Report Times
Otherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेश

मुगल खानदान के ही कई परिवारी ही नहीं दरबारी भी अंग्रेजों के सम्पर्क में थे, 1857 की क्रांति के कुछ अनसुनी बातें

reporttimes

जगह जगह थे जमींदार डर की सूरत, चढ़े ही आते थे सर पर बुखार की सूरत, बला से कम ना थी एक एक गंवार की सूरत’ मिर्जा खान दाग उर्फ दाग देहलवी ने ये लाइनें दिल्ली में 1857 की क्रांति के बाद उस वक्त लिखी थीं, जब दिल्ली जीतने के कुछ दिनों बाद ही दिल्ली में वो सब देखने को मिल रहा था, जो किसी ने सोचा भी नहीं था।पढ़िए 1857 की

Advertisement

 

Advertisement

दरअसल अंग्रेजों की विद्रोही सिपाहियों ने या तो हत्या कर दी या फिर वो जान बचाकर भाग गए लेकिन सिपाहियों को वेतन देने के लिए बादशाह जफर के पास पैसा नहीं था, बड़ी मुश्किल से 1 लाख रुपया जुटाया भी गया, वो भी कब खत्म हुआ पता ही नहीं चला। मौके का फायदा उठाकर ऐसे अराजक तत्व और चोर लुटेरे दिल्ली में सक्रिय हो गए, जो अंग्रेजी सेना के हटते ही लूटपाट मचाने लगे।

Advertisement
Advertisement

Related posts

Delhi Capitals Schedule 2022: चेन्नई सुपर किंग्स के इस सीजन का पूरा शेड्यूल, पहली टक्कर होगी दमदार

Report Times

रेवंत रेड्डी होंगे तेलंगाना के नए मुख्यमंत्री, 7 दिसंबर को लेंगे शपथ

Report Times

बिजली चोरी पकड़ने गई थे जेई-एसडीओ, लोगों ने पटक कर पीटा; वीडियो वायरल

Report Times

Leave a Comment