Report Times
latestOtherकरियरजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

वसुंधरा गुट के देवीसिंह भाटी की BJP में वापसी, दो महीने पहले रखी थी महारानी को लीडरशिप देने की शर्त

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान में बीजेपी में चल रही गुटबाजी को लेकर अमित शाह और जेपी नड्डा ने नेताओं के साथ जो मैराथन बैठक की थी. उसके सकारात्मक नतीजे अब सामने आने लगे हैं. गुरुवार को जब बीजेपी मुख्यालय में बीकानेर के कोलायत से विधायक रह चुके पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के कट्टर समर्थक देवी सिंह भाटी ने जब बीजेपी जॉइन की तो अब धीरे-धीरे साफ होने लगा है कि अमित शाह और जेपी नड्डा ने जो पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से वन टू वन संवाद किया था उसके मायने क्या थे. देवी सिंह भाटी के बीजेपी जॉइन करने के बाद अब साफ हो गया है कि कहीं ना कहीं अमित शाह और जेपी नड्डा ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को कमान सौंपने की तैयारी कर ली है. देवी सिंह भाटी बीकानेर के कद्दावर नेता माने जाते हैं और राजपूत समाज में उनकी काफी अच्छी पकड़ मानी जाती है. अब माना जा रहा है की देवी सिंह भाटी के बीजेपी में शामिल होने पर आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी अब और ज्यादा मजबूत होगी.

Advertisement

Advertisement

लगातार 7 बार रह चुके हैं विधायक

Advertisement

देवी सिंह भाटी बीकानेर के कोलायत से 1980 से 2008 तक लगातार सात बार विधायक रहे चुके हैं. इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि देवी सिंह भाटी का कद राजपूत समाज में कितना बड़ा है. साल 2013 में देवी सिंह भाटी चुनाव हार गए थे और उसके बाद साल 2018 में देवी सिंह भाटी ने अपनी पुत्रवधू पूनम कंवर को चुनाव लड़ाया था. मगर उनकी पुत्रवधू कांग्रेस के विधायक भंवर सिंह भाटी से चुनाव हार गई थी. इसके बाद देवी सिंह भाटी ने अर्जुन राम मेघवाल पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने उनकी पुत्रवधू के खिलाफ कैंपेनिंग की है. यहीं से अर्जुन राम मेघवाल और देवी सिंह भाटी की अदावत की शुरुआत हुई. साल 2019 में जब लोकसभा चुनाव आए तो बीजेपी ने देवी सिंह भाटी की जगह अर्जुन नाम मेघवाल को प्रत्याशी बनाया इससे देवी सिंह भाटी खासा नाराज हो गए थे. और उसके बाद उन्होंने बीजेपी छोड़ दी थी. देवी सिंह भाटी का गुस्सा यही नहीं थमा और उन्होंने अर्जुन नाम मेघवाल के खिलाफ कैंपेनिंग शुरू कर दी थी. हालांकि गुरुवार को बीजेपी जॉइनिंग से पहले उन्होंने कहा कि उनकी अर्जुन राम मेघवाल से बात हो गई है और अब उनसे कोई नाराजगी नहीं है.

Advertisement

राजपूत वोटरों में अच्छी पकड़

Advertisement

राजस्थान विधानसभा की 200 सीटों में 24 से 25 विधायक राजपूत समाज से आते हैं. राजपूत समाज में देवी सिंह भाटी की पकड़ काफी मजबूत मानी जा सकती है जाती है. कहीं ना कहीं माना जा रहा है कि राजपूत समाज में अब बीजेपी की अच्छी पकड़ होगी और आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी को फायदा मिलेगा.

Advertisement

वसुंधरा को कमान मिलने पर बीजेपी में लौटूंगा

Advertisement

देवी सिंह भाटी वसुंधरा राजे के कट्टर समर्थक माने जाते हैं. दो महीने पहले जोधपुर सर्किट हाउस में देवी सिंह भाटी ने कहा था कि जब तक वसुंधरा राजे को कमान नहीं दी जाती तब तक मैं बीजेपी में नहीं लौटूंगा. भाटी के इस बयान के मायने अगर समझे तो अब माना जा सकता है कि अमित शाह और जेपी नड्डा की वसुंधरा राजे से वन टू वन संवाद के बाद अब बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने आगामी विधानसभा चुनाव में वसुंधरा राजे को कमान सौंप दी है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

हॉस्टल में विद्यार्थी ने लगाई फांसी : हाथ पर लिखा सॉरी पापा, मेरी लाइफ मॉम, दुनिया शाली बहुत कुती है

Report Times

चिड़ावा : एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

Report Times

एक्ट्रेस और मॉडल पूनम पांडे का 32 साल की उम्र में सर्वाइकल कैंसर से निधन, इंस्टा पोस्ट के बाद मैंनेजर ने किया कंफर्म

Report Times

Leave a Comment