Report Times
latestOtherटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिराजस्थानस्पेशल

यात्रा के बाद अब शुरू होगी रंधावा की परीक्षा, गहलोत-पायलट की रार है बड़ी चुनौती !

REPORT TIMES

Advertisement

राजस्थान में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा अपना 16 दिनों का सफर पूरा कर 21 दिसंबर को हरियाणा में प्रवेश कर गई है. राहुल की यात्रा के दौरान अशोक गहलोत  और सचिन पायलट खेमे की एकजुटता चर्चा का विषय रही और सूबे में बयानबाजी का दौर एकदम से शांत हो गया. हालांकि पायलट समर्थकों ने कुछ जगहों पर नारेबाजी की. वहीं अब यात्रा के दौरान राजस्थान कांग्रेस में पिछले चुनावों जैसी दिखी सियासी कितने दिन बरकरार रहती है इसको लेकर कई तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं. प्रदेश के सियासी गलियारों में चर्चा है कि अब राजस्थान में दिखी एकता का भविष्य क्या होगा और पायलट-गहलोत की खींचतान पर आने वाले दिनों में आलाकमान क्या फैसला लेगा. जानकारों का कहना है कि यात्रा के दौरान नियुक्त किए गए राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा की असली परीक्षा अब शुरू होगी.

Advertisement

बता दें कि रंधावा को अब कांग्रेस को इस अधरझूल की स्थिति से निकलकर निर्णय करना होगा जहां राजस्थान चुनावों को लेकर गहलोत और पायलट की एकजुटता को बनाए रखना और मनमुटाव को खत्म करना उनके लिए एक बड़ी चुनौती होगी.

Advertisement

Advertisement

नए प्रभारी के सामने चुनौती का अंबार !

Advertisement

मालूम हो कि राजस्थान में संकट को देखते हुए अजय माकन के इस्तीफे के बाद सुखजिंदर सिंह रंधावा को नया प्रभारी बनाया गया था जिन्होंने यात्रा के राजस्थान में आने के एक दिन बाद प्रभार संभाला था. वहीं अब उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती होगी कि वे किस तरह राजस्थान विवाद का निपटारा करेंगे. राजस्थान में यात्रा के दौरान भले ही गहलोत-पायलट साथ चले हों और एकजुटता दिखाई दी हो लेकिन पायलट समर्थकों ने दौसा में शक्ति प्रदर्शन कर पायलट को सीएम बनाने की मांग उठाई थी.

Advertisement

माना जा रहा है कि अंदरूनी तौर पर खींचतान की लकीरें अभी भी खिंची हुई है. वहीं बीते दिनों सुखजिंदर सिंह रंधावा ने अलवर में मीडिया से बातचीत में कहा था कि गहलोत और पायलट दोनों नेताओं का डीएनए कांग्रेसी है और दोनों में से कोई भी पार्टी नहीं छोड़ने वाला है.

Advertisement

यात्रा में दिखी एकजुटता टिकेगी ?

Advertisement

वहीं राहुल की यात्रा के बाद सबसे बड़ा सवाल यही है कि राजस्थान कांग्रेस में दिखी सियासी एकजुटता कितने दिनों तक टिकी रहती है. यात्रा के दौरान सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक साथ चलते नजर आए थे. वहीं हिमाचल प्रदेश में सीएम के शपथ ग्रहण में दोनों एक ही चार्टर से रवाना हुए थे. इससे पहल केसी वेणुगोपाल ने जयपुर में दोनों का साथ खड़ा कर एकता का मैसेज देने की भी कोशिश की थी लेकिन अनिर्णय की स्थिति अभी तक बनी हुई है.

Advertisement

राहुल गांधी ने दोनों को बताया था एसेट

Advertisement

हालांकि गहलोत के पायलट को गद्दार वाले बयान के बाद राहुल गांधी ने 28 नवंबर को इंदौर में मीडिया से बातचीत के दौरान कहा था कि गहलोत और पायलट दोनों नेता कांग्रेस के लिए बेहद जरूरी हैं और दोनों नेता कांग्रेस के लिए एसेट की तरह हैं. मान जा रहा है कि राहुल गांधी दोनों के बीच खींचतान के मसले पर सुलह के रास्ते पर आगे बढ़ते हुए चुनावों पर ध्यान फोकस करना चाहते हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

जलदाय विभाग कार्यालय पर किया वार्डवासियों ने विरोध प्रदर्शन, सहायक अभियंता को सौंपा ज्ञापन

Report Times

सेमरियावां : 54 बच्चों में ड्रेस वितरण

Report Times

गौ रक्षा दल ने दस से ज्यादा परिंदों की बचाई जान :  दिनभर पक्षियों की सेवा में लगे रहे युवा गौरक्षक, चार परिंदों को नहीं बचा सके

Report Times

Leave a Comment