Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिस्पेशलहिमाचल प्रदेश

हिमाचल का ‘किंग’ कौन? BJP बोली-बदलेगा रिवाज, कांग्रेस भी कर रही जीत के दावे

REPORT TIMES 

Advertisement

हिमाचल विधानसभा चुनाव का मतदान हो चुका है.चुनाव परिणाम 8 दिसंबर को जारी किए जाएंगे. प्रदेश की 68 सीटों पर एक ही चरण में इस बार चुनाव हुए हैं. इस बार भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों हिमाचल में सरकार बनाने के दावे कर रही हैं. वहीं, आम आदमी पार्टी भी प्रदेश में कई सीटों पर जीत का दावा कर रही है. इन सबके बीच, भारतीय जनता पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख सुरेश कश्यप ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में भाजपा अपने दम पर स्थिर सरकार बनाएगी और सत्तारूढ़ दल के दोबारा सत्ता में नहीं लौटने के रिवाज को बदल देगी

Advertisement

सुरेश कश्यप ने कहा कि पार्टी 12 नवंबर को हुए चुनाव के संबंध में उम्मीदवारों से फीडबैक लेगी. उन्होंने जोर देकर कहा कि पार्टी की जीत का सिलसिला जारी रहेगा. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी ने अपना अस्तित्व खो दिया है और इसके नेता अपनी वरिष्ठता दिखाने के लिए दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं.

Advertisement

Advertisement

बीजेपी कर रही है समीक्षा बैठक

Advertisement

बता दें कि वोटिंग के बाद बीजेपी मंडल स्तर पर समीक्षा बैठकें आयोजित कर रही है. वह यह जानने की कोशिश कर रही है कि उसे हर बूथ से कितने वोट मिले . इस बार हिमाचल में कई नेता भाजपा से बागी होकर चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं. समीक्षा बैठक में कार्यकर्ताओं से यह भी पता लगाया जा रहा है कि बागी नेताओं ने वोटबैंक में कितनी सेंध लगाई है. उधर, कांग्रेस के नेताओं ने भी रिजल्ट आने से पहले ही अपनी बिसात बिछानी शुरू कर दी है. इस बार कांग्रेस नेता जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं. हालांकि, अगर चुनाव में बहुमत तक नहीं पहुंच पाने की स्थिति में निर्दलीयों से भी संपर्क साध रहे हैं.

Advertisement

तीसरा मोर्चा हिमाचल में नहीं हुआ सफल

Advertisement

हिमाचल का पुराना इतिहास यही कहता है कि प्रदेश में कभी भी तीसरा मोर्चा ज्यादा सफल नहीं हुआ है. हिमाचल के मतदाता पिछले 42 सालों से कांग्रेस या भारतीय जनता पार्टी को ही अपना जनादेश दे रहे हैं. तीसरा दल कभी भी प्रदेश में मजबूती से नहीं उभरा. तीसरा दल बनाने का सबसे बड़ा प्रयास 1998 के चुनावों में हुआ था, जब मंडी के पंडित सुख राम ने हिमाचल विकास कांग्रेस पार्टी बनाई थी और पूरे प्रदेश में चुनाव लड़ा था. लेकिन पांच सीटें ही हासिल हुईं. इन्हीं पांच सीटों के बल पर उन्होंने भाजपा के साथ समझौता किया और प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनी. बाद में 2004 में पंडित सुख राम ने अपनी हिविकां पार्टी का कांग्रेस में विलय कर दिया था.

Advertisement
Advertisement

Related posts

बच्ची को बचाने के लिए प्राण दांव पर लगाने वाले दयासिंह का निधन

Report Times

ये राजनीतिक पद है…उपमुख्यमंत्री पद को चुनौती, राजस्थान में क्यों कोर्ट पहुंचा मामला

Report Times

राजस्थान: फ्री 100 यूनिट बिजली पर छाया संकट! भजनलाल सरकार ले सकती है बड़ा फैसला

Report Times

Leave a Comment