Report Times
latestOtherअलवरकार्रवाईक्राइमगिरफ्तारटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजस्थानस्पेशल

राजस्थान: एसीबी की टीम ने डिस्कॉम के लाइनमैन को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगेहाथ किया गिरफ्तार

REPORT TIMES 

Advertisement

राजस्थान में एंटी करप्शन ब्यूरो की कार्रवाई के बाद भी घूसखोरी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. प्रदेश के अलग-अलग जिलों कमोवेश हर रोज ही किसी न किसी रिश्वतखोर कर्मचारी-अधिकारियों की गिरफ्तारी की खबरें सामने आती है. लेकिन इसके बाद भी करप्शन की काली कमाई का गोरखधंधा बंद नहीं हो रहा है. इस गोरखधंधे में बड़े-बड़े अफसरों के साथ-साथ ग्रेड-3,4 कर्मचारी भी जुटे हैं. गुरुवार को अजमेर में एसीबी ने एक रिश्वतखोर सहायक प्रशासनिक अधिकारी को गिरफ्तार किया था. अभी उसके ठिकानों की जांच जारी ही है इस बीच अलवर में एसीबी ने एक और रिश्वतखोर को गिरफ्तार कर लिया है.

Advertisement

Advertisement

घरेलू बिजली कनेक्शन में वीसीआर नहीं भरने की एवज में मांग रहा था घूस

Advertisement

मिली जानकारी के अनुसार एसीबी मुख्यालय के निर्देश पर अलवर-प्रथम इकाई ने आज कार्रवाई करते हुए जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड, जिला खैरथल तिजारा के तकनीकी सहायक (लाईनमैन) जितेन्द्र कुमार को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया. एसीबी की अलवर-प्रथम इकाई को परिवादी द्वारा शिकायत दी गई कि घरेलू कनेक्शन की वी.सी.आर नहीं भरने की एवज में उपर्युक्त आरोपी कर्मचारी 10 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा है.

Advertisement

सत्यापन में सच निकली शिकायत फिर की कार्रवाई 

Advertisement

रिश्वत मांगने की शिकायत मिलने के बाद एसीबी जयपुर के उप महानिरीक्षक पुलिस कालूराम रावत के निर्देशन में एसीबी अलवर-प्रथम इकाई के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पीयूष दीक्षित द्वारा शिकायत का सत्यापन किया गया. सत्यापन में शिकायत सच साबित होने के बाद आज पुलिस निरीक्षक  प्रेमचंद द्वारा ट्रैस की कार्रवाई की गई.

Advertisement

गिरफ्तार घूसखोर कर्मचारी से पूछताछ जारी

Advertisement

आरोपी कर्मचारी जितेन्द्र कुमार को परिवादी से 10 हजार रुपये की रिश्वत राशि लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है. उल्लेखनीय है कि आरोपी कर्मचारी द्वारा शिकायत के सत्यापन के दौरान भी परिवादी से 10 हजार रुपये रिश्वत के रूप में वसूल कर लिये थे. एसीबी के उप महानिरीक्षक पुलिस कालूराम रावत के निर्देशन में आरोपी से पूछताछ जारी है. एसीबी द्वारा मामले में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अन्तर्गत प्रकरण दर्ज कर अग्रिम अनुसंधान किया जाएगा.

Advertisement
Advertisement

Related posts

ICU में डॉक्टर कर रहे थे इलाज, मरीज के ऑक्सीजन मास्क में लगी आग, कोटा के अस्पताल में दर्दनाक मौत

Report Times

खरगे पर किताब: कांग्रेस ने बताया महान, महाजन-सिंधिया ने किया गुणगान

Report Times

सत्ता का कुछ परिवारों में केंद्रीकरण बिहार की राजनीति के लिए अभिशाप : किशोर

Report Times

Leave a Comment