Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशधर्म-कर्मराजस्थानश्रीगंगानगरस्पेशल

घर छोड़ा-बॉर्डर पार किया और पहुंची राजस्थान… जानें बांग्लादेशी हबीबा की लव स्टोरी

REPORT TIMES 

Advertisement

अपने प्यार को पाने के लिए पाकिस्तान से सीमा हैदर और बांग्लादेश से सोनिया अख्तर की कहानी तो आप सभी ने सुनी ही होगी. अब बांग्लादेश से एक और लड़की अपने प्यार को पाने के लिए सरहद पार पहुंची है. बांग्लादेश की रहने वाली लड़की उम हबीबा ढाका राजस्थान के श्रीगंगानगर में एक गांव में पहुंची है. हालांकि जिस प्यार को पाने के लिए लड़की ने सरहदें पार कर दी हैं वह शादीशुदा है और उसके एक बेटा भी है. हबीबा और लड़के को फिलहाल पुलिस अपने साथ ले गई है और पूछताछ की जा रही है. जानकारी के मुताबिक यह पूरा मामला रावला के 13 डीओएल गांव का है. यहां पर रोशन सिंह का परिवार रहता है. करीब 6 महीने पहले बांग्लादेश की हबीबा से उसकी बातचीत एक सोशल मीडिया ऐप के जरिए शुरू हुई थी. दोनों के बीच बात-चीत का सिलसिला चलता रहा. धीरे-धीरे रोशन और हबीबा का प्यार परवान चढ़ता गया. इसके बाद हबीबा ने रोशन से मिलने की ठानी और वीजा के लिए अप्लाई कर दिया.

Advertisement

Advertisement

बांग्लादेश से ऐसे पहुंची बीकानेर

Advertisement

उम हबीबा बांग्लादेश से पहले पश्चिम बंगाल के कोलकाता पहुंची इसके बाद दिल्ली होते हुए वह बीकानेर पहुंची है. उसने रोशन को पहले से अपने आने की सूचना दी थी. जब हबीबा बीकानेर पहुंची तो उसने रोशन को बताया. रोशन उसे लेकर घर पहुंचा है. वहीं हबीबा के पहुंचने से रोशन के घर वाले बहुत परेशान हैं. उनका कहना है कि रोशन शादीशुदा है और उसका एक बेटा है ऐसे में वह हबीबा को घर में नहीं रख सकते हैं.

Advertisement

वापस नहीं जाना चाहती

Advertisement

रोशन की मां कृष्णाबाई ने कहा है कि जब वह घर आई थी तो उसे पंजाबी भाषा समझ नहीं आ रही थी, वह केवल हिंदी में बात कर रही थी. उन्होंने कहा है कि रोशन का खुदका परिवार है ऐसे में उन्होंने शासन-प्रशासन से अपील की है कि वह उसे वापस भेज दें. वहीं हबीबा का कहना है कि वह अब बांग्लादेश नहीं जाना चाहती है. उसके पास फिलहाल टूरिस्ट वीजा है और ढाका की रहने वाली है. उसने कहा है कि वह घर से यहां आई है और उसकी काफी बदनामी हो गई है इसी वजह से वह वापस नहीं जाना चाहती है.

Advertisement

चौथी तक पढ़ा है रोशन

Advertisement

रोशन की मां ने बताया कि वो और उसका भाई दोनों ही मजदूरी का काम करते हैं और वह खुद नरेगा में काम करती हैं. उनके पिता का करीब एक साल पहले निधन हो गया था. रोशन केवल चौथी तक पढ़ा हुआ है और बहुत भोला-भाला है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

चिड़ावा : कलेक्टर ने किया ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा

Report Times

स्मार्टफोन डाल रहा माता-पिता पर भी असर, 4 घंटे मोबाइल चलाने वाले पेरेंट्स चिड़चिड़े हो जाते हैं, बच्चों को भी ज्यादा डांटते हैं

Report Times

पायलट की पत्नी का शायराना अंदाज में गहलोत के मंत्री अशोक चांदना पर जवाबी हमला, जानें सारा पायलट ने क्या लिखा

Report Times

Leave a Comment