Report Times
latestOtherउदयपुरकार्रवाईक्राइमटॉप न्यूज़ताजा खबरेंमेडीकल - हैल्थराजस्थानस्पेशल

मम्मी-पापा माफ करना, मेरा जाना ही ठीक रहेगा… लिखकर फांसी पर लटक गया 19 साल का छात्र

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान के उदयपुर से एक पॉलिटेक्निक स्टूडेंट के द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है. मृतक छात्र ने फांसी के फंदे पर लटकने से पहले एक सुसाइड लेटर भी लिखा है, जिसमें वह अपने मां-पिता सें मांफी मांग रहा है. मृतक ने लिखा है कि वह अपने माता-पिता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया है, जिसके बाद वह यह कदम उठा रहा है. वहीं जानकारी मिलते ही पुलिस की टीम ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. यह घटना उदयपुर के बड़गांव थाना क्षेत्र की है. मृतक का नाम हर्षवर्धन सिंह है. 19 साल का हर्षवर्धन यहीं के विद्या भवन पॉलिटेक्निक कॉलेज के फर्स्ट ईयर का छात्र था, जो कि देवगढ़ के राजसमंद के रहने वाला है. मृतक हर्षवर्धन इसी कॉलेज के हॉस्टल में रहता था. मृतक के दोस्त के मुताबिक, वह हर्षवर्धन से मिलने उसके रूम पर गया था. इस दौरान उसने देखा कि कमरे का दरवाजा बंद है.

Advertisement

Advertisement

काफी देर तक दरवाजा खटखटाने के बाद जब हर्षवर्धन बाहर नहीं आया तो उसने हॉस्टल के वार्डन को वहां बुलाया. देखते ही देखते वहां दूसरे छात्रों की भीड़ उमड़ पड़ी. लेकिन हर्षवर्धन ने दरवाजा नहीं खोला.इसके बाद वहां मौजूद लोगों ने गेट तोड़कर अंदर जाने की सोची और जब गेट खुला तो उनके होश उड़ गए. लोगों ने देखा कि कमरे में हर्षवर्धन का शव पंखे से लटक रहा था, जिसके वहां दूसरे छात्रों में अफरा-तफरा मच गई. बिना वक्त गंवाए कॉलेज प्रशासन के लोगों ने पुलिस को कॉल कर सूचना दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पंखे से नीचे उतारा और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. पुलिस की छानबीन के दौरान उन्हें मृतक छात्र के कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला है

Advertisement

क्या लिखा सुसाइड नोट में?

Advertisement

इस सुसाइड नोट में लिखा था कि भी कि ‘मम्मी बहुत सोचा मैंने मरने से पहले पर अब मैं यह दुख देखकर थक चुका हूं, कुछ समझ में नहीं आ रहा है ,अभी कॉलेज की फीस भी भरनी है ₹15000 देना कोई बड़ी बात नहीं है पर आपकी उम्मीदों पर में खरा नहीं उतर पाया हूं. मेरे बाद बहन नेतल की पढ़ाई और उसकी शादी भी अच्छे से कराना .मेरा सपना था कि नेतल की शादी अच्छे से करने का लेकिन यह सपना भी पूरा नहीं कर सकता. अब आप लोगों की हालत भी मुझसे देखी नहीं जाती, मम्मी आपको में दुखी करके बहुत दुखी हुआ हूं पर क्या करता है यहां से जाना ठीक था और मुझे माफ करना..’

Advertisement

पुलिस के मुताबिक, हर्षवर्धन अपने परिवार ही नहीं बल्कि खानदान में इकलौता बेटा था. उसके पिता के तीन भाई हैं और उन तीनों के बच्चों को मिलाकर वह अकेला बेटा था, बाकी सब बेटियां हैं. फिलहाल पुलिस ने उसके परिवार को कॉल कर सूचना दे दी है.

Advertisement

कुछ ही दिन पहले आया था घर

Advertisement

बेटे की मौत के बाद से परिवार वालों को रो-रोकर बुरा हाल है. इस दौरान हर्षवर्धन के परिवार वालों ने बताया कि वह कुछ दिन पहले ही घर आया था और उसने अपने पिता से कॉलेज की 15000 रुपये फीस भरने के लिए कहा था. इस दौरान उसके पिता ने कहा कि वह दो-तीन दिन में फीस जमा करा देंगे. यह सुनकर वह वापस हॉस्टल चला गया. लेकिन उसके मन में क्या चल रहा था यह उसने कभी नहीं बताया.

Advertisement
Advertisement

Related posts

‘कांग्रेस को नसीहत देना बंद करें’, संजय निरुपम ने संजय राउत को लगाई फटकार

Report Times

राजस्थान: शिकार के लिए पहाड़ी गुफा के अंदर घुसा युवक 7 दिन बाद भी नहीं आया बाहर, आखिर उसे क्या हुआ?

Report Times

भाजपा संसदीय बोर्ड के सदस्य डॉ  सुधा यादव पहुंची चिड़ावा, भगेरिया फार्म हाउस पर हुआ स्वागत 

Report Times

Leave a Comment