Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीमेडीकल - हैल्थस्पेशल

30 घंटों से सर्वर डाउन…अब IT मंत्रालय ने संभाली कमान, AIIMS में मरीज हलकान

REPORT TIMES 

Advertisement

दिल्ली के (AIIMS) में इस्तेमाल होने वाला राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र का ई-हॉस्पिटल सर्वर पिछले 30 घंटों से बंद है, जिसके चलते ओपीडी और नमूना संग्रह सेवाएं प्रभावित हुई हैं. अब एम्स में लाखों मरीजों की जांच रिपोर्ट समेत तमाम लेखा जोखा अभी भी दांव पर लगा हुआ है. एम्स पर हुए साइबर हमले की निगरानी अब आईटी मंत्रालय भी कर रहा है. एनआईसी निदेशक और अधिकारी इस ऑपरेशन को लीड कर रहे हैं.

Advertisement

NIC की टीम ने पहले बैक अप सर्वर से फाइल रिस्टोर करने की कोशिश की तो पता चला बैक अप सर्वर में भी सेंध लग गई और उसकी फाइलों का एक्सटेंशन बदल दिया गया. अब दूसरे बैकअप सर्वर से कोशिश की जा रही है. एम्स के अधिकारियों ने कहा कि ये सभी सेवाएं फिलहाल मैनुअल मोड पर काम कर रही हैं. एम्स ने एक बयान में कहा कि एम्स में काम कर रही एनआईसी की एक टीम ने सूचित किया है कि यह एक रैंसमवेयर हमला हो सकता है.

Advertisement

एम्स के एक अधिकारी ने कहा, सर्वर बंद होने से स्मार्ट लैब, बिलिंग, रिपोर्ट जनरेशन और अपॉइंटमेंट सिस्टम समेत ओपीडी और आईपीडी डिजिटल अस्पताल सेवाएं प्रभावित हुई हैं. एम्स की तरफ से जारी प्रेस रीलीज के मुताबिक ये जो सरवर हैक हुआ है. ये एक तरह का साइबर-अटैक है. इसकी जांच की जा रही है और फिलहाल एम्स में मैनुअल मोड पर काम हो रहा है.

Advertisement

Advertisement

मैनुअल मोड में चल रहा है एम्स का काम

Advertisement

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि ओपीडी और नमूना संग्रह सेवाएं मैनुअल मोड में प्रदान की गईं. एम्स ने बयान में कहा कि डिजिटल सेवाएं बहाल करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं और भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम और एनआईसी की मदद ली जा रही है.

Advertisement

मरीजों को लंबी कतारों का करना पड़ रहा है सामना

Advertisement

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कल सुबह से ही सर्वर ठप होने के चलते नए मरीजों के ओपीडी पर्चे तक नहीं बन सके. मैनुअल तरीके से मरीजों के कार्ड और पर्चे बनाए गए. जिसके चलते लंबी-लंबी कतारें काउंटर पर लगी रहीं. बताया यह भी जा रहा है कि मरीजों को इलाज मिलने में घंटों इंतजार भी करना पड़ रहा है. मरीजों का पर्चा बनाने से लेकर अन्य कई काम प्रभावित है.

Advertisement

वहीं एक्सपर्ट की टीम सर्वर में आई गड़बड़ी को तलाशने और सुधार करने की कोशिश में लगे रहे. वहीं एम्स अधिकारी के बयान के मुताबिक भविष्य में इस तरह के हमलों को रोकने के लिए एम्स और एनआईसी उचित सावधानी बरतेंगे.

Advertisement

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

इस कारण से इंडियन आइडल तेलुगु के निर्माताओं को जमकर ट्रोल कर रहें हैं लोग

Report Times

ज्वैलर्स की दुकान में चोरी की वारदात का खुलासा: दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

Report Times

नए जिले बना साधी 113 विधानसभाएं, गहलोत के इस मास्टरस्ट्रोक से चुनाव में मिलेगा फायदा

Report Times

Leave a Comment