Report Times
latestOtherआक्रोशजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्मराजनीतिराजस्थानस्पेशल

राजस्थान में हिजाब पर बवाल! MLA बालमुकुंद के बाद अब मंत्री किरोड़ी लाल मीणा का बड़ा बयान

REPORT TIMES 

Advertisement

जयपुर में हवामहल सीट से विधायक बालमुकुंद आचार्य के बयान के बाद राजस्थान में हिजाब को लेकर नया संग्राम शुरू हो गया है. इस बयान के विरोध में सोमवार को कई जगह विरोध प्रदर्शन भी हुए. वहीं कांग्रेस विधायक रफीक खान ने विधानसभा में इस मुद्दे को उठाते हुए विधायक के बयान की निंदा की. वहीं अब राजस्थान सरकार में कृषि मंत्री किरोड़ी लाल मीणा ने हिजाब के विरोध में बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हिजाब भारत की संस्कृति में नहीं है. इसलिए चाहे स्कूल हो या मदरसा, कहीं भी हिजाब अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. उन्होंने हिजाब पर प्रतिबंध के लिए मुख्यमंत्री से मिलने की भी बात कही. बता दें कि विधायक बालमुकुंद आचार्य ने हाल ही में एक स्कूल में भाषण के दौरान हिजाब पर प्रतिबंध की मांग की थी. उसी समय से कयास लगाए जा रहे थे कि राजस्थान में बीजेपी सरकार कभी भी इस दिशा में आगे बढ़ सकती है. अब कृषि मंत्री किरोड़ी लाल मीणा के बयान आने के बाद इसकी पुष्टि भी हो गई है.

Advertisement

Advertisement

बताया जा रहा है कि राज्य में हिजाब पर प्रतिबंध लगाने के लिए शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने स्टेटस रिपोर्ट मांगी है. इसमें उन्होंने दूसरे राज्यों की स्थिति की भी जानकारी देने को कहा है. अधिकारियों के मुताबिक दूसरे राज्यों की स्टेटस रिपोर्ट देखने के बाद राजस्थान में हिजाब बैन की संभावनाएं तलाशी जाएंगी. बता दें कि सोमवार को ही राज्य के कृषि मंत्री डॉ. किरोड़ी लाल मीणा इस संबंध में बयान दिया है. उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में चाहें स्कूल हों या मदरसा, हर जगह हिजाब पर बैन लगनी चाहिए.

Advertisement

राजस्थान में लागू है ड्रेस कोड

Advertisement

उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग और स्कूलों में ड्रेसकोड लागू है. ऐसे में यदि ड्रेस कोड की पालना नहीं होगी तो पुलिस वाले कुर्ता पजामा पहन कर थाने में आने लगेंगे. उन्होंने कहा कि चाहे सरकारी शिक्षण संस्थान हों या प्राइवेट, कहीं भी हिजाब की अनुमति नहीं होनी चाहिए. इसके लिए वह खुद मुख्यमंत्री से बात करेंगे. डॉ. मीणा ने कहा कि मुगल आक्रांताओं के आने से पहले हमारे देश में हिजाब नहीं था.देश में बुर्का और हिजाब को किसी हाल में मान्यता नहीं दी जा सकती.

Advertisement

22 में कर्नाटक में लागू हुआ था ड्रेस कोड

Advertisement

उन्होंने कहा कि इस प्रथा से मुस्लिम देश भी किनारा करने लगे हैं. ऐसे में हम इसे क्यों ढोएं. बता दें कि पहली बार साल 2022 में कर्नाटक में बीजेपी की सरकार ने ही हिजाब पर प्रतिबंध लगाया था. इसको लेकर काफी बवाल भी हुआ. मामला हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक गया. हालांकि बाद में आई कांग्रेस सरकार ने इस आदेश को रद्द कर दिया था.

Advertisement
Advertisement

Related posts

मेयर पद से निलंबित होने के बाद से फरार मुनेश गुर्जर, मंत्री खाचरियावास से अदावत पड़ी भारी!

Report Times

परिवहन राज्य मंत्री ने सोलाना के कैम्प का किया निरीक्षण

Report Times

जिला स्तरीय जनसुनवाई में वीसी से जुड़े उपखंड स्तरीय अधिकारी : कलेक्टर ने जनता की समस्याओं के शीघ्र निस्तारण का दिया निर्देश

Report Times

Leave a Comment