Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशराजनीतिराजस्थानस्पेशल

राजस्थान का ‘जलियांवाला बाग’, जहां जुटेंगे गहलोत-PM मोदी; कैसे होगी आदिवासियों की चांदी?

REPORT TIMES

Advertisement

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के मानगढ़ धाम में एक नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मंच साझा करेंगे। यह मौका इसलिए खास है कि देश में नफरती माहौल को लेकर गहलोत लगातार प्रधानमंत्री पर निशाना साधते आए हैं और अपील करते आए हैं कि पीएम देश के लोगों से शांति की अपील करें। सवाल यह है कि आदिवासी अंचल के इस जलियांवाला बाग कहे जाने वाले मानगढ़ धाम में दोनों के बीच क्या इस मुद्दे पर बात होगी? क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मानगढ़ धाम को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करेंगे? जिसकी गहलोत लगातार मांग करते आ रहे हैं।

Advertisement

Advertisement

खुद मोदी ने भी मुख्यमंत्री रहते हुए मानगढ़ धाम के लिए कहा था कि मानगढ़ को इतिहास में वो दर्जा नहीं मिल पाया है। बहरहाल दक्षिणी राजस्थान का जनजाति बहुल वागड़ अंचल आजादी के इतिहास की एक ऐसी घटना का गवाह है, जहां जलियांवाला बाग की तरह ही अंग्रेजों ने आदिवासियों का कत्लेआम किया था। महान संत गोविंद गुरु के नेतृत्व में 1500 आदिवासी गुरुभक्तों ने अपनी जान दी थी।

Advertisement

आदिवासी समुदाय का यह बलिदान आजादी के आंदोलन में दर्ज जलियांवाला बाग के बलिदान से बड़ा था और उससे भी पहले हो चुका था। लेकिन इतिहास में इस घटना को उचित दर्जा नहीं मिल सका। बांसवाड़ा जिले में आनंदपुरी से कुछ दूरी पर मानगढ़ धाम बना हुआ है। करीब 100 साल पहले 17 नवंबर 1913, में मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर गुरु का जन्मदिन मनाने के लिए एकत्र हुए हजारों गुरुभक्तों को ब्रिटिश सेना ने मौत के घाट उतार दिया था।

Advertisement

Advertisement

बांसवाड़ा और डूंगरपुर जिले सहित गुजरात के सरहदी क्षेत्रों में गोविंद गुरु और शिष्यों द्वारा स्थापित धूणियां आज भी उस बलिदान की साक्षी हैं। गुजरात के झालोद तहसील की नटवा पंडेरफला धूणी, कंबोई धूणी, राजस्थान के बांसिया में मणी मगरी, धूणी मगरी छाणी मगरी धूणी, सुराता धूणी बेड़सा गांव में गनी माता की समाधि गोविंद गुरु और मानगढ़ धाम की घटना की गवाह है।

Advertisement

बलिदान के मौखिक दस्तावेजों के रूप में परिजनों की वाणियां उस लोमहर्षक घटना की वास्तविकता बताती हैं। इस घटना सुराता धूणी से जुड़े मोगाजी भगत, धीरा भाई भगत और हीरा भाई खांट शामिल थे। मानगढ़ के निकट गराडू गांव के वीका भाई डामोर मानगढ़ नरसंहार में शहीद हुए थे। इनके रिश्तेदार व गांव के लोग इनकी कुर्बानी की गाथा सुनाते हैं।

Advertisement

Advertisement

ऐसे थे गोविंद गुरु, वंश ने संभाली विरासत

Advertisement

गोविंद गुरु का जन्म डूंगरपुर जिले के बांसिया गांव में 20 दिसंबर 1858 को हुआ था। क्रांतिकारी संत गोविंद गुरु के बड़े बेटे हरिगिरि का परिवार बांसिया में छोटे बेटे अमरूगिरि का परिवार बांसवाड़ा जिले के तलवाड़ा के पास उमराई में बसा है। गोविंद गुरु के जन्म स्थान बांसिया में निवासरत परिवार की छठी पीढ़ी उनकी विरासत को संभाले हुए है। गोविंद गुरु के पुत्र हरिगिरि, उनके बेटे मानगिरि, उनके बेटे करणगिरि, उनके बेटे नरेंद्र गिरि और छठी पीढ़ी में उनके बेटे गोपालगिरि मड़ी मगरी पर रहकर गुरु के उपदेशों को जीवन में उतारने का संकल्प प्रचारित कर रहे हैं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related posts

शिवनगरी के शिवालय : यहां करें रुद्र संग रुद्रावतार के दर्शन

Report Times

जयपुर : महानगर में दो जिला न्यायालय को मुख्यमंत्री की मंजूरी

Report Times

TRS विधायकों को दिया जा रहा लालच, सरकार गिराने की कोशिश; तेलंगाना के मुख्यमंत्री KCR का बड़ा दावा

Report Times

Leave a Comment