Report Times
latestOtherकरियरगुजरातटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदेशमहाराष्ट्रमौैसमस्पेशल

भारत में आए वो 5 खतरनाक तूफान, जिसमें हजारों लोगों की हुई थी मौत, करोड़ों रुपयों की संपत्ति का हुआ नुकसान

REPORT TIMES 

Advertisement

बिपोर्जॉय तूफान के 15 जून की शाम को गुजरात के कच्छ, जखाऊ पोर्ट के पास और पाकिस्तान के तट पर टकराने की संभावना है. इसे अरब सागर में हाल के सालों का सबसे गंभीर तूफान बताया जा रहा है. ऐसे में इससे निपटने की तैयारी कर ली गई है. जान माल के नुकसान को बचाने के लिए गुजरात के सभी संभावित जिलों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं. देश में बिपोर्जॉय तूफान से भी काफी खतरनाक तूफान आ चुके हैं, जिनमें हजारों लोगों को जान गई और भारी तबाही में करोड़ों रुपयों का नुकसान हुआ. आइए आपको ऐसे ही 5 खतरनाक तूफानों के बारे में बताते हैं.

Advertisement

1-1999 में ओडिशा तट पर आया खतरनाक साइक्लोन

Advertisement

29 अक्टूबर 1999 को देश में खतरनाक साइक्लोन ओ-5 बी आया था. ये तूफान ओडिशा के तट पर आया था. इस तूफान ने भारी तबाही मचाई थी. इस तूफान में 10 हजार लोगों की मौत हो गई थी. इसके साथ ही लाखों लोग बेघर हो गए थे. इस तूफान ने 4.44 अरब डॉलर का नुकसान हुआ था. इस तूफान की गति 250 मील प्रति घंटे की थी. इस दौरान समुद्र में छह से सात मीटर तक ऊंची लहरें उठीं. आईएमडी की रिपोर्ट के मुताबिक 1999 में आया चक्रवात फॉल्स प्वाइंट चक्रवात जैसा था. जो सितंबर 19-23 सितंबर के बीच आया था.

Advertisement

Advertisement

2-साल 1998 में गुजरात में आया तूफान

Advertisement

4 जून 1998 को आए तूफान में गुजरात में जमकर तबाही मचाई थी. इस तूफान का लैंडफॉल कांडला बंदरगाह पर हुआ था. इस भयकंर तूफान में 1000 से अधिक लोगों की मौत हुई थी. इस तूफान की वजह से 10000 करोड़ रूपये का नुकसान हुआ था. इस चक्रवात में 165 किलोमीटर प्रति घंटे केव रफ्तार से हवाएं चली थीं. पूरे देश में इस चक्रवात की वजह से 10000 हजार जानें गईं थी. कच्छ के लोग आज भी इस तूफान के बारे में सोचकर कांप उठते हैं.

Advertisement

3-14-19 नवंबर 1977 को आया भयकंर तूफान

Advertisement

भारत में 70 के दशक के सबसे भयंकर तूफानों में इसकी गिनती होती है. इसने ओडिशा और आंध्र प्रदेश को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया था. इस तूफान के दौरान हवा की रफ्तार 193 किमी प्रति घंटे तक थी. इस तूफान में 10,000 लोगों की जान गई थी. ये तूफान कितना खतरनाक था, ये इससे ही समझा जा सकता है कि इसका असर छत्तीसगढ़ तक दिखा था. इस तूफान से कुल 350 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था.

Advertisement

4-26-30 अक्तूबर 1971 को ओडिशा में आया तूफान

Advertisement

ओडिशा के तट पर 26-30 अक्तूबर 1971 को भयानक तूफान आया था. इस तूफान की लैंडफॉल के समय रफ्तार 150 से 170 किलोमीटर थी. इस तूफान में भी 10,000 लोगों की जान गई थी. 10 लाख से अधिक लोग इस तूफान में बेघर हो गए थे. ये तूफान इतना भयंकर था कि इसमें 50 हजार मवेशियों की मौत हो गई थी और 8 लाख से अधिक घरों को नुकसान पहुंचा था.

Advertisement

5-साल 2021 में आया तौकते तूफान

Advertisement

साल 2021 में मई में तौकते तूफाम गुजरात के दक्षिणी तट से टकराया था. इस तूफान को गुजरात में साल 1998 के बाद सबसे भयकंर समुद्री तूफान माना जाता है. इस तूफान में 170 लोगों की मौत हुई थी. 20,0000 से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया था. इस तूफान में हजारों मवेशियों की और वन्य जीवों की मौत हुई थी. इस तूफान के दौरान 125 मील प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली. 40000 हजार से ज्यादा पेड़ इस तूफान में उखड़ गए थे.

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजस्थान में आज सुबह आए 171 नए कोरोना‌ पॉजिटिव

Report Times

केंद्र सरकार की बड़ी कार्रवाई, भारत के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने के आरोप में 8 यूट्यूब चैनल ब्लाक

Report Times

नवरात्र से दो दिन पहले योगी आदित्यनाथ ने मिर्जापुर के विंध्य धाम में लगाई हाजिरी

Report Times

Leave a Comment