Report Times
latestBusinesspoliticsटॉप न्यूज़ताजा खबरें

350 रुपए की नौकरी करने वाले मंजीत लाल ने खड़ी की 10 करोड़ टर्न ओवर वाली कंपनी

Reporttimes.in

मंजीत लाल की कोरोना काल में दिखी दरियादिली

मंजीत लाल की दरियादिली कोरोना काल में देखने को मिली. जब दिल खोलकर लोगों की मदद के लिए सामने आये. उन्होंने न सिर्फ कमजोर परिवार की राशन-पानी के साथ पैसे से मदद की, बल्कि उनकी बेटे-बेटियों की शादी में भी बढ़-चढ़कर मदद दी.

Advertisement

क्रशर प्लांट में लगने वाले कन्वेयर के सबसे बड़े सप्लायर बने मंजीत

आज मंजीत लाल पाकुड़ में किसी परिचय के मोहताज नहीं है. इनका 10 करोड़ रुपये टर्न ओवर की हिंदुस्तान कनवेयर के नाम से कंपनी है. क्रशर प्लांट में लगने वाले कन्वेयर के सबसे बड़े सप्लायर में से एक हैं. लेकिन मंजीत लाल की चांदी के चम्मच के साथ पैदा नहीं हुए थे. उनका बचपन और जवानी दोनों संघर्षों में कटा है.

Advertisement

टेलीफोन बूथ में 350 रुपए की सैलरी पर काम करते थे मंजीत लाल

मंजीत लाल खुद बताते हैं कि हमारा बैंड बोक्स के नाम से कपड़े आयरन करने और ड्राइ क्लीन करने का दुकान था. हम अपने भाइयों के साथ सुबह तीन बजे उठकर कपड़े आयरन करते थे. हमने करीब 14-15 साल की उम्र से काम करना शुरु किया. फिर आंबेडकर चौक के पास स्थित एक टेलीफोन बूथ में 350 रुपये महीने पर काम करना शुरू किया. किसी के पास काम करने का यह मेरा पहला और आखिरी काम था. यह काम हमने 1992 में किया था.

Advertisement

संजीव खत्री के 5 हजार रुपए की आर्थिक मदद से खड़ा किया व्यापार

मंजीत लाल ने बताया कि चैंबर ऑफ कॉमर्स के सचिव संजीव खत्री तब हमारे अच्छे मित्र थे. उन्होंने सलाह दी कि कन्वेयर बेल्ट का काम कीजिये. इसमें कुछ आमदनी मिलेगा. काम करने के लिए उन्होंने तब 5 हजार रुपया व्यवसाय शुरु करने के लिए भी दिया. उन पैसों से मैं कलकता से कन्वेयर बेल्ट लाकर पाकुड़ में बेचना शुरू किया. यह धंधा चल निकला.

Advertisement

व्यापार में ईमानदारी की वजह से मिली सफलता

फिर धनबाद के झरिया के व्यवसायी सज्जन लाल जायसवाल के पास से बेल्ट लाना शुरू किया. उन्होंने भी मेरी काफी मदद की. 20 हजार रुपये का सामान लेने जाते तो वे मुझे 80 हजार रुपये का सामान उधारी में दे देते. मैंने व्यवसाय में ईमानदारी बरती और हिंदुस्तान कन्वेयर के नाम से अपना व्यवसाय खड़ा किया. आज हमारी कंपनी 10 करोड़ रुपये टर्न ओवर की कंपनी बन गयी है.

Advertisement

पाकुड़ में अब जमीन का भी कारोबार करते हैं मंजीत लाल

मंजीत लाल यहीं नहीं रुके, इस दौरान उनके कई साथी भी जुड़ गये. सभी ने उनकी मदद की. आज वे पाकुड़ में जमीन का भी कारोबार कर रहे हैं. इसके साथ-साथ उन्होंने सिलीगुड़ी में भी लैंड डेवलपर का काम शुरु किया है. वे सिलीगुरी से 40 किलोमीटर दूर डोर्स में 68 बीधा का फार्म हाउस तैयार करा रहे हैं. जहां वे अपना बुढ़ापा व्यतीत करने की सोच रहे हैं.

Advertisement

पत्नी मोहिनी रजक के साथ मंजीत ने कर दिया है देहदान

मंजीत लाल की पहचान एक सफल व्यवसायी के रूप में है ही साथ ही उन्हें एक समझदार शख्सियत के रुप में भी जाना जाता है. वे अपनी पत्नी मोहिनी रजक के साथ अपने बॉडी को भी सरकार को डोनेट कर दिया है. यह काम उन्होंने पांच साल पहले ही किया है.

Advertisement

अपनी सफलता के राज के बारे में भी मंजीत लाल ने बताया

मंजीत लाल कहते हैं कि हर समाज और जाति के लोग मेरे मित्र हैं. मुझे हमेशा उनका साथ मिला. यहीं कारण है कि मैं सफल हो पाया. इसमें मेरी मेहनत के साथ-साथ उनकी मदद और सबका आशीर्वाद भी जुड़ा हुआ है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

श्याम मंदिर में हरि कीर्तन में झूमे श्रद्धालु

Report Times

महाराष्ट्र में शिंदे सरकार का कैबिनेट विस्तार, 18 मंत्रियों ने ली शपथ

Report Times

सूरजगढ़ धाम के लिए निशान रवाना : श्याम बाबा के भजनों पर झूमते हुए रवाना हुए श्याम भक्त

Report Times

Leave a Comment