Report Times
latestOtherकार्रवाईक्राइमटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीस्पेशल

IPL सट्टे में हार, डिलीवरी ब्वॉय-पेशेवर मुजरिम, प्रगति मैदान टनल के लुटेरों की कुंडली

REPORT TIMES 

Advertisement

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के प्रगति मैदान टनल में हुई लूट की वारदात को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने सुलझाने का दावा किया है. सनसनीखेज लूट के इस मामले में पुलिस ने 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. दरअसल, 24 जून को पुलिस के जानकारी मिली कि प्रगति मैदान के पास टनल में एक ओला कैब में सवार 2 लड़को से बाइक सवार 4 हथियारबंद बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम दिया है. बेखौफ बदमाशों ने जिस तरह से सरेआम लूट की इस वारदात को अंजाम दिया. उसने दिल्लीवालों की सुरक्षा को लेकर पुलिस के तमाम दावों पर सवाल खड़े कर दिए हैं. सरेआम, वीवीआइपी इलाके में लूट की इस वारदात का सीसीटीवी सामने आते ही दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से लेकर दिल्ली पुलिस को घेरना शुरू कर दिया.

Advertisement

पुलिस ने 7 बदमाशों को गिरफ्तार किया

Advertisement

मामले की संजीदगी और गंभीरता को देखते हुए क्राइम ब्रांच के अलावा 2 जिलों की पुलिस को तफ्तीश में लगा दिया गया है. जल्द से जल्द बदमाशों की गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस के लिए नाक का सवाल बन गई है. इसीलिए टेक्निकल से लेकर मैन्युअल तक सभी तरह की इंटीलीजेंस और इन्वेस्टिगेशन शुरू कर दी गई है. इसका नतीजा ये रहा कि पुलिस ने वारदात में शामिल 7 बदमाशों को धर दबोचा है.क्राइम ब्रांच के स्पेशल सीपी रविन्द्र यादव ने बताया कि इस केस में खास बात यह है कि सब तरह की जो इन्वेस्टिगेशन होती है. सीडीआर की जांच करना, सीसीटीवी फुटेज, ह्यूमन इंटेलिजेंस और साथ में सभी टीम का अलग-अलग जगह पर दबिश देना. चाहे हरियाणा हो, दिल्ली हो या उत्तर प्रदेश हो सभी टीम ने बेहतरीन कोआर्डिनेशन किया है.

Advertisement

Advertisement

वारदात को अंजाम देने से पहले की रेकी

Advertisement

वहीं, पकड़े गए आरोपियों से जब पूछताछ शुरू हुई तो कई चौकाने वाली बातें सामने आईं हैं. पकड़े गए बदमाशों में मुखबिर से लेकर पेशेवर लुटेरे शामिल थे. जिन्होंने इस वारदात को अंजाम देने से पहले पूरा होमवर्क किया था. उन्होंने चांदनी चौक इलाके की रेकी की थी. जिन्हें पता था कि कौन, कब और कैसे इस इलाके से पैसे लेकर निकलता है. इसी रेकी के बाद इन्होंने साजन और जिगर पटेल को टारगेट किया. क्राइम ब्रांच के स्पेशल सीपी रविन्द्र यादव ने बताया कि जो कहानी सामने आ रही है. वह उस तरह की है कि इसमें पुराने रॉबर भी हैं. नए लड़के भी हैं. मुखबिर भी हैं. सब ने मिलकर इस को अंजाम दिया है. बदमाशों ने इस वारदात को बड़े प्रोफेशनल तरीके से अंजाम दिया है. 7 बदमाशो ने अपना-अपना काम आपस मे बांट लिया था. चार बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया तो किसी ने बाइक का अरेंजमेंट किया तो किसी ने लूट का माल छिपाने के लिए जगह मुहैया करवाई.

