Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशराजनीतिस्पेशल

किसी देश को शोषण करने नहीं देंगे… चीन से लौटते ही मालदीव के राष्ट्रपति ने भी दिखाई अकड़

REPORT TIMES 

Advertisement

भारत और उसके पड़ोसी मुल्क मालदीव के आपसी रिश्तों में अभी कड़वाहट आ चुकी है. पिछले हफ्ते मालदीव के नेताओं की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप दौरे को लेकर कई गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद दोनों देशों के बीच तल्खी देखी जा रही है. हालांकि इस तनाव की वजह से मालदीव सरकार को आर्थिक रूप से खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है, यही नहीं उनके अपने देश में भी लोग सरकार के खिलाफ हो गए हैं. लगातार दबाव के बीच मालदीव के राष्ट्रपति की अकड़ बनी हुई है और भारत के खिलाफ जुबानी जंग को आगे बढ़ाते हुए कहा कि वह किसी देश को शोषण करने नहीं देंगे. जारी विवाद के बीच चीन की अपनी 5 दिन की आधिकारिक यात्रा से स्वदेश लौटे राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने भारत पर जुबानी हमला बोलते हुए कहा, “हमारा देश एक छोटा देश है, लेकिन अन्य देशों को इसका शोषण नहीं करने देगा.” वेल्लाना इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर बोलते हुए राष्ट्रपति मुइज्जू ने कहा कि मालदीव किसी खास देश के बैकयार्ड में नहीं स्थित है.

Advertisement

Advertisement

‘हिंद महासागर किसी की संपत्ति नहीं’

Advertisement

राष्ट्रपति मुइज्जू ने कहा, “हम किसी खास देश के बैकयार्ड में स्थित देश नहीं हैं. हम एक स्वतंत्र और संप्रभु देश हैं. इसलिए क्षेत्रीय अखंडता का आधार यह है कि चीन हमारा बहुत सम्मान करता है.” उन्होंने यह भी कहा कि हिंद महासागर किसी खास देश की संपत्ति नहीं है, इस महासागर में मालदीव का भी एक बड़ा हिस्सा है. उन्होंने यह भी कहा, “हम करीब 9 लाख वर्ग किलोमीटर के बड़े विशेष आर्थिक क्षेत्र वाले देश हैं, भले ही इस समुद्र में द्वीपों का आकार कुछ भी हो. मालदीव हिंद महासागर के सबसे बड़े शेयरधारकों में से एक है. यह किसी खास देश की संपत्ति नहीं है.”

Advertisement

‘हम भारत पर निर्भरता खत्म करेंगे’

Advertisement

राष्ट्रपति ने अपने बयान में सीधे तौर पर भारत का नाम लिए बगैर कहा, “पिछली सरकार के कार्यकाल में आप कुछ लोगों की अनुमति से एक सीट से उठकर दूसरी सीट पर बैठ सकते थे. अब हम किसी पर भरोसा किए बिना ही अपने पैरों पर खड़े होंगे.” उन्होंने चीन का जिक्र करते हुए कहा कि चीन हमारे अपने आंतरिक मामलों को बिल्कुल प्रभावित नहीं करता है. जबकि हाल तक, पिछली सरकार के दौरान हमने यह देखा कि कुछ लोगों की अनुमति से हम एक सीट से उठकर दूसरी सीट पर बैठ सकते थे. भारत की मालदीव पर बनी निर्भरता को लेकर राष्ट्रपति ने कहा कि वह विभिन्न क्षेत्रों में मालदीव की भारत पर निर्भरता को खत्म करेंगे. हम दवा के लिए भारत जाना और वहां से दवा लाना बंद कर देंगे. उन्होंने यह भी कहा, “हमें उम्मीद है कि कम गुणवत्ता वाली दवाओं के आयात को खत्म करके हम यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका से दवाओं के आयात के तरीके को बदल देंगे.” राष्ट्रपति मुइज्जू ने अंग्रेजी में भारत पर एक और मौखिक हमले के साथ अपना भाषण खत्म किया. उन्होंने कहा, “किसी को भी मालदीव का अपमान करने का अधिकार नहीं है, चाहे हमारा देश कितना भी छोटा क्यों न हो.”

Advertisement
Advertisement

Related posts

शर्म करो जयपुर पुलिस! लाश को ई-रिक्शा में लाद यूं मॉर्च्यूरी तक ढोया, लटकते रहे हाथ-पैर

Report Times

राजस्थान: एसीबी की टीम ने डिस्कॉम के लाइनमैन को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगेहाथ किया गिरफ्तार

Report Times

कोडरमा : डोमचांच बाजार रोड में आर्थिक तंगी के कारण एक युवक ने लगाई फांसी

Report Times

Leave a Comment