Report Times
latestOtherकार्रवाईटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशधर्म-कर्मस्पेशल

‘हिंदू विवाह सात फेरों के बिना वैध नहीं’, हिंदू मैरिज पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

REPORT TIMES 

Advertisement

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू धर्म अनुयायियों की शादी को लेकर यह अहम फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हिंदू विवाह एक संस्कार है और यह “सॉन्ग-डांस”, “वाइनिंग-डायनिंग” का आयोजन नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा कि यदि अपेक्षित सेरेमनी नहीं की गई है, तो हिंदू विवाह अमान्य है और पंजीकरण इस तरह के विवाह को वैध नहीं बताता है. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत हिंदू विवाह की कानूनी जरुरतो और पवित्रता को स्पष्ट किया है.

Advertisement

Advertisement

हिंदू विवाह को वैध होने के लिए सात फेरे जरूरी

Advertisement

सर्वोच्च न्यायालय न्यायाधीश ने अपने फैसले मे जोर देते हुए कहा कि हिंदू विवाह को वैध होने के लिए, इसे सप्तपदी (पवित्र अग्नि के चारों ओर फेरे के सात चरण) जैसे उचित संस्कार और समारोहों के साथ किया जाना चाहिए और विवादों के मामले में इन समारोह का प्रमाण भी मिलता है.

Advertisement

फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा, हिंदू विवाह एक संस्कार है

Advertisement

जस्टिस बी. नागरत्ना ने अपने फैसले में कहा, हिंदू विवाह एक संस्कार है, जिसे भारतीय समाज में एक महान मूल्य की संस्था के रूप में दर्जा दिया जाना चाहिए. इस वजह से हम युवा पुरुषों और महिलाओं से आग्रह करते हैं कि वो विवाह की संस्था में प्रवेश करने से पहले इसके बारे में गहराई से सोचें और भारतीय समाज में उक्त संस्था कितनी पवित्र है, इस पर विचार करें.

Advertisement
Advertisement

Related posts

Deal Done… हार्दिक पंड्या की हुई गुजरात टाइटन्स से विदाई, मुंबई इंडियंस नया ठिकाना

Report Times

पुतला फूंककर किया विरोध प्रदर्शन :  किसानों ने लगाया  1994 के फैसले से कम मंजूर नहीं 

Report Times

यौन शोषण मामले में बृजभूषण को मिली अंतरिम जमानत, 2 दिन बाद फिर सुनवाई

Report Times

Leave a Comment