Report Times
latestOtherआक्रोशटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

राजस्थान में चुनावों से पहले बदलती है हवा, यात्रा पॉलिटिक्स से तय होगा सत्ता की कुर्सी का रास्ता!

REPORT TIMES

Advertisement

राजस्थान में एक साल पहले विधानसभा चुनावों की बिसात बिछ चुकी है जहां बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने जनता के बीच जाने का रोडमैप तैयार कर लिया है. सूबे में सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी जहां राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के स्वागत में जुटी हुई है वहीं विपक्षी दल बीजेपी ने सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में गहलोत सरकार को घेरने का प्लान लांच कर दिया है जहां वह कांग्रेस के खिलाफ जन आक्रोश रैली निकालने जा रही है. राहुल की यात्रा 3-4 दिसंबर को पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के निर्वाचन क्षेत्र झालरापाटन (झालावाड़) से राजस्थान में प्रवेश करेगी वहीं अगले 14 दिनों तक बीजेपी के जन आक्रोश रथ सभी विधानसभा सीटों में सरकार की विफलताओं का हिसाब लेकर जाएंगे. वहीं जन आक्रोश अभियान से बीजेपी एकजुटता का संदेश देते हुए कांग्रेस की गुटबाजी को मुद्दा बना रही है.बता दें कि राहुल गांधी की यात्रा को गैर कांग्रेस शासित राज्यों में अभी तक अच्छा रिस्पॉन्स देखने को मिला है वहीं अब यात्रा पहली बार किसी कांग्रेस शासित राज्य में प्रवेश करेगी, ऐसे में प्रदेश कांग्रेस एकजुटता का संदेश देने में जुटी है. वहीं इधर बीजेपी खेमे में भी यात्राओ का अपना इतिहास रहा है जहां वसुंधरा राजे ने इससे पहले 2 बार राजस्थान में रथ यात्रा निकालकर सत्ता परिवर्तन किया है.

Advertisement

Advertisement

यात्राओं में नेताओं की रही है खासी दिलचस्पी

Advertisement

बता दें कि देश के राजनीतिक इतिहास में नेताओं की यात्राओं से हमेशा से लोग जुड़े हैं और यात्राओं के दौरान लोगों ने नेताओं को खूब प्यार दिया है. इसी तरह राजस्थान के लोगों में भी राजनीतिक और धार्मिक यात्राओं के प्रति काफी आकर्षण रहा है. ऐसे में चुनावों से पहले राजस्थान में हर दल के नेता लंबी-लंबी दूरियों की पैदल यात्राएं करते हैं.

Advertisement

राजस्थान के इतिहास में मोहन लाल सुखाड़िया से लेकर भैरों सिंह शेखावत ने अपने जमाने में विभिन्न छोटी-बड़ी कई यात्राएं निकाली जिसके बाद चुनावों में उन्हें फायदा मिला. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे सहित और सचिन पायलट भी समय-समय पर यात्राएं निकालते रहे हैं.

Advertisement

राहुल की यात्रा और बीजेपी का आक्रोश

Advertisement

वहीं अब कांग्रेस का मानना है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से राजस्थान में अगले साल चुनावों के लिए एक सकारात्मक माहौल बनेगा जहां राहुल की यात्रा पूर्वी राजस्थान की लगभग 60 सीटों पर सीधा असर डालेगी. वहीं इस दौरान राहुल कई मंदिरों में भी दर्शन करेंगे. वहीं इधर बीजेपी का जन आक्रोश यात्रा के जरिए सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों तक पहुंचने का टारगेट है जहां 2 करोड़ लोगों से सीधा संवाद करने की योजना बनाई गई है.

Advertisement

राजे ने यात्रा से 2 बार पलटी सरकार

Advertisement

गौरतलब है कि बीजेपी की वसुंधरा राजे 2002 में पहली बार बीजेपी की प्रदेशाध्यक्ष बनी और उस दौरान अशोक गहलोत मुख्यमंत्री थे और 2003 के चुनावों में बीजेपी-कांग्रेस की टक्कर में बीजेपी को 120 सीटें मिली थी. इन चुनावों से पहले राजे ने राजस्थान के कोने-कोने में परिवर्तन यात्रा निकाली थी जिसका असर यह हुआ कि अगले चुनावों में कांग्रेस 56 सीटों पर सिमट गई थी.इसके बाद राजे ने साल 2012 में प्रदेशाध्यक्ष का पद संभालने के बाद एक बार फिर परिवर्तन यात्रा की तरह सुराज संकल्प यात्रा निकाली और दिसंबर 2013 में चुनाव के बाद बीजेपी को सर्वाधिक 163 सीटों का बहुमत मिला. हालांकि मई-जून 2013 में चुनावों से ठीक 6 महीने पहले अशोक गहलोत ने भी प्रदेशभर में एक संदेश यात्रा निकाली थी लेकिन चुनावों में कुछ खास फायदा उन्हें नहीं मिला.

Advertisement
Advertisement

Related posts

आज का पंचांग : 25 जून 2020

Report Times

अब राजस्थान में एकतरफा प्यार में मुर्तजा ने महिला को चाकू घोंपा, दोस्तों से बोला- पुलिस के हाथ कभी नहीं आउंगा

Report Times

हाथ की नस कटने से युवती की संदिग्ध मौत

Report Times

Leave a Comment