Report Times
latestOtherकरियरकार्रवाईक्राइमगिरफ्तारजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

पेपर लीक मामले में नया अपडेट… शिक्षक राजेन्द्र ने पुत्रवधु को पेपर पढ़ा बनाया फर्स्ट ग्रेड टीचर, कई रिश्तेदारों को भी दिलाई नौकरी

REPORT TIMES 

Advertisement

जयपुर। पेपर लीक मामले में एसओजी के हत्थे चढ़े शिक्षक राजेन्द्र यादव ने अपने कई परिचितों को सरकारी नौकरी में लाने के लिए प्रतियोगी परीक्षा से पहले पेपर पढ़ाया। सूत्रों के मुताबिक, एसओजी की पड़ताल और आरोपी से पूछताछ में सामने आया है कि उसने अपनी पुत्रवधु को भी फस्ट ग्रेड टीचर का पेपर परीक्षा से पहले पढ़ा दिया था। पुत्रवधु का परीक्षा में चयन भी हो गया था और चित्तौड़गढ़ में उसकी नौकरी लगी। गत सरकार में आरोपी ने राजनीति पहुंच के चलते पुत्रवधु का तबादला जयपुर करवा लिया था. एसओजी ने आरोपी शिक्षक राजेन्द्र के संबंध में उसके निवास स्थान के आस पास क्षेत्र में पड़ताल की। कुछ लोगों ने बताया कि शिक्षक राजेन्द्र ने अपने बेटे की शादी की और बहू को पहली बार घर लाया था, तब सोने के जेवरों से लाद रखा था। बहू को इतना सोना पहना देखकर सब दंग रह गए थे। एसओजी को अब तक आरोपी के पास मिली सम्पत्ति के अलावा आधा दर्जन और प्लॉटों की जानकारी मिली है। जिनकी तस्दीक की जा रही है।

Advertisement

Advertisement

आरोपी 9 निजी स्कूलों पर जमाता था रौब

Advertisement

एसओजी सूत्रों के मुताबिक आरोपी शिक्षक राजेन्द्र यादव शहीद मेजर दिग्विजय सिंह सुमाल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय खातीपुरा में शिक्षक पद पर पदस्थ है। आरोपी का स्कूल क्षेत्र का नॉडल स्कूल है और यहां से अन्य 9 निजी स्कूलों में भी प्रतियोगी परीक्षाओं व बोर्ड की अन्य परीक्षाओं के पेपर जाते थे। आरोपी राजेन्द्र वर्ष 2011 से स्कूल में सहायक परीक्षा प्रभारी रहा है और वर्तमान में प्रतियोगी परीक्षाओं में पेपर खुद की निगरानी में रखवाता था। आरोपी शुरुआत में परीक्षा में अभ्यर्थियों की नकल करवाकर मदद करता था। लेकिन वर्ष 2015 से पेपर लीक गिरोह से जुड़ गया था। एसओजी शिक्षक राजेन्द्र यादव और पटवारी हर्षवर्धन के जरिए पेपर लीक के जरिए नौकरी में आने वालों की भी सूची बना रही है। दोनों ने करीब साढ़े पांच सौ से छह सौ लोगों को सरकारी नौकरी में लगवाया है। इनमें पटवारी हर्षवर्धन के अधिकांश मामले हैं।

Advertisement

सरकार सख्त तो सब पर गाज गिरेगी

Advertisement

एसओजी सूत्रों के मुताबिक, पेपर लीक मामले में सरकार आरोपियों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने के पक्ष में सख्त है। सरकार की सख्ती बरकरार रहने पर पेपर लीक व डमी अभ्यर्थियों के जरिए सरकारी नौकरी में आने वाले सभी लोगों का पता लगाकर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement
Advertisement

Related posts

ट्यूबवेल का खुदाई कार्य शुरू

Report Times

चिड़ावा: श्रीधर यूनिवर्सिटी में छात्रवृत्ति के लिए होगा एग्जाम

Report Times

प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद केंद्र के सहयोग से कुछ नए प्रोजेक्ट भी धरातल पर उतरेंगे, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव का बड़ा ऐलान

Report Times

Leave a Comment