Report Times
latestOtherकरियरकार्रवाईकोटाक्राइमटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

एजुकेशन हब या सुसाइड पॉइंट! कोटा 2 महीने में 9 छात्रों ने लगाई फांसी, पढ़ाई का प्रेशर या लव अफेयर?

REPORT TIMES 

Advertisement

 राजस्थान का कोटा एजुकेशन का बड़ा हब है. आईआईटी और मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्रों की पहली पसंद है. छात्र यहां अपने सपनों को लेकर आते हैं और उसी सपने को पूरा करने में जी जान से जुट जाते हैं. हालांकि पिछले कुछ समय से कोटा छात्रों के सुसाइड को लेकर सुर्खियों में है. इसी साल मई और जून के महीने में अब तक कोटा में नौ छात्र सुसाइड कर चुके हैं. यही नहीं बीते मंगलवार को एक साथ दो छात्रों ने फांसी लगा ली. सुसाइड की इन घटनाओं से छात्रों को कोटा भेजने वाले माता-पिता भी चिंचित हैं. बीते मंगलवार को उदयपुर के एक 18 वर्षीय मेडिकल के छात्र ने अपने हॉस्टल के कमरे में फांसी लगा ली. पुलिस के मुताबिक, मेहुल वैष्णव नाम का छात्र NEET की तैयारी कर रहा था. पुलिस का कहना है कि छात्र के शव के पास से कोई भी सुसाइड नोट भी नहीं मिला. छात्र उदयपुर जिले के सलुम्बर का निवासी था. अभी दो महीने पहले ही कोटा आया था. यहां एक इंस्टीट्यूट में NEET की तैयारी कर रहा था.

Advertisement

Advertisement

घटना के समय बाहर गया हुआ था रूममेट

Advertisement

पुलिस ने बताया कि हमें सूचना मिली कि विज्ञान नगर इलाके के एक हॉस्टल में छात्र मेहुल ने फांसी लगा ली है. जब हम मौके पर पहुंचे तो देखा कि छात्र का शव पंखे से लटक रहा था. मेहुल के साथ उसका एक रूम पार्टनर भी था, लेकिन घटना के समय वह मौके पर मौजूद नहीं था. वह रात में ही कहीं बाहर चला गया था. सुबह जब काफी समय तक मेहुल ने रूम नहीं खोला तो अन्य छात्रों को अनहोनी की आशंका हुई.

Advertisement

केयर टेकर ने तरवाजा तोड़कर देखा तो पंखे से लटका मिला शव

Advertisement

छात्रों ने इसकी जानकारी केयर टेकर को दी. केयर टेकर ने जब दरवाजा तोड़ा तो देखा कि मेहुल पंखे से लटका हुआ था. पुलिस ने मेहुल के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. उसी दिन कोटा में इसी तरह की एक घटना और घटी. मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्र ने फांसी लगाकर जान दे दी. वह कोटा में ही एक कोचिंग इंस्टीट्यूट में मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहा था. वह दो महीने पहले ही कोटा आया था.

Advertisement

2 महीने में 9 छात्रों ने किया सुसाइड

Advertisement

बता दें कि पिछले दो महीनों में कोटा में कुल नौ छात्रों ने आत्महत्या की है, जिनमें से पांच मामले मई महीने में और चार मामले इस साल जून में सामने आए हैं. इस बीच, मृत छात्रों के माता-पिता ने अपने बच्चों द्वारा उठाए गए ऐसे कदम के पीछे के कारणों पर चिंता जताई है. माता-पिता का कहना है कि उन्हें अभी तक कॉलेज/संस्थान के अधिकारियों से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है कि क्या छात्रों को पढ़ाई को लेकर दबाव का सामना करना पड़ा है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजस्थान: सुबह-सुबह हुआ बड़ा हादसा, कैला देवी दर्शन करने जा रहे तीन श्रद्धालुओं की दर्दनाक मौत

Report Times

पति के साथ जा रही युवती पर बरसाई गोलियां, मुस्लिम युवक से शादी करने पर खफा था परिवार

Report Times

चिड़ावा में है अद्भुत मूंछों वाले राम-लक्ष्मण:राम दरबार के सामने विराजे हैं दक्षिण मुखी हनुमान, बड़ी संख्या में दर्शन के लिए आते है श्रद्धालु

Report Times

Leave a Comment