Report Times
latestOtherकार्रवाईटॉप न्यूज़ताजा खबरेंदिल्लीदेशस्पेशल

दिल्ली हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, डॉक्यूमेंट्स पर मां का नाम अनिवार्य, जानिए कब से लागू होगा नियम

REPORT TIMES

Advertisement

दिल्ली हाईकोर्ट ने एक लॉ स्टूडेंट की सुनवाई के दौरान शैक्षिक प्रमाण-पत्रों और डिग्रियों पर बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है जहां अभिभावक का नाम होता है वहां, माता और पिता दोनों का नाम होना चाहिए। कोर्ट ने साफ कहा है कि केवल पिता के नाम का कोई मतलब नहीं है। दिल्ली हाईकोर्ट ने सामाजिक महत्व का मुद्दा बताते हुए स्टूडेंट्स के डॉक्यूमेंट्स पर मां का नाम अनिवार्य करने का फैसला सुनाया है।

Advertisement

इस राज्य ने भी अपनाया नियम

Advertisement

इसी के चलते महाराष्ट्र सरकार ने भी सभी सरकारी डॉक्यूमेंट्स पर बच्चे के नाम के बाद माता का नाम, इसके बाद पिता का नाम और सरनेम लिखने का बड़ा फैसला सुनाया दिया है। महाराष्ट्र सरकार ने सोमवार को कैबिनेट मीटिंग में सरकारी दस्तवेजों जैसे- आधार कार्ड,जन्म प्रमाण पत्र, प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट्स, स्कूल की मार्कशीट- सर्टिफिकेट्स, पैन कार्ड आदि में मां का नाम अनिवार्य करने का फैसला लिया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट एक्स पर एक पोस्ट शेयर कर इसकी सूचना दी।

Advertisement

Advertisement

कब से लागू होगा नियम

Advertisement

कैबिनेट का यह फैसला 01 मई 2024 से लागू किया जाएगा। सरकार ने कहा कि 1 मई या उसके बाद जन्म लेने वालों के स्कूल, पे स्लिप, परीक्षा प्रमाण पत्र और रेवेन्यू डॉक्यूमेंट के लिए इसी फॉर्मेट में अपना नाम रजिस्टर कराना होगा। महिला एवं बाल विकास विभाग ने पहले कहा था कि इस फैसले को माताओं की महत्वपूर्ण भूमिका को पहचान देने की दिशा में एक कदम के रूप में देखा जा सकता है।

Advertisement

डिग्री पर मां का नाम नहीं होने पर कोर्ट पहुंची थी लॉ स्टूडेंट

Advertisement

दिल्ली की गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिट से लॉ की पढ़ाई कर रही एक छात्रा ने जब अपनी डिग्री पर मां का नाम नहीं मिलने पर दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। याचिकाकर्ता रितिका प्रसाद लॉ ग्रेजुएट हैं, उनका कहा था कि उन्होंने पांच साल पहले बीए एलएलबी कोर्ट में एडमिशन लिया था। जब कोर्स पूरा हुआ और डिग्री दी गई है तो उस पर केवल पिता का नाम लिखा था। रितिका का कहना था कि डिग्री पर मां और पिता दोनों का नाम होना चाहिए।

Advertisement

‘यह एक बड़ा सामाजिक महत्व का मुद्दा है’

Advertisement

कोर्ट का कहना है कि यह एक बड़ा सामाजिक महत्व का मुद्दा है। इस संबंध में UGC ने 06 जून 2014 को एक सर्कुलर जारी किया था, बावजूद इसकी अनदेखी की गई है। कोर्ट ने इस पर भी खुद प्रकट किया है। कोर्ट ने यूनिवर्सिटी को 15 दिन के अंदर मां के नाम के साथ नया सर्टिफिकेट जारी करने का समय दिया।

Advertisement
Advertisement

Related posts

IPL 2022: राजस्थान के खिलाफ आइपीएल का अपना आखिरी मैच क्यों नहीं खेलेंगे एम एस धौनी- गावस्कर ने बताया कारण

Report Times

राजस्थान सरकार का बजट live देखे

Report Times

श्रीपीठ महालक्ष्मी धाम का वार्षिक मूर्ति स्थापना दिवस समारोह, 4 जुलाई से होंगे तीन दिवसीय धार्मिक आयोजन 

Report Times

Leave a Comment