Report Times
latestOtherकार्रवाईक्राइमजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

पेपर लीक के मास्टरमाइंड पहुंचे थाईलैंड, तस्करों ने करवाया बॉर्डर पार..वहीं की नए साल की पार्टी

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान लोक सेवा आयोग की सैकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा का पेपर लीक मामले में राजस्थान सरकार एक्शन मोड में है. सरकार ने पेपर लीक में मास्टरमाइंड बताए जा रहे आरोपी सुरेश ढाका और भूपेंद्र सारण के कोचिंग सेंटर पर सोमवार को बुलडोजर चलवा दिया. वहीं आरोपियों के जयपुर में बने आलीशान बंगलों पर कार्रवाई की भी तैयारी चल रही है. इधर दोनों ही आरोपी 19 दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है. वहीं दोनों आरोपियों के पहली बार नेपाल में होने की जानकारी सामने के बाद अब पता चला है कि मास्टरमाइंड सुरेश ढाका और भूपेंद्र सारण थाईलैंड पहुंच गए हैं. भास्कर की एक रिपोर्ट से पता चला है कि दोनों आरोपियों ने थाईलैंड में नए साल का जश्न भी मनाया. हालांकि पुलिस उनके घर और रिश्तेदारों के यहां दोनों की तलाश कर रही है. बताया जा रहा है कि ढाका और सारण नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार होते हुए थाईलैंड पहुंचे हैं.

Advertisement

बता दें कि दोनों आरोपी एक हफ्ते में जयपुर से हजारों किलोमीटर दूर निकल गए हैं और अब पता चला है कि अवैध रूप से थाईलैंड पहुंचने के बाद दोनों आरोपियों ने अपने करीबी दोस्तों को वीडियो कॉल कर थाईलैंड के नजारे भी दिखाए हैं.

Advertisement

Advertisement

पेपर लीक वाले दिन कार से हुए नेपाल रवाना

Advertisement

बताया जा रहा है कि सुरेश ढाका ने चित्रकूट स्थित अपने घर और गुर्जर की थड़ी पर बने अधिगम कोचिंग सेंटर पर एक कंट्रोल रूम बना रखा था जहां 24 दिसंबर को पेपर वाले दिन यहीं से दोनों उदयपुर में सुरेश बिश्नोई को डायरेक्शन दे रहे थे.

Advertisement

वहीं बिश्नोई के पकड़े जाने के बाद सुरेश ढाका ने पहले अपने साथियों को पुलिस से छुड़वाने की कोशिश की लेकिन समझौता नहीं होने पर दोनों ने उसी दिन जयपुर से नेपाल भागने का प्लान बनाया जिसके बाद शाम को करीब 6 से 7 बजे के बीच दोनों कार से नेपाल रवाना हो गए.

Advertisement

वहीं पता चला है कि सुरेश ढाका और भूपेंद्र सारण नेपाल में कई दिनों तक रहने और खाने-पीने के खर्च के लिए अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के एटीएम कार्ड तक साथ लेकर चले गए. रिपोर्ट के मुताबिक दोनों आरोपी जयपुर से अलवर, आगरा, ग्वालियर, लखनऊ होते हुए करीब 13 से 14 घंटे का सफर तय कर नेपाल के काठमांडू पहुंचे जहां वह चार दिन तक रुके.

Advertisement

तस्करों की मदद से पहुंचे थाईलैंड

Advertisement

वहीं नेपाल के एक होटल में 4 दिन रूकने के बाद दोनों ने वहां से फरार होने की प्लानिंग बनाई लेकिन भूपेंद्र सारण के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने से उसका पासपोर्ट नहीं बन सका. इसके बाद दोनों ने सड़क के रास्ते थाईलैंड जाने का सोचा और इसके बाद 29 दिसंबर को वह सड़क के रास्ते से बॉर्डर क्रॉस कर थाईलैंड पहुंच गए.बताया जा रहा है कि सुरेश ढाका नेपाल और बांग्लादेश के कई तस्करों को जानता था जिनकी मदद से दोनों ने बॉर्डर पार किया और इसके बाद वह बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार होते हुए थाईलैंड पहुंचे.

Advertisement
Advertisement

Related posts

चिड़ावा में बृजेन्द्र ओला दिखे कंफ्यूजन में: मुख्यमंत्री बदले जाने के सवाल पर मंत्री ओला बोले- नो कमेंट; फिर संभलते हुए कहा- पायलट और गहलोत हैं कांग्रेस के सिपाही

Report Times

क्या पता कब किसे धोखा दे दें- अखिलेश यादव पर CM योगी आदित्यनाथ का तंज

Report Times

अजमेर दक्षिण सीट पर BJP कायम रखेगी जीत या कांग्रेस करेगी वापसी?

Report Times

Leave a Comment