Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्मभीलवाड़ाराजनीतिराजस्थानस्पेशल

मंदिर के दानपात्र में मिला PM मोदी का लिफाफा, 8 महीने बाद पुजारी ने खोला तो निकले इतने रुपये

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान के भीलवाड़ा में प्रसिद्ध गुर्जर समाज के आराध्य स्थल मालासेरी डूंगरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लिफाफा खोला गया है. इस लिफाफे में 21 रुपये की दान राशि निकली है जिसमें एक 20 रुपये का नोट है और एक सिक्का है. प्रधानमंत्री के इस लिफाफे को लेकर सभी को बहुत उत्सुकता थी. सभी के मन में पिछले करीब 8 महीने से यह सवाल था कि आखिर पीएम मोदी ने मंदिर को कितनी दान राशि दी है. इसका जवाब आखिरकार सभी को मिल ही गया. जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसी साल जनवरी में जिले के असींद तहसील में स्थित मालासेरी डूंगरी गए थे. यहां उन्होंने पूजा पाठ किया था और मंदिर के दानपात्र में एक सफेद रंग का लिफाफा डाला था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस लिफाफे पर सभी की नजरें थीं. लेकिन, मंदिर के नियमानुसार दानपात्र को साल में सिर्फ एक ही बार खोला जाता है. इसलिए हाल ही में इस दानपात्र को खोला गया है. दानपात्र में करीब 19 लाख रुपये में मिले हैं.

Advertisement

Advertisement

अभी भी दानपात्र में मिले कुल दानराशि की गितनी की जा रही है. लेकिन, इसी बीच दानपात्र में तीन लिफाफे भी मिले हैं. मंदिर के पुजारी ने दावा किया है कि तीनों लिफाफे अलग रंग के मिले हैं जिसमें पीएम मोदी का लिफाफा सफेद रंग का था. पुजारी ने दानपात्र से निकालकर इस लिफाफे को सभी के सामने खोला. इसकी वीडियो भी रिकॉर्ड की गई है. सभी को बहुत उत्सुकता थी कि आखिरी पीएम मोदी के लिफाफे में क्या निकलता है. पुजारी ने सभी के सामने इस लिफाफे को उठाया और दिखाया. इसके बाद उन्होंने इस सफेद रंग के लिफाफे को खोला. लिफाफे के अंदर की राशि देखकर सभी हैरान रह गए. पुजारी हेमराज पोसवाल ने बताया है कि वीडियो में पीएम मोदी को सफेद रंग का लिफाफा डालते हुए देखा गया था इसी से अंदाजा लगाया गया है कि यही लिफाफा पीएम मोदी ने डाला था. उन्होंने यह भी बताया कि जो तीन लिफाफे दानपात्र से मिले हैं उनमें से एक में 101 रुपये, एक में 2100 रुपये और सफेद लिफाफे में 21 रुपये निकले हैं.

Advertisement

भगवान देवनारायण की जन्मस्थली

Advertisement

मालासेरी डूंगरी गुर्जर समाज के आराध्य भगवान देवनारायण की जन्मभूमि मानी जाती है. बताया जाता है कि भगवान देवनारायण की मां ने 1111 साल पहले इसी जगह पर तपस्या की थी. जिसके बाद भगवान विष्णु स्वयं देवनारायण के रुप में यहां पर प्रकट हुए थे. यह वजह है कि पूरे गुर्जर समाज की इस मंदिर में विशेष आस्था है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

IPL 2022: राजस्थान के खिलाफ आइपीएल का अपना आखिरी मैच क्यों नहीं खेलेंगे एम एस धौनी- गावस्कर ने बताया कारण

Report Times

राजस्थान प्रधान संघ ने मुख्यमंत्री के नाम भेजा 11सूत्री मांग पत्र : चिड़ावा में हुई प्रधान संघ की बैठक

Report Times

Modi: मोदी 3.0 में मंत्रालयों का बंटवारा, यहां देखिए किसको क्या मिला?

Report Times

Leave a Comment