Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशविदेशस्पेशल

इंसानों की संख्या 8 अरब के पार, सिर्फ 48 साल में डबल; जानें- कब थमेगी रफ्तार

REPORT TIMES 

Advertisement

दुनिया की आबादी आज बढ़कर 8 अरब हो गई है। विश्व में मानव का इतना बड़ा परिवार हो गया है कि आने वाली सालों में खाद्यान्न समेत तमाम जरूरतों की किल्लत भी देखने को मिल सकती है। हालांकि एक्सपर्ट्स मानते हैं कि इसी सदी में एक दौर ऐसा भी आएगा, जब आबादी की ग्रोथ स्थिर हो जाएगी और फिर गिरावट भी देखने को मिलेगी। लेकिन बीते 48 सालों में आबादी में जो इजाफा हुआ है, वह चौंकाने वाला है। दुनिया की आबादी 1974 में 4 अरब ही थी, जो अब 8 अरब के पार हो गई है। 1950 में तो दुनिया की आबादी महज ढाई अरब ही थी। यही नहीं 2086 ऐसा साल होगा, जब इस दुनिया में 10.6 अरब के पार इंसानों की आबादी हो जाएगी।

Advertisement

आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो सबसे ज्यादा आबादी अब भी 142 करोड़ के साथ चीन की है और दूसरे नंबर पर भारत है, जिसकी जनसंख्या 141 करोड़ है। कहा जा रहा है कि जिस गति से भारत की आबादी बढ़ रही है, उसके मुताबिक 2023 में वह चीन को भी इस मामले में पीछे छोड़ देगा। हालांकि 2050 के आसपास से आबादी की ग्रोथ स्थिर होगी और फिर कमी भी देखने को मिलेगी। यही वजह है कि भारत, चीन समेत दुनिया के कई देशों में आने वाले दशकों में युवा आबादी घटने की आशंका जताई जा रही है, जिसका वर्कफोर्स पर विपरीत असर देखने को मिल सकता है।

Advertisement

Advertisement

दुनिया के कई देशों में थमी आबादी की रफ्तार

Advertisement

दरअसल दुनिया के कई देशों में पहले से ही आबादी की ग्रोथ रेट रिप्लेसमेंट लेवल यानी 2.1 से भी कम हो गई है। कहा जा रहा है कि पूरी दुनिया की आबादी की ग्रोथ रेट ही 2055 तक 2.1 यानी रिप्लेसमेंट लेवल तक रह जाएगी। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक आबादी में सबसे अधिक इजाफा 2012 से 2014 के दौरान हुआ है। इस दौरान 14 करोड़ से ज्यादा बच्चों का जन्म हुआ था। कहा जा रहा है कि कुछ उतार-चढ़ाव के साथ ही 2043 से आबादी बढ़ने की दर में गिरावट देखी जा सकती है। अब तक आबादी में तेजी से इजाफा हुआ है, लेकिन अब अगले एक अरब लोगों के आबादी में जुड़ने में 12 सालों का वक्त लगेगा।

Advertisement

चीन और भारत नहीं, अब इन देशों में तेजी से बढ़ेगी आबादी

Advertisement

आबादी से जुड़े मामलों की समझ रखने वालों का कहना है कि मृत्यु दर में कमी की वजह से भी जनसंख्या में इजाफा हो रहा है। बीते करीब 70 सालों में दुनिया की आबादी बढ़ाने में चीन और भारत का अहम योगदान रहा है। इन दोनों देशों की आबादी ही मिला लें तो यह करीब 2.80 अरब हो जाती है। लेकिन आने वाले वक्त में भारत और चीन की ग्रोथ में कमी देखने को मिलेगी। कहा जा रहा है कि 21वीं सदी के आखिरी दशकों में भारत और चीन की बजाय अफ्रीकी देशों में आबादी तेजी से बढ़ेगी। इन देशों में तंजानिया, नाइजीरिया और कॉन्गो शामिल होंगे।

Advertisement

कैसे लगभग हर 12 साल में बढ़ रहे 1 अरब लोग

Advertisement

आबादी बढ़ने की दर पर नजर दौड़ाएं तो दुनिया में मनुष्यों की संख्या 1950 में ढाई अरब थी, जो अगले 10 सालों में बढ़कर 3 अरब हो गई। इसके बाद 1974 में 4 अरब हो गई। फिर अगले 13 सालों में यानी 1987 में यह आंकड़ा 5 अरब हो गया। हालांकि अगला एक अरब यानी 6 करोड़ आंकड़ा होने में 12 साल ही लगे। फिर 2011 में दुनिया की आबादी 7 अरब हो गई और अब आंकड़ा 11 सालों में 8 अरब के पार पहुंच गया है। कहा जा रहा है कि आने वाले दशकों में आबादी की ग्रोथ में थोड़ी स्थिरता आएगी और 2086 तक हमारी आबादी 10.4 अरब तक पहुंच जाएगी।

Advertisement
Advertisement

Related posts

अरड़ावता गांव में बस स्टैंड के पास अचानक आग लग गई।

Report Times

दादी का गला रेतकर की थी हत्या, अर्धनग्न शव छोड़कर पोता हुआ था फरार

Report Times

झुंझुनूं : संत अखण्डानन्द गिरी का षोडशी कार्यक्रम सम्पन्न

Report Times

Leave a Comment