Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशराजनीतिविदेशव्यापारिक खबर

बाढ़ से घुटनों पर आया पाकिस्तान, भारत से व्‍यापार शुरू करने को हुआ मजबूर

REPORT TIMES

Advertisement

भुखमरी की कगार पर खड़े पड़ोसी देश पाकिस्तान ने आखिरकार भारत के साथ फिर से व्यापार शुरू करने का फैसला लिया है। पाकिस्तान इस समय भीषण बाढ़ से जूझ रहा है। करोड़ों लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। महंगाई आसमान छू रही है। दरअसल पाकिस्तान के लाहौर और पंजाब प्रांत के अन्य हिस्सों में विनाशकारी बाढ़ के कारण विभिन्न सब्जियों और फलों की कीमतों में भारी उछाल आई है। इसको देखते हुए पाकिस्तान सरकार भारत से टमाटर और प्याज का आयात करेगी। पाकिस्तान मीडिया ने सोमवार को वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल के हवाले से कहा कि पाक फिर से भारत के साथ व्यापार शुरू करेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान भारत के साथ व्यापार (खुला व्यापार मार्ग) फिर से शुरू करेगा। पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने घोषणा करते हुए कहा, “हम इस बाढ़ और खाद्य कीमतों में वृद्धि के कारण भारत के साथ व्यापार मार्ग खोलेंगे।

Advertisement

Advertisement

लाहौर बाजार के एक थोक व्यापारी जवाद रिजवी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘रविवार को लाहौर के बाजारों में टमाटर और प्याज की कीमत क्रमश: 500 रुपये और 400 रुपये किलो रहा। हालांकि, रविवार के बाजारों में टमाटर और प्याज समेत अन्य सब्जियां नियमित बाजारों की तुलना में 100 रुपये प्रति किलोग्राम कम कीमत पर उपलब्ध थीं।

Advertisement

उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में खाद्य पदार्थों की कीमतें और बढ़ेंगी क्योंकि बाढ़ के कारण बलूचिस्तान, सिंध और दक्षिण पंजाब से सब्जियों की आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। रिजवी ने कहा, ‘‘आगामी दिनों में प्याज और टमाटर की कीमत 700 रुपये प्रति किलो के पार हो सकती है। इसी तरह आलू की कीमत 40 रुपये किलो से बढ़कर 120 किलो हो गई है।

Advertisement

पता चला है कि सरकार वाघा सीमा के जरिए भारत से प्याज और टमाटर आयात करने के विकल्प पर विचार कर रही है। वर्तमान में लाहौर और पंजाब के अन्य शहरों में तोरखम सीमा के जरिए अफगानिस्तान से टमाटर और प्याज की आपूर्ति हो रही है। लाहौर मार्केट कमेटी के सचिव शहजाद चीमा ने कहा कि बाढ़ के कारण शिमला मिर्च जैसी सब्जियों की भी बाजार में कमी हो गई है। चीमा ने कहा कि सरकार भारत से प्याज और टमाटर का आयात कर सकती है। उन्होंने कहा कि ताफ्तान सीमा (बलूचिस्तान) के जरिए ईरान से सब्जियों का आयात करना उतना सुगम नहीं है क्योंकि ईरान सरकार ने आयात और निर्यात पर कर बढ़ा दिया है।

Advertisement
Advertisement

Related posts

ठाकरे गुट की शाखा पर BMC ने चलवाया बुलडोजर, कार्यालय अवैध होने का दावा, ठाकरे गुट ने कहा सब झूठ

Report Times

गत तीन वर्षों में लगभग 49 हजार प्रकरणों का निस्तारण वर्ष 2022 तक कोई प्रकरण लंबित नहीं: मुख्य सूचना आयुक्त

Report Times

तेज रफ्तार बस की चपेट में आने से तीन लड़कों की मौत, बस चालक फरार

Report Times

Leave a Comment