Report Times
latestOtherअलवरकरियरकार्रवाईक्राइमगिरफ्तारटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

अलवर मॉब लिंचिंग केस: 5 साल बाद कोर्ट ने सुनाया फैसला, 4 आरोपी दोषी करार; मिली 7 साल की सजा; एक बरी

REPORT TIMES

Advertisement

अलवर जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र ललावंडी गांव में करीब पांच साल पहले गोतस्करी के शक में रकबर मॉब लिंचिंग केस मामले में अदालत ने आज अपना फैसला सुनाते हुए चार आरोपियों को दोष सिद्ध करार करते हुए सजा सुनाई है, जबकि एक अन्य आरोपी को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया है. न्यायालय द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद चारों आरोपियों को पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले लिया है.एडवोकेट अशोक शर्मा विशेष अभियोजक ने बताया कि आरोपी नवल किशोर को साक्ष्य अभाव में दोषमुक्त कर दिया गया है. वहीं चार आरोपी परमजीत, नरेश, विजय और धर्मेंद्र को धारा 341 और 304 के पार्ट प्रथम में आरोप सिद्ध होने पर सात सात की सजा सुनाई है. उन्होंने बताया कि एडीजे नंबर वन के न्यायाधीश सुनील कुमार गोयल ने फैसला सुनाते हुए धारा 304 पार्ट प्रथम में चारों आरोपियों को 7-7 साल की सजा और ₹10- 10 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया गया है. एडवोकेट अशोक शर्मा ने बताया कि आरोपियों को धारा 341 में एक-एक माह की सजा और ₹500 के अर्थदंड से दंडित किया गया है. दोनों सजाएं एक साथ चलेंगी. जो कस्टडी इन्होंने पूर्व में भुगत ली थी, इस सजा में उसका लाभ मिलेगा. उन्होंने कहा कि इस निर्णय से तो खुश हैं, लेकिन दंडादेश से प्रसन्न नहीं हैं. इसलिए अभी फैसले की कॉपी लेने के बाद निर्णय लिया जाएगा. साक्ष्य के अभाव में बरी हुए नवल किशोर के मामले में निर्णय की कॉपी लेने के बाद तय करेंगे. अगर संतोषजनक हुआ तो सही है, नहीं तो उच्च कोर्ट में अपील की जाएगी.

Advertisement

Advertisement

एक आरोपी को कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में किया बरी

Advertisement

एडवोकेट अशोक शर्मा ने बताया कि मोबाइल पर बातों के आधार पर नवल किशोर को आरोपी बनाया गया था, लेकिन कोर्ट ने उस एविडेंस को नहीं माना और उसे संदेह का लाभ दिया. इधर, आरोपी पक्ष एडवोकेट हेमराज गुप्ता ने बताया कि सभी आरोपियों से एक धारा 147 धारा 302 हटा ली गई है और एक को बरी किया गया है. अब धारा 341, 304 पार्ट प्रथम में फैसला हुआ है. उन्होंने बताया कि इस संबंध में सजा को लेकर हाई कोर्ट में अपील की जाएगी.

Advertisement

28 साल के रकबर खान की हुई थी मौत

Advertisement

घटना 20 जुलाई 2018 की है. अलवर जिले के रामगढ़ इलाके के लालदंडी गांव में कुछ लोगों को गोतस्करी की जानाकरी मिली. इसी को लेकर लोगों ने 28 साल के रकबर उर्फ अकबर खान और उसके साथी असलम की कथित गोरक्षा में पिटाई शुरू कर दी थी. असलम घटनास्थल से किसी तरह जान बचाकर भागने में सफल रहा, लेकिन बेरहमी से हुई पिटाई के बाद बुरी तरह से घायल रकबर की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गई थी.

Advertisement

मॉब लिंचिंग को लेकर देशभर में जमकर हुआ था हंगामा

Advertisement

मॉब लिंचिंग केस मामले को लेकर देशभर में जबरदस्त बवाल भी मचा था. इस मामले में साल 2019 में पांच आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट फाइल हुई थी, जिसमें से चार को दोषी ठहराया गया और आज एक को बरी कर दिया गया. इस मामले में 67 लोगों को गवाह बनाया गया. 129 पेज की चार्जशीट दाखिल की गई थी. 20 जुलाई 2018 की रात को यह घटना हुई थी.

Advertisement
Advertisement

Related posts

यह टीम प्रशासनिक अनुभव और सुशासन देने के जुनून का एक बेहतरीन मिश्रण है- नरेंद्र मोदी

Report Times

चुनाव ड्यूटी के लिए राइफल लेकर रवाना हुए हेड कांस्टेबल लापता

Report Times

राष्ट्रीय स्तर पर वॉलीबॉल में द्वितीय रही स्टेट टीम में झुंझुनूं के 5 खिलाड़ी

Report Times

Leave a Comment