगणना अभी जारी है लेकिन अभी तक के आंकड़ों से साफ है कि गुजरात में बीजेपी लगातार सातवीं बार सरकार बनाने जा रही है. इसी बीच गुजरात में हार की ज़िम्मेदारी लेते हुए कांग्रेस के राज्य प्रभारी रघु शर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. फिलहाल गुजरात विधानसभा चुनावों की मतगणना में आए रुझानों में बीजेपी (BJP) 156 सीटों पर आगे चल रही है. वहीं कांग्रेस महज 17 सीटों पर आगे है. इसके अलावा आप 5 सीटों पर तो अन्य 4 पर आगे चल रहे हैं. मालूम हो कि चुनाव से ठीक पहले अल्पेश ठाकोर, हार्दिक पटेल, प्रदेश में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विपक्ष के पूर्व नेता मोहन सिंह राठवा समेत कई नेताओं ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया था. वहीं माना जा रहा है कि आम आदमी पार्टी के भी चुनाव लड़ने के कारण कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा है. बता दें कि आजादी के बाद कांग्रेस की गुजरात में यह सबसे बुरी हार है.

Advertisement

दरअसल रघु शर्मा राजस्थान सरकार में स्वास्थ्य मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे थे और वह अजमेर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में जीतकर चर्चाओं में आए थे. इसके बाद 2018 में अजमेर की केकड़ी सीट से जीते और गहलोत कैबिनेट में शामिल हुए. रघु शर्मा को अक्टूबर 2021 में गुजरात का प्रभारी बनाया गया था.

Advertisement

Advertisement

दांव पर लगी थी रघु शर्मा की प्रतिष्ठा

Advertisement

बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव में राजस्थान के कांग्रेस विधायक रघु शर्मा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी. वहीं रघु ने प्रभारी बनने के लिए बड़ा त्याग किया है, क्योंकि इससे पहले वह राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री थे जिसके बाद पार्टी में एक व्यक्ति, एक पद सिद्धांत के चलते उन्होंने मंत्री पद छोड़ दिया था. पिछले काफी समय से वह पूरी सक्रियता से गुजरात चुनाव की बागडोर संभाल रहे थे. माना जा रहा था कि गुजरात चुनाव उनका भविष्य तय करेगा.

Advertisement

मंत्री पद छोड़ बने थे प्रभारी

Advertisement

मालूम हो कि रघु शर्मा ने अब तक सात चुनावों में किस्मत आजमाई है जहां वह तीन चुनावों में जीत हासिल कर पाए हैं. रघु ने पहला विधानसभा चुनाव 1990 में लड़ा था जहां भिनाय सीट पर बीजेपी के सांवरलाल जाट ने उन्हें 16 हजार 889 वोटों से हराया था. इसके बाद 1993 में दूसरी बार बीजेपी के सांवरलाल जाट से भिनाय सीट पर 6 हजार 34 वोट से हार गए.

Advertisement

1999 में जयपुर से गिरधारी लाल भार्गव के सामने पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा और एक लाख 41 हजार 790 मतों से हार गए. लगातार तीन बड़े चुनाव हारने के बाद भी जीत के लिए संघर्ष करते रहे रघु को 18 साल बाद विधानसभा चुनाव 2008 में पहली बार जीत मिली जहां वह अपने गृह क्षेत्र केकड़ी में बीजेपी की रिंकू कंवर के सामने 12 हजार 659 वोटों से जीते.

Advertisement

गौरतलब है कि गुजरात में कांग्रेस की संभावनाएं काफी हद तक कम थी लेकिन कांग्रेस और ‘आप’ के बीच वोट बंटने से बीजेपी की जीत ‘बड़ी’ हो गई है. फिलहाल वोट प्रतिशत की बात करें तो गुजरात में बीजेपी को 52 फीसदी वोट मिले हैं वहीं कांग्रेस को 27 और आम आदमी पार्टी को लगभग 13 फीसदी वोट मिले हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

प्रमोद भगत ने इंटरनेशनल टूर्नामेंट में तीनों वर्ग में स्वर्ण पदक जीता.

Report Times

गेहूं, चावल की मजबूरी या बदला मन, पीएम मोदी से अचानक मिले तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन

Report Times

चिड़ावा में पुलिस-प्रशासन ने निकाला फ्लैगमार्च

Report Times

Leave a Comment