Report Times
latestOtherजयपुरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

अब चुनाव संचालन समिति पर टिकी नजरें…वसुंधरा राजे और एक केंद्रीय मंत्री भी रेस में शामिल!

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान में विधानसभा चुनावों के करीब आने के साथ ही बीजेपी चुनावी मोड में आ गई है जहां पिछले 15 दिनों में पार्टी के भीतर जबरदस्त हलचल है. पिछले दिनों नया अध्यक्ष मैदान में उतारा गया जिसके बाद नेता प्रतिपक्ष और उपनेता के नाम पर मुहर लगी लेकिन इन सब बदलावों के बीच पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को लेकर बना हुआ सस्पेंस अब सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है. पार्टी में जहां एक तरफ नियुक्तियों का सिलसिला तेज हो गया है लेकिन राजे की भूमिका अभी तक साफ नहीं हो पाई है इसके बाद राजे की 2023 के विधानसभा चुनावों में भूमिका को लेकर चर्चा तेज है. मालूम हो कि राजे प्रदेश की कद्दावर नेता है और उनको साधे बिना बीजेपी चुनावों में नहीं उतरना चाहती है. वहीं दूसरी ओर कई केंद्रीय मंत्रियों के नामों की भी चर्चा जोरों पर है. वहीं इस बीच बताया जा रहा है कि पार्टी राजे को चुनाव संचालन समिति का अध्यक्ष बनाकर अहम जिम्मेदारी दे सकती है. हालांकि चुनाव संचालन समिति के लिए अन्य कई नाम जैसे गजेंद्र सिंह शेखावत और अर्जुन राम मेघवाल भी चल रहे हैं. वहीं इन सब की कलह के बीच पीएम मोदी के नजदीकी ओम प्रकाश माथुर को भी राजस्थान में किसी जिम्मेदारी के साथ उतारा जा सकता है.

Advertisement

Advertisement

चुनाव संचालन समिति करेगी टिकट फाइनल

Advertisement

जैसा कि हम जानते हैं कि राजस्थान में अब विधानसभा चुनावों में महज 8 महीने से भी कम का समय बचा है ऐसे में बीजेपी ने संगठन को नया रूप देने की तैयारी शुरू कर दी है. संगठन के बाद अब चुनाव संचालन समिति को लेकर हर किसी की उत्सु्क्ता है जो चुनावों में काफी अहम भूमिका निभाती है.बता दें कि बीजेपी चुनाव संचालन समिति विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन को अंतिम रूप देने के साथ ही चुनाव अभियानों का भी संचालन करती है. वहीं राज्यों के चुनाव और टिकट वितरण में कमेटी के सदस्य अहम भूमिका निभाते हैं.मालूम हो कि चुनावों से पहले इस समिति के पास कई अधिकार होते हैं और चुनाव के संचालन के साथ ही टिकटों को लेकर भी अहम फैसले लिए जाते हैं. वहीं अगर हम 2018 के चुनावों की बात करें तो पिछली बार चुनाव संचालन समिति के संयोजक गजेंद्र सिंह शेखावत और सह संयोजक सतीश पूनिया को बनाया गया था. इसके अलावा पिछली बार चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर को बनाकर आलाकमान ने भेजा था.

Advertisement

केंद्रीय मंत्री को मिल सकता है बड़ा टास्क !

Advertisement

इसके अलावा राजस्थान में बीजेपी बीते दिनों से सोशल इंजीनियरिंग के फॉर्मूले को अपनाते हुए आगे बढ़ रही है जहां अध्यक्ष से लेकर नेता प्रतिपक्ष और उप नेता तक जातिगत समीकरणों का ध्यान रखा गया है. ऐसे में चुनाव संचालन समिति को लेकर चर्चा यह भी है कि राजस्थान से आने वाले किसी केंद्रीय मंत्री को भी यह जिम्मेदारी मिल सकती है जिसमें अर्जुन राम मेघवाल का नाम भी चल रहा है. मेघवाल एससी समुदाय से आते हैं और पीएम मोदी के भी करीबी हैं.इसके अलावा दूसरे बड़े दावेदार के रूप में गजेंद्र सिंह शेखावत का नाम भी चल रहा है जो वर्तमान में केंद्र में जल संसाधन मंत्री हैं और पीएम मोदी के वफादार बताए जाते हैं. हालांकि शेखावत के गले की फांस इन दिनों करोड़ों रुपए का संजीवनी घोटाला बना हुआ है जहां सीएम अशोक गहलोत शेखावत पर हमलावर हैं और उन पर गिरफ्तारी की तलवार भी लटकी हुई है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजस्थान: आर-पार की लड़ाई के मूड में बेरोजगार, उपेन बोले- मांग पूरी होने तक नहीं खाऊंगा अन्न

Report Times

सेना भर्ती के लिए गए युवाओं की मौत:झुंझुनू में भी बढ़ी चिंता, लेह लद्दाख में चल रही है भर्ती, झुंझुनूं में भी चिंता का माहौल

Report Times

खाद की कमी को लेकर उपराष्ट्रपति को ज्ञापन 

Report Times

Leave a Comment