Report Times
latestOtherचिड़ावाझुंझुनूंटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशराजनीतिराजस्थानस्पेशलस्वागत

जगदीप धनखड़ उपराष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार आए अपने गांव किठाना, बोले-  “किठाना मेरे दिल में है, मैं जो कुछ भी हूं किठाना की वजह से हूं”

REPORT TIMES
चिड़ावा। देश के उपराष्ट्रपति और  के किठाना गांव में जन्में जगदीप धनखड़ बुधवार को अपने गांव किठाना पहुंचे। वे उपराष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार अपने गांव पहुंचे थे। यहां हैलीकॉप्टर से सपरिवार पहुंचे धनखड़ का जिले की प्रभारी मंत्री ममता भूपेश ने स्वागत किया। अपने संबोधन में धनखड़ ने कहा कि जिस गांव में जन्म लिया, जहां नींव बनी, वहां भाषण देना बहुत मुश्किल है।
उन्होंने राजस्थानी अंदाज में महिला सशक्तिकरण पर स्थानीय भाषा में कहा कि- सो क्यूं बदळ ग्यो। यो बदलाव देश में ऊपर ताणी ह। उनका ईशारा मंच पर बैठी नारी शक्ति धर्मपत्नी डॉ. सुदेश धनखड़, प्रभारी मंत्री ममता भूपेश, जिला प्रमुख हर्षिनी कुल्हरी, चिड़ावा प्रधान इंदिरा डूडी, सरपंच सुभीता की तरफ था। उन्होंने कहा  कि आज देश में राष्ट्रपति पद को भी महिला सुशोभित कर रही हैं। उन्होंने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि छठी कक्षा के बाद लंबी दूरी तय करके स्कूल जाना पड़ता था। लेकिन आपके आशीर्वाद से इस मुकाम पर पहुंचा हूं। उन्होंने कहा कि देश में हालात बेहतर हो रहे हैं।
उन्होंने कहा कि कोई दिन ऐसा नहीं गया है जब किसान, गरीब, अजा-अजजा के व्यक्ति की और किठाना गांव की बात मेरे दिल में ना हो। उन्होंने कहा कि मैं इस मिट्टी को नमन करता हूं, मैं इसी मिट्टी का लाल हूं। जो कुछ भी हुआ उसका एक ही कारण है- शिक्षा। बकौल धनखड़ यदि उन्हें सैनिक स्कूल में स्कॉलरशिप नहीं मिली होती, तो हालात कुछ और होते। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा जोर पढ़ाई पर दीजिए। धनखड़ ने कहा कि बच्चों पर तनाव मत डालें, उन्हें जो वे करना चाहें, करने दीजिए। उन्होंने कहा कि आज जो लोग उद्योग, व्यापार में आगे बढ़ रहे हैं, उनमें से अधिकांश साधारण पृष्ठभूमि से हैं। धनखड़ ने मौजूद जनसमूह को प्रेरित करते हुए कहा कि अपनी प्रतिभा को उजागर करें। गांव के बालक-बालिकाएं शुरु में हिचकिचाते हैं, लेकिन कुछ समय बाद सबकुछ उनकी मुट्ठी में होता है। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास की जड़ गांव में है। यदि गांव में हर व्यक्ति योजनाओं का फायदा लेकर योगदान देता है तो देश की अर्थव्यवस्था बहुत दूर तक जाएगी। उन्होंने जोहड़ों की हालत पर चिंता जताई और कहा कि हमें पौधारोपण, कृषि क्षेत्र की तरफ ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि खेतों की मेड़ पर पेड़ लगाने को जनआंदोलन बनाना चाहिए। इससे जलवायु परिवर्तन के संकट का हल मिलेगा। उन्होंने कहा कि “जो कुछ भी हूं, किठाना की वजह से हूं।” बकौल धनखड़ गांव के किसी भी बालक-बालिका की पढ़ाई धन के अभाव में बाधित नहीं होगी। उन्होंने किठाना गांव को आदर्श गांव बनाने की कामना करते हुए कहा कि यह सभी के सहयोग से ही संभव होगा। सभा में मंच पर सांसद नरेंद्र खीचड़, जिला प्रमुख हर्षिनी कुल्हरी, चिड़ावा प्रधान इंदिरा डूडी, किठाना सरपंच सुभीता भी मौजूद रहीं। वहीं उनके निजी आवास पर आरटीडीसी के पूर्व चैयरमैन रणदीप धनखड़, सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनियां मौजूद रहे।
इससे पहले उन्होंने महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालय के भवन का शिलान्यास किया। इस दौरान जिले की प्रभारी मंत्री ममता भूपेश और पिलानी विधायक जे.पी. चंदेलिया भी मौजूद रहे।
इससे पहले उन्होंने बालाजी मंदिर जोडिया और ठाकुर जी मंदिर किठाना में सपरिवार दर्शन किए और मंगलकामना की।
Advertisement

Related posts

बिहार :महागठबंधन सरकार में कांग्रेस कोटे के मंत्रियों की संख्या तय ,16 अगस्त को हो सकता है का शपथ ग्रहण

Report Times

अनार के दाने खाने से आपके शरीर को मिलेंगे विशेष लाभ, आप भी जरूर जाने

Report Times

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत रविवार रात झुंझुनू पहुंचे।

Report Times

Leave a Comment