Advertisement

कर्ज को चुकाने के लिए की लूट की प्लानिंग

Advertisement

रविन्द्र यादव ने बताया कि इसमें जो एक कैरेक्टर है. उस्मान वह 25 साल का है. वह बुरारी का रहने वाला है. 7 साल से अमेजन का डिलीवरी ब्वॉय था. चांदनी चौक का जो इलाका है. वहां पर कूरियर बॉय का काम करता था. इसको आईडिया था कि यह जो इलाका है कुचा महाजनी हैदर कुली वाला यहां पर कैश का आना जाना रहता है. इसके दिमाग में आया कि मेरे ऊपर जो लोन हैं. आईपीएल के सट्टे में पैसा हार गया था. कर्जे को कैसे उतारा जाए इसके लिए प्लान बनाया की लूट कर लेते हैं. पुलिस के मुताबिक, सबसे पहले उस्मान ने अपने कजन इरफान को साथ मिलाया. दोनों ने मिलकर लूट का प्लान बनाया. जिसमें बागपत के रहने वाले 2 लड़को अनुज मिश्रा और प्रदीप को शामिल किया गया. जिनकी जिम्मेदारी थी वारदात को अंजाम देने के लिए अपाचे और स्प्लेंडर मोटरसाइकिल मुहैया करवाना इन्हें भी लूट के माल का कुछ प्रतिशत हिस्सा देने का वादा किया गया था. क्राइम ब्रांच के स्पेशल सीपी रविन्द्र यादव ने बताया कि कि उनको बोला गया कि तुम लोग बाइक अरेंज करके लाओ. वह चोरी की बाइक अरेंज करके लाए. एक स्प्लेंडर और एक अपाचे दो बाइक बरामद कर ली गई हैं. कहां से चोरी की गई है. इसके बारे में पता किया जा रहा है.

Advertisement

टनल में लूट करने से नहीं होगी दिक्कत

Advertisement

सब कुछ तय हो जाने के बाद साजिश के तहत इरफान, उस्मान, अनुज मिश्रा, सनकी और प्रदीप नाम का बदमाश 2 अलग-अलग मोटर साइकलों पर वारदात को अंजाम देने के लिए निकल पड़े. साजन और उसका साथी जैसे ही ओला कैब से टनल के पास पहुंचे इन्होंने हथियार के बल पर पहले कार रुकवाई और फिर नोटों से भरा बैग लूट कर फरार हो गए. रविन्द्र यादव ने बताया कि इनको पता था कि कि टनल के पास लूट को अंजाम देना ठीक है. वहां कोई रुकेगा नहीं.

Advertisement

लाल किले के पास लगे CCTV कैमरे से मिली मदद

Advertisement

इस वारदात को सुलझाने में सबसे अहम मदद लाल किले के पास लगे सीसीटीवी कैमरे की है. जिसमें इरफान और सुमित दोनों लगातार 3 दिन तक इलाके में रेकी करते हुए स्पॉट किए गए. रविंद्र यादव ने कहा कि सुमित यह भी सब्जी बेचता है. जिसको उस्मान अपने साथ लेकर जाता था. सिर्फ इसलिए लेकर जाता था ताकि यह ना लगे कि कोई यहां पर रेकी करने आया है. फिलहाल, पुलिस ने इस वारदात में शामिल 7 बदमाशो को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने इनके पास से लुटे गए 5 लाख रुपये कैश भी बरामद कर लिए हैं. साथ ही तफ्तीश इस बात की चल रही है कि आखिर कितना कैश लूटा गया है? क्योंकि शुरुआत में कारोबारी ने महज 2 लाख रुपये लुटे जाने की शिकायत की थी.

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजस्थान में इंदिरा रसोई योजना बदला नाम, PM मोदी के सामने CM भजनलाल ने की नए नाम की घोषणा

Report Times

लोक सेवा ट्रस्ट की अमृत महोत्सव तैयारी बैठक

Report Times

शेखावाटी डिफेंस एकेडमी ने किया प्रतिभाओं का सम्मान

Report Times

Leave a Comment