Report Times
latestOtherकरियरजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

सचिन पायलट मामले में सुलह की कोशिश में हाईकमान:आज गहलोत और पायलट के साथ खरगे की बैठक; कल खत्म होगा अल्टीमेटम, अगले सियासी कदम को लेकर घोषणा संभव

REPORT TIMES 

Advertisement

बीजेपी राज के करप्शन पर कार्रवाई और पेपर लीक के मुद्दे पर सचिन पायलट के अल्टीमेटम के बीच कांग्रेस हाईकमान मामले में सुलह की कोशिश में जुट गया है। सचिन पायलट का अल्टीमेटम कल खत्म हो रहा है। मामले में सुलह नहीं होने पर 31 मई के बाद सचिन पायलट नए सिरे से आंदोलन की घोषणा कर सकते हैं। कांग्रेस हाईकमान से जुड़े नेता पूरे मामले में बीच का रास्ता निकालकर सुलह के प्रयास में हैं। राजस्थान के मामले को लेकर दिल्ली में अंदरखाने नेताओं के बीच मुलाकातों और बातचीत का सिलसिला जारी है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे आज ​अशोक गहलोत और सचिन पायलट से अलग-अलग मिलने वाले हैं। दोनों नेता खरगे से मिलकर अपनी बात रख सकते हैं। राजस्थान के विधानसभा चुनावों को लेकर भी दिल्ली में बैठक है। इसमें वरिष्ठ नेता शामिल होंगे। उस बैठक में पायलट को भी बुलाया है। चुनावी रणनीति वाली बैठक पांचों चुनावी राज्यों की अलग-अलग हो रही हैं, लेकिन सबकी निगाह गहलोत-पायलट मामले को लेकर मल्लिकार्जुन खरगे से होने वाली बैठक पर टिकी है।

Advertisement

Advertisement

खरगे बोले- पार्टी हित में जो होगा उस पर चर्चा करेंगे

Advertisement

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने राजस्थान के मुद्दे पर कहा है कि नेता आने वाले हैं। उनसे डिस्कशन होगा। जो पार्टी हित में होगा, उस पर चर्चा करेंगे।

Advertisement

15 मई को दिया था अल्टीमेटम, मांगें अब तक अधूरी

Advertisement

सचिन पायलट ने पेपर लीक और बीजेपी राज के करप्शन के खिलाफ 11 मई से अजमेर से जयपुर के बीच पैदल यात्रा की थी। 15 मई को यात्रा के समापन पर जयपुर के मानसरोवर में की गई सभा में पायलट ने तीन मांगें रखकर 15 दिन में उन पर कार्रवाई करने का अल्टीमेटम दिया। पायलट ने पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे की सरकार के करप्शन पर हाईलेवल कमेटी बनाने, आरपीएससी को भंग कर पुनर्गठन करने और पेपर लीक से प्रभावित बेरोजगारों को मुआवजा देने की मांग रखी थी। तीनों मांगें पूरी नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी थी। पायलट के अल्टीमेटम को 30 मई को 15 दिन पूरे हो जाएंगे। तीनों में से किसी मांग को सरकार ने नहीं माना है।

Advertisement

गहलोत ने कहा था- ‘बुद्धि का दिवालियापन’

Advertisement

पायलट की मांगों पर सीएम अशोक गहलोत ने विपक्ष की आड़ लेकर कहा था कि पेपर लीक पर मुआवजा मांगने को बुद्धि का दिवालियापन नहीं कहेंगे क्या, अब तक कभी पेपर लीक पर किसी सरकार ने मुआवजा दिया है क्या, ऐसा कभी हुआ है? गहलोत ने यह बयान गुरुवार शाम को जयपुर में सिंधीकैंप बस स्टैंड के नए टर्मिनल के लोकार्पण समारोह में दिया था। गहलोत ने मुआवजे की मांग को “बुद्धि का दिवालियापन’ बताकर यह संकेत दे दिए कि तीनों में से किसी मांग को नहीं माना जाएगा।

