Report Times
latestOtherकरियरकर्नाटकटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिस्पेशलस्वागत

सिद्धारमैया होंगे कर्नाटक के सीएम, डिप्टी सीएम होंगे डीके शिवकुमार; कांग्रेस ने किया ऐलान

REPORT TIMES 

Advertisement

कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री 75 साल के सिद्धारमैया होंगे। 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के बाद डीके शिवकुमार को CM बनाया जाएगा। चार दिन से चल रही उठापटक के बीच बुधवार रात को यह फैसला लिया गया। बुधवार रात को क्या-क्या हुआ और डीके को कैसे मनाया गया।

Advertisement

जब खड़गे से नहीं माने तो सोनिया ने फिर कॉल किया…
रात के 10.15 बज रहे थे। सिद्धरमैया कर्नाटक कांग्रेस के इंचार्ज रणदीप सुरजेवाला के साथ मीटिंग कर रहे थे। उनके साथ कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी केसी वेणुगोपाल भी थे। 10.38 पर कांग्रेस नेता अजय सिंह ने कहा कि ‘आज ही रात आखिरी निर्णय ले लिया जाएगा। कोई खास दिक्कत नहीं है।’ इधर रणदीप सिंह सुरजेवाला केसी वेणुगोपाल के घर पहुंचते हैं और फिर बातचीत शुरू होती है। यही वो मीटिंग थी जिसमें डीके शिवकुमार को डिप्टी सीएम के लिए मना लिया गया। मीटिंग करीब 1 बजे तक चलते रही। इसमें पहले खड़गे ने डीके को मनाया। तमाम दलीलें रखीं। प्रियंका-राहुल ने भी बात की।

Advertisement

जब बात नहीं बन रही थी तो फिर डीके की सोनिया गांधी से बात करवाई गई। सोनिया शाम को डीके से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात कर चुकी थीं लेकिन उसमें बात नहीं बन पाई थी। रात में उन्होंने फोन कॉल पर डीके से बात की।

Advertisement

डीके को साफ बताया किया गया कि, ‘कर्नाटक में कोई भी डिसीजन उनकी सहमति के बिना नहीं लिया जाएगा। सिद्धारमैया को भले ही सीएम बनाया जा रहा है, लेकिन उन्हें हर निर्णय में डिप्टी सीएम ही सहमति लेना ही होगी। साथ ही डीके को यह भी कहा गया कि, आपकी पसंद के विधायकों को वो पोर्टफोलियो दिए जाएंगे, जो वो चाहते हैं। ढाई साल बाद सिद्धारमैया को हटाकर आपको सीएम बना दिया जाएगा।’जब यह सब बातें हो रहीं थीं तब डीके के साथ उनके आठ से दस समर्थक और भाई डीके सुरेश भी मौजूद थे, जो कर्नाटक में कांग्रेस के एकमात्र सांसद हैं। सोनिया गांधी से बातचीत के बाद डीके नरम पड़े और रात में करीब 2 बजे तक वो नए फॉर्मूले पर पूरी तरह से राजी हो गए थे।

Advertisement

इसके बाद तय हुआ कि 18 मई को शाम 7 बजे कांग्रेस विधायकों की मीटिंग बुलाई जाएगी और सिद्धारमैया को विधायक दल का नेता चुना जाएगा। हालांकि मीडिया में यह खबर सुबह 7 बजे के करीब आई कि कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने आज शाम को विधायक दल की बैठक बुलाई है। सुबह 10.30 बजे के करीब डीके ने खुद नए फॉर्मूले पर सहमति होने की बात कही।

Advertisement

यह सब बातें भी रात में ही तय हो गई थीं कि पिछले तीन दिनों से जो उठापटक चल रही है, उससे गलत मैसेज जा रहा है। सभी नेताओं को एकजुट होकर देश को मैसेज देना है कि कांग्रेस में कोई गुट नहीं है। पूरी पार्टी एक है।

