Report Times
latestOtherआरोपटॉप न्यूज़ताजा खबरेंपश्चिम बंगालराजनीतिस्पेशल

राज्यपाल नहीं ममता बनर्जी हैं कुलपति, शिक्षा मंत्री ने कहा- गवर्नर कर रहे मनमानी

REPORT TIMES 

Advertisement

पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी की सरकार खासकर शिक्षा विभाग और राजभवन के बीच तनातनी सामने आई. शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा कि वह राज्यपाल सीवी आनंद बोस को राज्य के विश्वविद्यालयों का कुलपति नहीं मानते हैं. राज्यपाल सीवी आनंद बोस लगभग हर दिन एक आचार्य के रूप में विभिन्न विश्वविद्यालयों का दौरा कर रहे हैं. शुक्रवार को पत्रकार वार्ता बुलाकर ब्रात्या बसु ने कहा कि उनके लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य के विश्वविद्यालयों की नैतिक आचार्य हैं. उन्होंने कहा कि वह निर्णय 2022 में विधानसभा में विधेयक पारित कर पहले ही लिया जा चुका है, लेकिन राजभवन से विधेयक पारित नहीं होने के कारण अभी तक इसे अंतिम रूप नहीं दिया जा सका है.

Advertisement

Advertisement

राज्यपाल के विश्वविद्यालयों के दौरे पर शिक्षा मंत्री ने जताई आपत्ति

Advertisement

राज्यपाल आचार्य सी वी आनंदबोस का विश्वविद्यालय दौरा बीते सोमवार से शुरू हो गया है. सबसे पहले कलकत्ता विश्वविद्यालय से शुरुआत की थी. इसके बाद बोस गुरुवार को बारासात विश्वविद्यालय होते हुए प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय भी गए थे. वहां प्राध्यापकों और छात्रों से मिले थे. ब्रात्य बसु ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है कि राज्यपाल को राज्य विधानसभा द्वारा पारित विधेयकों को रोकने का अधिकार नहीं है. शिक्षा मंत्री ने कहा, ” विधानसभा में विधेयक पारित कर ममता बनर्जी विश्वविद्यालय की कुलपति बनाया गया है. प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों की आचार्य ममता बनर्जी हैं. दो राज्यपाल बदले गए हैं. मैं राज्यपाल से कहूंगा कि यदि आप बंगालियों की भावनाओं को समझना चाहते हैं, यदि आप राज्य में एकता चाहते हैं तो बिल पर हस्ताक्षर करें और इसे छोड़ दें. अगर बिल वापस भेजा जाता है तो इसे दोबारा विधानसभा में पास किया जाएगा. ”

Advertisement

ममता बनर्जी हैं राज्य के विश्वविद्यालयों की कुलपति

Advertisement

उन्होंने कहा, ” हमने राज्यपाल के अलावा कभी कुछ नहीं कहा. उच्च शिक्षा विभाग ने उनका साथ दिया है, लेकिन वह मनमानी कर रहे हैं. विश्वविद्यालय के बिल पर हस्ताक्षर करें. सफेद हाथी की तरह व्यवहार करना बंद करें. वीसी की नियुक्ति में किसी को कुछ नहीं बताया गया है. मुझे यह राज्यपाल आचार्य के रूप में नहीं चाहिए. मुझे मुख्यमंत्री चाहिए. मैंने कल उन्हें लिखा था. मुझे कोई उत्तर नहीं मिला. ”बता दें कि इसके पहले जगदीप धनखड़ के राज्यपाल रहने के दौरान विधानसभा में विधेयक पारित कर ममता बनर्जी को सभी विश्वविद्यालयों का कुलपति बनाया गया था, लेकिन अभी तक इन विधेयकों पर नये राज्यपाल ने हस्ताक्षर नहीं किया है. इस कारण फिलहाल यह ठंडे बस्ते में पड़ा है. इस बीच नये राज्यपाल के साथ ममता बनर्जी सरकार की तकरार तेज हो गयी है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

चिड़ावा में 11सौ घरों में गूंजे गायत्री मंत्र

Report Times

जहरीले स्प्रे से हुई युवक की मौत

Report Times

क्रूरता की हदें पार! रेप के बाद झोलाछाप डॉक्टर से करवाया अबॉर्शन, नवजात को जमीन में किया दफन

Report Times

Leave a Comment