Report Times
Otherझुंझुनूंप्रदेश

40 किमी हाइवे पर टोल वसूली के कारण अधूरा है 159 किमी नेशनल हाईवे, क्योंकि एनएच काे हैंडओवर नहीं हो रही जमीन

reporttimes

पीडब्ल्यूडी अधिकारियाें की लापरवाही जिले के विकास में बाधक बन रही है। टाेल कंपनी काे अवैध रूप से टाेल वसूली की छूट देने से जनता काे दाेहरा नुकसान हाे रहा है। जनता से राेजाना लाखाें रुपए अवैध टाेल वसूली ताे हाे ही रही है। साथ ही स्टेट टाेल राेड रहने से यह मार्ग नेशनल हाइवे भी नहीं बन पा रहा है। दरअसल यूपीए-2 सरकार में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमाेहन सिंह के समय केंद्रीय मंत्री रहे शीशराम ओला के प्रयासाें से जिले को पहली बार नेशनल हाइवे -11 से जोड़ने की मंजूरी मिली थी। यह हाइवे हरियाणा के रेवाड़ी से नारनाैल हाेते हुए जिले में पचेरी सिंघाना, चिड़ावा, झुंझुनूं, मंडावा हाेकर फतेहपुर जाकर बीकानेर नेशनल हाइवे में मिलना था।

Advertisement

सरकार की ओर से फतेहपुर से मंडावा हाेकर सिरियासर तक इसका काम हाे चुका है। इसका एक हिस्सा झुंझुनूं में पीरूसिंह सर्किल से लेकर बीड़ चैकपाेस्ट तक बन चुका है। लेकिन हरियाणा बाॅर्डर से सटे पचेरी से लेकर चिड़ावा तक 40 किमी दूरी बीओटी राेड पर टाेल वसूली की वजह से अभी तक जमीन को हैंडओवर नहीं किया गया है। इस वजह से नेशनल हाइवे का काम शुरू नहीं हाे पाया है।

Advertisement

यदि पीडब्ल्यूडी अधिकारी इस स्टेट हाइवे पर टाेल पीरियड खत्म हाेते ही टाेल प्लाजा बंद करवाकर जमीन हैंडओवर करा देते ताे अब तक नेशनल हाइवे बन जाता। इससे जिले की जनता के लिए दिल्ली व बीकानेर का सफर भी आसान हाे जाता, लेकिन पीडब्ल्यूडी ने टाेल कंपनी की समयावधि खत्म हाेने के बाद भी प्लाजा नहीं हटवाया। कंपनी टाेल वसूली कर रही है।

Advertisement

नेशनल हाइवे में बनने वाले बाइपास काे लेकर टेंडर हाे चुके हैं। लेकिन स्टेट टाेल लागू हाेने की वजह से जमीन हैंडओवर नहीं हाे पाई। इस कारण इसमें देरी हाे गई। अब डीपीआर बनवा रहे हैं। -राेहिताश झाझड़िया, एक्सईएन, नेशनल हाइवे

Advertisement

समझिए, स्टेट हाईवे का टाेल कैसे बना हुआ है नेशनल हाइवे के निर्माण में बाधा

Advertisement

हरियाणा बाॅ‌र्डर से सटे जिले के पचेरी कलां से चिड़ावा तक बीओटी की वजह से स्टेट हाइवे की जमीन अभी तक नेशनल हाइवे अथाेरिटी काे हैंडओवर नहीं हुई है। एनएचआई के अधिकारियाें के अनुसार अभी तक फतेहपुर से मंडावा और झुंझुनूं में बाइपास सड़क के टेंडर हाे चुके हैं। झुंझुनूं से चिड़ावा तक की डीपीआर बनाई जा रही है, लेकिन चिड़ावा से सिंघाना पचेरी कलां तक का मामला अभी कागजाें में चल रहा है। यह रेवाड़ी-बीकानेर नेशनल हाईवे 11 ए जिले में हरियाणा बाॅर्डर से पचेरी होकर सिंघाना, चिड़ावा-झुंझुनूं-मंडावा और फतेहपुर तक 159 किलोमीटर लंबा होगा।

Advertisement

इसके बन जाने के बाद जिलेवासियों सहित बाहर से आने-जाने वालाें को भी इसका फायदा मिलेगा। यह हाइवे बीकानेर के एनएच-52 से मिलेगा। हाइवे की चौड़ाई 10 मीटर है। यह फाेरलेन हाइवे 650 किमी लंबा है। रेवाड़ी से चिड़ावा, झुंझुनूं फतेहपुर से बीकानेर होकर जैसलमेर तक यह एनएच 11 न्यू करीब 650 किमी लंबा है। नेशनल हाईवे का अधिकांश हिस्सा तैयार हो चुका है, लेकिर पचेरी से सिंघाना होते हुए चिड़ावा तक इसका कार्य रुका पड़ा है। इस पर टोल चाूल होने की वजह जमीन हैंडओवर नहीं हो रही है। जब तक जमीन हैंडओवर नहीं होगी, तब नेशनल हाईवे अथोरिटी इसका काम शुरू नहीं कर पाएगी। ​​​​​​​

Advertisement

आज तीसरी बार हाेगी रिव्यू बैठक, टाेल काे लेकर हाे सकता है फैसला

Advertisement

चिड़ावा-सिंघाना-पचेरी टाेल सड़क काे लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग की परिचालक समूह की तीसरी बैठक हाेगी। कार्यवाहक एसई शंकरलाल जाट ने बताया कि चीफ इंजीनियर ने रिव्यू बैठक करने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद मंगलवार काे परिचालक समूह की बैठक बुलाई गई है।

Advertisement

सुबह 11 बजे एसई कार्यालय में हाेने वाली बैठक में इस टाेल राेड की अवधि काे लेकर फैसला हाेने की संभावना है। इससे पहले 13 अप्रैल और 21 अप्रैल काे तत्कालीन एसई एनके जाेशी की अध्यक्षता में दाे बार परिचालक समूह की बैठक हाे चुकी है। इसमें टाेल की अवधि 258 दिन घटाने का फैसला लिया जा चुका था। अब तीसरी बार बैठक बुलाई जा रही है।

Advertisement
Advertisement

Related posts

संसद कांड: दिल्ली पुलिस ने आरोपियों की 15 दिनों की रिमांड मांगी

Report Times

‘CM के गृह जिले में पुलिस का इकबाल खत्म’, वकील हत्याकांड पर कांग्रेस MLA ने गहलोत को घेरा

Report Times

इंडिगो एयरलाइन की लापरवाही से उदयपुर पहुंचा था यात्री, DGCA ने दिए जांच के आदेश

Report Times

Leave a Comment