Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीदेशराजनीति

कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो’ यात्रा की तुलना गांधीजी की पदयात्रा से करने की कोशिश

REPORT TIMES

Advertisement

खादी से बना राष्ट्रीय तिरंगा फहराकर ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की शुरुआत की जाएगी। यात्रा में कोई “मेड इन चाइना” पॉलिएस्टर झंडा नहीं होगा। तब हम सच्चे राष्ट्रवाद और नकली राष्ट्रवाद के बीच का अंतर जानेंगे,” कांग्रेस मीडिया प्रमुख जयराम रमेश ने सोमवार को ‘भारत जोड़ी’ यात्रा की जानकारी देते हुए कहा। कांग्रेस ने इस यात्रा को खादी और स्वदेशी सामान से जोड़कर बुधवार से शुरू हो रहे ‘भारत जोड़ो’ की तुलना गांधीजी की पदयात्रा से करने की कोशिश की है।

Advertisement

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान, महात्मा गांधी ने पदयात्रा निकाली और देश का दौरा किया, लोगों से स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने का आग्रह किया। स्वदेशी का नारा दिया गया, चरखा चलाया गया, खादी उद्योग को बढ़ावा दिया गया। कांग्रेस की ‘भारत जोड़ी’ यात्रा में जहां इनमें से कुछ भी नहीं होगा, वहीं राष्ट्रीयता की बात घर करने के लिए खादी का तिरंगा फहराया जाएगा। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर केंद्र सरकार ने ‘घरघराट तिरंगा’ कार्यक्रम लागू किया था। उस वक्त तिरंगे को लेकर काफी चर्चा हुई थी।

Advertisement

इसके अलावा, कांग्रेस परोक्ष रूप से सुझाव दे रही है कि कांग्रेस की 119 पदयात्राएं लोगों के साथ बातचीत करेंगी और उन्हें गांधीजी की तरह देश को जोड़ने के काम में भाग लेने के लिए प्रेरित करेंगी। रमेश का कहना है कि हालांकि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी 12 राज्यों के माध्यम से 3,570 किलोमीटर की 150 दिवसीय पदयात्रा में पूर्णकालिक भाग लेंगे, राहुल पदयात्रा का नेतृत्व नहीं करेंगे। रमेश ने रंगभेद विरोधी सेनानी, नेल्सन मंडेला, जिन्हें दक्षिण अफ्रीका का ‘गांधी’ कहा जाता है, का उदाहरण देते हुए वॉक की प्रकृति की व्याख्या की। “मंडेला कहते हैं कि मुझे भक्त नहीं चाहिए, मुझे ऐसे स्वयंसेवक चाहिए जो मेरे काम में भाग लें। इसी तरह कांग्रेस की ‘भारत जोड़ी’ यात्रा राहुल गांधी के 118 साथियों की तरह होगी, वे नेता नहीं, स्वयंसेवक होंगे, लोगों से बातचीत करेंगे, उनकी मांगों और समस्याओं को सुनेंगे।’

Advertisement

Advertisement

यात्रा 8 सितंबर को तमिलनाडु से कन्याकुमारी के पॉलिटेक्निक कॉलेज से सुबह 7 बजे शुरू होगी. औसत दैनिक सैर 22-23 किमी होगी। दैनिक यात्रा दो चरणों में सुबह 7 बजे से 10:30 बजे तक और दोपहर 3 बजे से शाम 6:30 बजे तक होगी। सुबह 15 किमी. इसलिए शाम को 8 किमी की दूरी तय की जाएगी। सुबह के सत्र में करीब दो हजार लोगों के शामिल होने की संभावना है। इस दौरान लोगों से चर्चा होगी। विभिन्न संस्थाओं और संगठनों के प्रतिनिधि मिल सकते हैं। यात्रा 8 सितंबर को तमिलनाडु से सुबह 7 बजे कन्याकुमारी पॉलिटेक्निक कॉलेज से शुरू होगी। औसत दैनिक सैर 22-23 किमी होगी। दैनिक यात्रा दो चरणों में सुबह 7 बजे से 10:30 बजे तक और दोपहर 3 बजे से शाम 6:30 बजे तक होगी। सुबह 15 किमी।  इसलिए शाम को 8 किमी की दूरी तय की जाएगी। सुबह के सत्र में करीब दो हजार लोगों के शामिल होने की संभावना है। इस दौरान लोगों से चर्चा होगी। विभिन्न संस्थाओं और संगठनों के प्रतिनिधि मिल सकते हैं।

Advertisement

आर्थिक विषमता बढ़ती जा रही है और देश का बंटवारा हो रहा है। इसलिए बिखरते भारत को फिर से एक करने की जरूरत है। सामाजिक ध्रुवीकरण राष्ट्र-समाज के विखंडन और अत्यधिक राजनीतिक केंद्रीकरण की ओर ले जा रहा है, राज्यों की शक्तियों को छीन रहा है। संविधान का दुरूपयोग हो रहा है। नीतियां- कार्यक्रम को प्रधानमंत्री कार्यालय से क्रियान्वित किया जा रहा है। रमेश ने कहा कि ये तीनों मुद्दे गंभीर हैं और दिल्ली में केंद्र सरकार तक लोगों की आवाज पहुंचाने के लिए भारत जोड़ी यात्रा का आयोजन किया जा रहा है।

Advertisement

भारत जोड़ी यात्रा के दौरान अगर कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष के चुनाव की जरूरत पड़ी तो 17 अक्टूबर को मतदान होगा। उस दिन कर्नाटक में 119 ‘तीर्थयात्री’ होंगे। चूंकि ये तीर्थयात्री मतदाता हैं, इसलिए वे बेंगलुरु में राज्य कांग्रेस कार्यालय में मतदान कर सकेंगे, रमेश ने बताया। तो राहुल गांधी भी कर्नाटक में वोट कर सकते हैं। अगर राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष का पद स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो एक और नेता नामित किया जा सकता है, अगर विद्रोही समूह के नेताओं द्वारा उम्मीदवारी को चुनौती दी जाती है, तो वोट लिया जाएगा।

Advertisement
Advertisement

Related posts

चूरू : 31 जुलाई के बाद खुलेगा सालासर मंदिर

Report Times

‘जहां झुग्गी वहीं मकान के वादे पर AAP ने BJP को घेरा, आतिशी ने लगाए वादाखिलाफी के आरोप

Report Times

श्रीमद् भागवत कथा के पांचवा दिन कृष्ण लीलाओं का वर्णन

Report Times

Leave a Comment