Report Times
latestOtherकरियरकार्रवाईक्राइमझुंझुनूंटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

राजस्थान में चमत्कार! यहां ‘भालू-शेर’ भी ले रहे पेंशन, मचा हड़कंप

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान के झुंझुनूं में पेंशन उठाने के लिए जन आधार कार्ड में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. झुंझुनूं में 10 दिन में 3 से 4 ऐसे केस सामने आ चुके हैं, जिनमें पेंशन उठाने के लिए फर्जीवाड़ा कर एक दर्जन से अधिक नाम जोड़ दिए गए. चौंकाने वाली बात ये है कि ये सारा फर्जीवाड़ा एक ही दफ्तर से किया गया है. यहां दो जन आधार कार्ड ऐसे मिले हैं, जिनमें 16 फर्जी नाम जोड़े गए हैं. दोनों ही कार्ड को बिना जांच किए दो स्तर से जारी कर दिया गया. आमतौर पर जन आधार कार्ड में तीन स्तर पर जांच होती है. अगर व्यक्ति शहरी क्षेत्र का है तो सबसे पहले नगर परिषद, उसके बाद एसडीएम कार्यालय और इसके बाद जयपुर ऑफिस में जांच के बाद जन आधार कार्ड जारी किया जाता है. अब सवाल ये उठ रहा है कि संबंधित अधिकारियों ने बिना जांच किए दो लेवल पर जन आधार कार्ड को कैसे जारी कर दिया? जबकि जनआधार कार्ड में नाम जोड़ने की प्रक्रिया त्रि-स्तरीय होती है.

Advertisement

Advertisement

केस नंबर – एक

Advertisement

झुंझुनूं के आनंदपुरा की कल्पना के जन आधार कार्ड में 16 नाम जोड़ दिए गए. जिसमें भालू, शेर, पांडा और फूल को सदस्य बनाया गया. इसमें पेंशन उठाने के लिए उदयपुर और प्रतापगढ़ जिले के 15 पीपीओ नंबर जोडे़ गए. इस कार्ड में भी जिला स्तर पर अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सामने आई थी. कार्ड में 16 मई 2023 को कल्पना नाम के साथ फूल की फोटो लगाकर फर्जी नाम जोड़ा गया था, जिसे तीनों लेवल पर बिना जांचे ही जारी कर दिया गया. इसके बाद 8 अगस्त को शेर, भालू, फूल, पांडा की फोटो के साथ 15 नाम जोड़ने की कोशिश की गई. अगर पीड़ित फसल मुआवजे को लेकर ग्राम पंचायत नही पहुंचती तो ये भी जारी कर दिया जाता.

Advertisement

केस नंबर – दो

Advertisement

24 अगस्त को झुंझुनूं के वार्ड नंबर 1 निवासी नूर बानो महंगाई राहत कैंप में रजिस्ट्रेशन कराने पहुंची थी. जैसे ही जनआधार कार्ड को कर्मचारी ने देखा वह दंग रह गया. जन आधार कार्ड में 16 फर्जी नाम जुड़े हुए थे. कार्ड मुस्लिम महिला का था लेकिन नाम हिंदू व्यक्तियों के जुडे़ हुए थे. इन सब में पेंशन के पीपीओं नंबर जोडे़ हुए थे, जो सभी उदयपुर जिले के थे. इसे भी नगरपरिषद और उपखंड कार्यालय से बिना जांचे जारी कर दिया गया.

Advertisement

सब में एक ही कॉमन

Advertisement

इन दोनों जन आधार कार्ड के अलावा एक-दो और ऐसे केस सामने आए हैं, जिनमें एक जैसा ही फर्जीवाड़ा हुआ है. इन सभी में एक चीज कॉमन है. ये सारा फर्जीवाड़ा एक ही एसएसओ आईडी से किया गया है. पीपीओ नंबर भी एक ही जगह उठाए गए हैं. ये तो झुंझुनूं में सामने आया फर्जीवाड़ा है. अगर प्रदेश स्तर की बात की जाए ना जाने कितनों के नाम से पेंशन उठाई जा रही है. एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस फर्जीवाड़े को जयपुर के बस्सी से अंजाम दिया जा रहा है. एक्सपर्ट जांच में जुटे हुए है. जल्द ही इसका खुलासा होगा.

Advertisement

आखिर क्या है इसका मकसद?

Advertisement

विशेषज्ञ घनश्याम गोयल का कहना है कि जनआधार कार्ड में फर्जी तरीके से नाम जोड़ने का एक ही मकसद हो सकता है- राज्य सरकार जनकल्याण योजना का फायदा उठाना. दूसरे व्यक्ति का पीपीओ नंबर जोड़कर पेंशन उठाने के लिए ये फर्जीवाड़ा किया जा रहा है. तीन ऐसे मामले सामने आ चुके हैं.

Advertisement

डॉक्यूमेंट शो नहीं करते

Advertisement

इस मामले झुंझुनूं एसडीएम सुप्रिया से जब बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि ये मामला संज्ञान आया है. एक कार्ड में इसी तरह की गलती हुई है या एडिटिंग की गई है, जो भी मामला है जांच की जा रही है. उन्होंने ये भी कहा कि ये नगर परिषद से अप्रूव होने के बाद आता है, हमारे दफ्तर में डॉक्यूमेंट शो नहीं होता. ऐसा सिर्फ नगरपरिषद में ही दिखता है. नगर परिषद को हिदायत दे दी गई है कि जांच करके आगे काम बढ़ाएं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

सैनिक एक्सप्रेस को हरिद्वार तक विस्तार देने की मांग को लेकर केन्द्रीय रेल मंत्री के नाम सांसद नरेन्द्र कुमार को सौंपा ज्ञापन

Report Times

ट्रांसपोर्टर की औकात पूछने वाले DM नपे, माफी भी नहीं आई काम, 24 घंटे में ही तबादला

Report Times

दलित कोचिंग स्टूडेंट से गैंगरेप का मुख्य आरोपी दिनेश विश्नोई गिरफ्तार:रोडवेज बस में पहुंचा था सीकर, पुलिसवालों से भी थी आरोपी की अच्छी खासी दोस्ती

Report Times

Leave a Comment