Advertisement

फिलहाल टकराव साफ दिख रहा

Advertisement

पायलट और गहलोत के खेमों के बीच अभी तक टकराव के आसार साफ दिख रहे हैं, हालांकि हाईकमान के नेता अंदरखाने सुलह की कोशिश में लगे हैं। सुलह का रास्ता पायलट और गहलोत पर निर्भर करेगा। दोनों नेता कितना झुकते हैं। इस पर सब कुछ निर्भर करेगा। कांग्रेस हाईकमान आज दोनों नेताओं को अलग-अलग बुलाकर सुलह का फाॅर्मूला तय कर सकता है।

Advertisement

आज और कल का दिन रहेगा अहम

Advertisement

सचिन पायलट मामले को सुलझाने में आज और कल का दिन अहम माना जा रहा है। राजनीतिक जानकारों के मुताबिक इस मामले में पायलट को भी अपने समर्थक वर्ग को जवाब देना है, क्योंकि उन्होंने अल्टीमेटम देकर आंदोलन की चेतावनी दी थी। अल्टीमेटम कल खत्म हो रहा है। अल्टीमेटम खत्म होने के बाद अब आगे क्या करेंगे, इसके बारे में भी पायलट को घोषणा करनी होगी, क्योंकि राजनीतिक विश्वसनीयता का मामला है। अगर सुलह होती है तो एक रास्ता यह भी है कि पायलट अल्टीमेटम को आगे बढ़ा सकते हैं। सबसे बड़ा मुद्दा तीनों मांगों का है, सवाल यह भी है कि उनके पूरे हुए बिना पायलट जनता के बीच जाकर कहेंगे क्या? फिलहाल गहलोत ने तीनों मांगों पर इशारों में रेड सिग्नल दे दिया है। इस हालत में सब कुछ हाईकमान पर निर्भर करेगा। पायलट की मांगों पर सहमति बनती है तो ही सुलह का रास्ता बनता है।

Advertisement

टिकट वितरण में पायलट की भूमिका पर भी चर्चा

Advertisement

सचिन पायलट मामले में सुलह का कोई भी फाॅर्मूला तय होता है तो अल्टीमेटम की तीन मांगों के साथ उनके सियासी मुद्दों पर भी चर्चा होने के आसार हैं। पायलट टिकट वितरण में अपनी भूमिका भी चाहेंगे। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक सुलह फाॅर्मूले में पायलट की पार्टी में भूमिका पर भी चर्चा होगी। विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने में चार महीने का समय बचा है। अगले दो महीनों में चुनावी कमेटियां बन जाएंगी और टिकट वितरण पर एक्सरसाइज शुरू हो जाएगी। टिकट पर फैसला करने वाली कमेटियों में पायलट शामिल होते हैं तो ही वे समर्थकों को टिकट दिलवा पाएंगे, इसलिए यह मुद्दा भी अहम रहेगा।

Advertisement

सुलह नहीं हुई तो टकराव बढ़ेगा

Advertisement

पायलट से अगर सुलह नहीं होती है तो फिर राजस्थान कांग्रेस में टकराव बढ़ेगा। पायलट फिर सियासी अलगाव के रास्ते पर आगे बढ़ सकते हैं। कांग्रेस के जानकारों का मानना है कि हाईकमान के पास पूरा फीडबैक है, इसीलिए सुलह की कोशिश शुरू की है। पायलट अलग सियासी लाइन लेते हैं तो चुनावी साल में कांग्रेस को ही नुकसान है, इसी नुकसान से बचने के लिए सियासी सुलह करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

Advertisement
Advertisement

Related posts

दिल है कि मानता नहीं! अंजू के बाद दीपिका पर इश्क का खुमार, इमरान के साथ कुवैत भागी दो बच्चों की मां

Report Times

आपकी सरकार आई तो…पीएम मोदी के राजस्थान दौरे से पहले ये क्या बोल गए गहलोत

Report Times

सबसे पावरफुल टेलीस्कोप से लेकर जान बचाने वाले ड्रोन तक, दुनिया को मिले ये छह तोहफे

Report Times

Leave a Comment