Advertisement

Advertisement

इसी स्ट्रैटजी के तहत आज सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार एक ही गाड़ी से निकले। सीनियर जर्नलिस्ट अशोक चंदारगी कहते हैं, 2013 से 2018 के बीच सिद्धारमैया जब सीएम थे तब वो हाईकमान के कंट्रोल में नहीं थे। वो सारे डिसीजन अपने हिसाब से कर थे लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पाएगा। अब हर डिसीजन में डीके शिवकुमार को शामिल करना ही होगा।

Advertisement

भास्कर ने बुधवार सुबह ही खुलासा कर दिया था कि सिद्धारमैया CM और शिवकुमार डिप्टी CM होंगे। शिवकुमार पर तीन फॉर्मूले पर बात हो रही थी। इसमें से वे 50-50 फॉर्मूले पर राजी हुए। पहले ढाई साल सिद्धारमैया सीएम रहेंगे और बाद के ढाई साल डीके। यानी डीके लोकसभा चुनाव के बाद 2025 में मुख्यमंत्री बनेंगे। लोकसभा चुनाव तक डीके शिवकुमार पीसीसी अध्यक्ष भी बने रहेंगे।

Advertisement

CM पद की रेस में सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार दोनों ही मजबूत दावेदार थे। डीके ने चुनाव में जिस तरह से रोल निभाया था, उन्हें पूरी उम्मीद थी कि इस बार CM उन्हें ही बनाया जाएगा। डीके शिवकुमार बुधवार दोपहर 12:15 बजे राहुल से मिलने पहुंचे थे। दोनों की एक घंटे मीटिंग हुई। इससे पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल ने सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। सूत्र बताते हैं कि पहले सोनिया गांधी डीके के नाम पर सहमत थीं, पर वे दो-तीन वजहों से पिछड़ गए।

Advertisement

Advertisement

डीके इसलिए नहीं बन पाए CM…
पहली बड़ी वजह रही उनके ऊपर चल रही CBI और ED की जांच। कांग्रेस को डर था कि उन्हें CM बनाया तो BJP हमलावर हो सकती है। कांग्रेस को इससे नुकसान होगा। हाल में कर्नाटक के DGP प्रवीण सूद को CBI का डायरेक्टर भी बनाया गया है।

Advertisement

डीके और प्रवीण सूद की बिल्कुल नहीं पटती। कहा जा रहा था कि सूद को जानबूझकर ऐन वक्त पर CBI की कमान सौंपी गई है, क्योंकि डीके ने सरकार आने के बाद उन पर एक्शन लेने की बात कही थी।

Advertisement

डीके के पिछड़ने की दूसरी वजह ये रही कि वे वोक्कालिग्गा कम्युनिटी से आते हैं। इस कम्युनिटी की कर्नाटक में करीब 11% आबादी है। ओल्ड मैसूरु में इसका असर है। डीके की ओल्ड मैसूरु में अच्छी पकड़ है, लेकिन पूरे कर्नाटक के नजरिए से देखा जाए तो सिद्धारमैया डीके पर भारी पड़ते दिखाई देते हैं। वे कुरुबा कम्युनिटी से आते हैं और उनकी दलितों, पिछड़ों और मुस्लिमों में भी पकड़ है। उनकी सेकुलर छवि है।

Advertisement

कांग्रेस सिद्धारमैया की साफ छवि का फायदा लोकसभा चुनाव में उठाना चाहती है। कर्नाटक में लोकसभा की 28 सीटें हैं। इनमें सिर्फ एक सीट पर कांग्रेस का सांसद है। वे भी डीके शिवकुमार के छोटे भाई डीके सुरेश हैं। इस बार पार्टी चाहती है कि 28 में से कम से कम 20 सीटें अपने पाले में की जाएं। इसके जरिए जरूरी है कि सिद्धारमैया की छवि, जमीनी पकड़ डीके की संगठन क्षमता का फायदा उठाया जाए।

