Report Times
latestOtherउतराखंडटॉप न्यूज़ताजा खबरेंस्पेशलहादसा

जोशीमठ में सेना की बैरकों तक पहुंची दरार, स्टैंड बाई पर ITBP की तीन कंपनियां

REPORT TIMES 

Advertisement

उत्तराखंड के जोशीमठ में आपदा का असर सेना के बैरकों तक पहुंच गया है. कई बैरकों की दीवारों में दरारें आ गई हैं. हालात को देखते हुए प्रभावित बैरकों में रहने वाले जवानों को ऊपर के दूसरे बैरकों में शिफ्ट कर दिया गया है. गनीमत है कि इस आपदा से सेना का ब्रिगेड हेड क्वार्टर फिलहाल सुरक्षित है. बावजूद इसके बॉर्डर रॉड्स, सेना और आईटीबीपी की हालात पर पूरी नजर है. उधर, सूचना मिलने पर केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट भी बुधवार को जोशीमठ पहुंचे थे. उन्होंने हालात का जायजा लेने के साथ ही अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिया था.

Advertisement

प्राप्त जानकारी के मुताबिक जोशीमठ में भू धंसाव से पैदा हुए खतरे का दायरा लगातार बढ़ रहा है. बताया जा रहा है कि इस भू धंसाव के चलते जोशीमठ स्थित सेना के कई बैरकों में भी दरार आ गई है. यह दरार उन बैरकों में ज्यादा देखी जा रही है जो नदी के करीब हैं. गनीमत है कि इस आपदा का सेना के बिग्रेड हेड क्वार्टर पर अब तक कोई असर नहीं पड़ा है. सेना का बिग्रेड हेड क्वार्टर ऊंची पहाड़ी पर है. ऐसे में प्रभावित बैरकों में रह रहे जवानों को ऊपर की बैरकों में शिफ्ट कर दिया गया है. इसी प्रकार आईटीबीपी का बटालियन भी अभी तक इस आपदा से पूरी तरह सुरक्षित है. हालांकि हालात पर नजर रखने और किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए आईटीबीपी की तीन कंपनी स्टैंड बाई पर रखा गया है.

Advertisement

Advertisement

निचले इलाकों में ज्यादा असर

Advertisement

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक जोशीमठ आपदा का ज्यादा असर निचले इलाकों में ही है. इन्हीं इलाकों में बनी सड़कों या जमीन के धंसने की सूचना है. इसी प्रकार सेना के भी उन्हीं बैरकों को नुकसान पहुंचा है जो निचले हिस्से में होने के साथ ही नदी के करीबी इलाकों में हैं. ऐसे हालात में सेना ने भी अपनी ओर से राहत और बचाव कार्य के साथ अपने साजो सामान की सुरक्षा के लिए अलर्ट हो गई है.

Advertisement

किसी ऑपरेशन पर असर नहीं: सेना

Advertisement

थल सेना अध्यक्ष मनोज पांडेय ने जोशीमठ आपदा को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि 25 से 28 मकानों में क्रेक आया है. सभी यूनिट्स को तत्काल प्रभाव से अस्थाई तौर पर रीलोकेट किया गया है. हालांकि इससे सेना के किसी ऑपरेशन पर कोई असर नहीं पड़ा है. उन्होंने कहा कि प्रभावित इमारतों में रह रही सेना के ट्रूप को ऊंचाई वाले स्थान औली में शिफ्ट कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि इसी प्रकार थोड़ा बहुत नुकसान जोशीमठ से बॉडर वाले मार्ग को भी हुआ है. उसकी मरम्म कराई जा रही है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

बाबा उमदसिंह की पदयात्रा बुहाना से रवान, जयकारों के साथ तातीजा पहुंचकर चढ़ाए निशान

Report Times

लखनऊ : यूपी में क्या है चुनाव का पूरा प्लान? किस जिले में कब होंगे चुनाव

Report Times

एडीजे कोर्ट झुंझुनूं ने पिता के हक में दिया फैसला, बेटे ने पिता को चूम लिया और बोला आई लव यू पापा

Report Times

Leave a Comment