Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीराजनीतिस्पेशल

लोगों के बीच जाऊंगा, करूंगा महारैली; BJP को नहीं मिलेगी 7 में से एक भी सीट’- केंद्र के अध्यादेश पर अरविंद केजरीवाल

REPORT TIMES

Advertisement

नई दिल्ली: एक बार फिर दिल्ली बनाम केंद्र सरकार की लड़ाई छिड़ गई है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कल केंद्र सरकार ने जैसे ही सुप्रीम कोर्ट छुट्टियों के लिए बंद हुआ. कुछ घंटे बाद ही ऑर्डिनेंस (अध्यादेश) लाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को केंद्र सरकार ने पलट दिया. सीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा था कि सर्विसेज दिल्ली सरकार के अंडर में आएगी. कोर्ट 4 बजे बंद हुआ और केंद्र सरकार 10 बजे अध्यादेश ले आई.केंद्र सरकार पर हमलावर होते हुए केजरीवाल ने कहा कि इन्होंने पहले दिन ही सोच लिया था कि अध्यादेश लाना था. इसमें 8 दिनों का अंतर था. पहले तीन दिन सर्विस सेक्रेटरी गायब रहा, फिर चीफ सेक्रेटरी ने 3 दिन खराब किए तो सवाल ये है कि सुप्रीम कोर्ट के बंद होने के बाद ही अध्यादेश क्यों लेकर आए?

Advertisement

Advertisement

कोर्ट खुलते ही करेंगे चैलेंज- सीएम केजरीवाल

Advertisement

इसके साथ ही सीएम केजरीवाल ने कहा कि इनका मन साफ नहीं था, तो क्या ये अध्यादेश इस सवा महीने के लिए ही लाया गया है? कोर्ट खुलते ही हम चैलेंज करेंगे. सीएम ने कहा कि दूसरी तरफ केंद्र सरकार ने उस फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल की है. इसका मतलब क्या है जब उस जजमेंट को ही खत्म कर दिया. केजरीवाल ने कहा कि यह अध्यादेश दिल्ली के 2 करोड़ लोगों को तमाचा है. दिल्ली की जनता को सरकार चुनने का अधिकार है. इस तरह से से सरेआम जनतंत्र को कुचलना सही नहीं है.

Advertisement

बिल न पास होने को लेकर विपक्षी दलों से करेंगे बात

Advertisement

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वह दिल्ली के लोगों के बीच जाएंगे. बहुत जल्द महारैली भी करेंगे. साथ ही कहा कि मुझे लगता है कि दिल्ली में बीजेपी को सात में से 1 भी सीट नहीं मिलेगी. केजरीवाल ने आगे कहा कि आज इस मंच से सभी विपक्षी दलों से कहूंगा कि इस बिल को राज्यसभा में पास नहीं होने देना है. वब खुद सभी विपक्षी नेताओं से बात करेंगे. इस बिल को राज्यसभा में न पास होने का प्रयास करेंगे.

Advertisement

2000 के नोटों को लेकर सीएम ने साधा निशाना

Advertisement

इसके साथ ही दिल्ली के सीएम ने आरबीआई द्वारा 2000 के नोट वापस लिए जाने के फैसले पर केंद सरकार को घेरा. उन्होंने कि मोदी सरकार 3-4 सालों में जनता को लाइन में लगा देती है. जब 2000 के नोट आए थे. तब बोला गया था कि इन नोटों से भ्रष्टाचार खत्म होगा. जब नोट हटा रहे हैं तो फिर बोल रहे हैं कि इससे भ्रष्टाचार खत्म होगा.

Advertisement
Advertisement

Related posts

Skin Care Tips: चेहरे से हर तरह की समस्या को दूर कर देगा यह एक फल, जानें खाने का सही तरीका

Report Times

IND Vs WI: बीसीसीआई ने की टी20 टीम की घोषणा, विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह टीम से बहार

Report Times

चिड़ावा : रक्तदान शिविर में 150 यूनिट से ज्यादा रक्तदान

Report Times

Leave a Comment