Advertisement

कर्नाटक में डीके पावरफुल बने रहेंगे
डीके शिवकुमार कर्नाटक की राजनीति में पावरफुल बने रहेंगे। उनके पसंदीदा विधायकों को बड़े पोर्टफोलियो दिए जाएंगे। लोकसभा चुनाव को मैनेज करने की पूरी जिम्मेदारी उन पर होगी, यानी टिकट बंटवारे से लेकर इलेक्शन स्ट्रैटजी बनाने तक में उनका रोल सबसे बड़ा रहेगा।

Advertisement

हाईकमान ने डीके को CM न बनाने के पीछे एक हवाला उम्र का भी दिया गया है। उन्हें कहा गया है कि अभी वे सिर्फ 61 साल के हैं और उनके पास राजनीति करने का लंबा वक्त है। कर्नाटक में आने वाले वक्त में वही कांग्रेस का नेतृत्व करेंगे, जबकि सिद्धारमैया का यह आखिरी चुनाव है। ऐसे में वो सिद्धारमैया CM बनने दें।

Advertisement

सोनिया गांधी को मां की तरह मानते हैं डीके
डीके शिवकुमार गांधी परिवार के लिए पूरी तरह से वफादार हैं। वे सोनिया गांधी को मां की तरह मानते हैं। CM पद के लिए रस्साकशी चल रही थी, तब राहुल गांधी सिद्धारमैया को CM बनाने की वकालत कर रहे थे, लेकिन सोनिया और प्रियंका गांधी डीके शिवकुमार के नाम पर सहमत थीं। कांग्रेस लीडरशिप ने इस पूरी स्थिति को लोकसभा चुनाव से जोड़ते हुए देखा।

Advertisement

फिर यह तय हुआ कि डीके को अभी CM बनाया तो लोकसभा चुनाव में इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। सिद्धारमैया के मामले में ऐसा नहीं होगा। राहुल के साथ ही सोनिया गांधी ने भी डीके शिवकुमार से तमाम पॉइंट़्स पर बात की। इसके बाद वो राजी हुए।

Advertisement

लोकसभा चुनाव के लिहाज से कांग्रेस ने बनाया था फॉर्मूला
सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार की दावेदारी के बीच कांग्रेस हाईकमान ने एक फॉर्मूला तैयार किया था। इसके तहत कुरुबा कम्युनिटी से आने वाले सिद्धारमैया को CM और उनके अंडर में तीन डिप्टी CM का प्लान था।

Advertisement

तीनों डिप्टी CM अलग-अलग कम्युनिटी के होंगे। इनमें वोक्कालिगा कम्युनिटी से आने वाले डीके शिवकुमार, लिंगायत कम्युनिटी के एमबी पाटिल और नायक/वाल्मिकी समुदाय के सतीश जारकीहोली का नाम शामिल था। कर्नाटक में कुरुबा आबादी 7%, लिंगायत 16%, वोक्कालिगा 11%, SC/ST करीब 27% हैं, यानी इस फैसले से कांग्रेस की नजर 61% आबादी पर थी।

Advertisement

कर्नाटक में कांग्रेस की 34 साल बाद सबसे बड़ी जीत

Advertisement

कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 224 में से 135 सीटें जीती हैं। उसे 43% वोट मिले हैं। राज्य में सरकार चला रही BJP को 66 और JD(S) को 19 सीटें मिली हैं। कांग्रेस ने कर्नाटक में 34 साल बाद सबसे बड़ी जीत हासिल की है। इससे पहले 1989 में उसने 178 सीटें जीती थीं। 1999 में उसे 132 सीटें मिली थीं।

Advertisement
Advertisement

Related posts

इस शहर में ट्रेन के स्टेशन पर आते ही झूम उठे लोग, ड्राइवर को पहनाई माला; आखिर क्यों?

Report Times

मुख्तार अंसारी के खिलाफ ईडी की बड़ी कार्रवाई, मनी लान्ड्रिंग मामले में दिल्ली और यूपी में मारे छापे

Report Times

बाल विवाह के मुद्दे पर असम में बवाल… अबतक 2170 गिरफ्तार, महिलाओं का प्रदर्शन

Report Times

Leave a Comment