Report Times
latestOtherकरियरकार्रवाईकोटाक्राइमटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

कोटा में कोचिंग का काला दिन, एक के बाद एक, दो सुसाइड, दो महीने तक टेस्ट पर रोक

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान का कोटा वो ब्लैक होल बनता जा रहा है, जहां कई छात्र सपने पूरा करने जाते हैं और फिर कभी वापस नहीं लौटते. रविवार का दिन भी कोचिंग वाले कोटा के तौर पर मशहूर इस शहर के लिए काले दिन के तौर पर साबित हुआ. रविवार को कोटा में एक नहीं बल्कि, दो-दो छात्रों ने मौत को गले लगा लिया. ये घटना इतनी बड़ी और विकराल है कि जिला कलेक्टर को सामने आकर ये आदेश देना पड़ा कि कोटा की कोई भी कोचिंग आने वाले दो महीनों तक कोई टेस्ट नहीं लेगी. इस विकराल समस्या का फिलहाल ये इलाज निकाला गया है, लेकिन तब तक इसने दो और बच्चों की जिंदगियों को निगल लिया. रविवार की शुरुआत हुई उस छात्र की मौत से जो अपनी मासूम आंखों में डॉक्टर बनने का सपना लेकर कोटा पहुंचा था. लेकिन अफसोस कि जिस कोचिंग के जरिए वो अपना ये सपना साकार करने के इरादे रखता था, उसी की बिल्डिंग से छलांग लगाकर उसने उन आंखों को हमेशा के लिए मूंद लिया, जिनमें डॉक्टर बनने का वो सपना कैद था. छात्र की खुदकुशी से पूरे इलाके और कोचिंग सेंटर में हड़कंप मच गया. बताया गया है कि रविवार को भारी संख्या में छात्र टेस्ट देने कोचिंग सेंटर पहुंचे थे. जिस छात्र ने कोचिंग की बिल्डिंग की छत से कूद कर जान दी, वो महाराष्ट्र से कोटा पढ़ने के लिए गया था और उसका नाम आविष्कार बताया जा रहा है. आविष्कार ने सुसाइड क्यों किया फिलहाल इसका खुलासा नहीं हो सका है, लेकिन पुलिस अपनी पड़ताल में जुट गई है.

Advertisement

Advertisement

बिहार से सपने पूरे करने कोटा पहुंचा था आदर्श

Advertisement

अभी कोटा के गलियारों में आविष्कार की सुसाइड की खबरें भी नहीं पहुंची थीं कि एक और सुसाइड ने शहर को सन्न कर के रख दिया और इस रविवार को काला रविवार बना दिया. महाराष्ट्र से आए आविष्कार के बाद बिहार से कोटा पढ़ने के लिए पहुंचे आदर्श ने भी मौत को गले लगा लिया. ये मामला कुन्हाड़ी थाने का बताया जा रहा है, जहां बिहार का रहने वाला आदर्श पढ़ने और फिर अपने सपने साकार करने के लिए रहने गया था.

Advertisement

दो सुसाइड के बाद दो महीने तक टेस्ट पर रोक

Advertisement

आदर्श ने फंदे से लटक कर अपने सपनों और अपनी जिंदगी को खत्म कर दिया. कोटा में एक ही दिन में एक के बाद एक लगातार दो छात्रों ने सुसाइड की तो कोचिंग सेंटर्स की राजधानी का प्रशासन भी सक्ते में आ गया. आनन-फानन में कोटा के कलेक्टर की तरफ से आदेश आया कि तुरंत कोटा के सभी कोचिंग सेंटर्स में हो रहे टेस्ट पर रोक लगाई जाए. कोटा कलेक्टर ने ये आदेश भी दिया कि आने वाले दो महीनों तक कोटा में किसी भी कोचिंग सेंटर में टेस्ट कराने पर रोक रहेगी.

Advertisement

कभी स्प्रिंग वाले पंखे तो कभी जाल…

Advertisement

कोटा प्रशासन के आदेश के बाद एक सवाल फिर से यक्ष प्रश्न बनकर सामने खड़ा हो रहा है कि क्या परीक्षा में दो महीनों की रोक लगाकर उस कोटा की इस नई सी बनती रीत को रोका जा सकेगा, जहां आंखों में सपने लेकर छात्र पहुंचते हैं और फिर कभी अपने घर ही वापस नहीं लौट पाते. इससे पहले भी कोटा में सुसाइड रोकने के लिए कई ऐसे तरीके अपनाए गए, जो कभी चौंका देते हैं, तो कभी सुर्खियां बन जाते हैं.

Advertisement

अभी साल पूरा भी नहीं हुआ है और कोटा में अब तक 20 छात्र आत्महत्या कर चुके हैं. कोटा में रीत सी बन रही इस सुसाइड प्रथा पर रोक लगाने के लिए हॉस्टल के मालिक कभी स्प्रिंग वाले पंखे लगाते हैं, तो कभी पंखों के इर्द-गिर्द जाल लगा देते हैं, लेकिन छात्रों की सुसाइड का ये आंकड़ा साल दर साल बढ़ता ही जा रहा है. सरकार ने सुसाइड पर लगाम लगाने के लिए जो काउंसलिंग कमेटी बनाई थी, वो भी फेल होती दिखाई दे रही है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

चिड़ावा : क्रिकेटर रैना ने की रजस्थान पुलिस की खूब बड़ाई

Report Times

हैवानियत की शिकार दो बेटियों की दर्दभरी कहानी

Report Times

एक-दो नहीं 400 का धर्म परिवर्तन! गाजियाबाद धर्मांतरण केस में खुलासा, महाराष्ट्र के मुंब्रा में चल रहा था बड़ा खेल

Report Times

Leave a Comment