Report Times
latestOtherकरियरटॉप न्यूज़ताजा खबरेंधर्म-कर्ममध्यप्रदेशराजनीतिशुभारंभस्पेशल

CM शिवराज ने किया आदि गुरु शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण, कहा- विश्व को मिलेगा सनातन का संदेश

REPORT TIMES 

Advertisement

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ओंकारेश्वर में आदि गुरु शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण किया. इस अनुष्ठान में 5 हजार से ज्यादा संत शामिल हुए. प्रतिमा के अनावरण के साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज ने संतों के साथ इसकी परिक्रमा भी की. इस दौरान प्रस्थानत्रय भाष्य पारायण और दक्षिणाम्नाय श्रृंगेरी शारदापीठ के मार्गदर्शन में देश के करीब 300 विख्यात वैदिक आचार्यों द्वारा वैदिक रीति पूजन और 21 कुंडीय हवन किया गया.प्रतिमा के अनावरण के बाद स्वामी अवधेशानंद ने कहा कि इस ऐतिहासिक आयोजन में शामिल होकर अभिभूत हूं. उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को श्रेय दिया. उन्होंने कहा कि यह सीएम शिवराज के भगीरथ प्रयास से संभव हो सका है. उन्हो्ंने इसे शताब्दी का एक महान कार्य बताया और कहा कि इससे अनन्तकाल तक मानवता का संदेश मिलता रहेगा.

Advertisement

Advertisement

शिवराज सरकार का मिशन सनातन

Advertisement

मान्धाता पर्वत पर शंकराचार्य की इस प्रतिमा का अनावरण उत्तरकाशी के स्वामी ब्रहोन्द्रानन्द और 32 संन्यासियों के हाथों संपन्न कराया गया. सरकार का कहना है ओंकारेश्वर के एकात्म धाम में स्थापित शंकराचार्य के बाल रूप की 108 फीट की एकात्मता की मूर्ति को अध्यात्म और ऊर्जा के स्रोत के तौर पर स्थापित किया गया है. बहुधातु से बनी शंकराचार्य की यह प्रतिमा 108 फीट ऊंची है. इसे एकात्मता की मूर्ति का नाम दिया गया है. मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार का कहना है राज्य में सनातन संस्कृति और धार्मिक केंद्रों के संरक्षण विशेष ध्यान दिया जा रहा है. उज्जैन में महाकाल लोक के बाद अब ओंकारेश्वर में एकात्मधाम इसी दिशा में सरकार का बड़ा कदम है.

Advertisement

मिश्रित धातु से बनी प्रतिमा

Advertisement

आदि गुरु शंकराचार्य की इस विशाल प्रतिमा का निर्माण पिछले पांच-छह साल से चल रहा था. इसे प्रसिद्ध चित्रकार वासुदेव कामत और मूर्तिकार भगवान रामपुरे की देखरेख में संपन्न कराया गया. यह विराट प्रतिमा खंडवा जिले के ओंकारेश्वर में है. इसमें 100 टन के मिश्रित धातु का उपयोग किया गया है. मूर्तिकारों ने इस अनोखी और विराट प्रतिमा में किशोर शंकर की भाव भंगिमाओं को जीवंत करने की कोशिश की है ताकि देखने वालों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़े. मुख्यमंत्री ने कहा कि इसका मकसद दुनिया को शांति और मानवता के उत्थान का संदेश देना है. यहां 12 वर्षीय शंकर की मूर्ति उस समय से प्रेरित है, जब गुरु गोविंदपाद ने उन्हें काशी की दिशा में जाने का आदेश दिया था. तब गुरु ने उनको कहा था – जाओ सनातन वेदान्त अद्वैत परंपरा की फिर से स्थापना करो.

Advertisement

क्या है प्रतिमा की विशेषता?

Advertisement

आदि गुरु शंकराचार्य की यह प्रतिमा बहु धातु से निर्मित है. इसमें 16 फीट ऊंचे पत्थर से एक कमल का आधार है और 75 फीट ऊंचा पेडिस्टल बनाया गया है. 45 फीट शंकर स्तंभ पर आचार्य शंकर की जीवन यात्रा चित्रित है. मूर्ति के निर्माण में 250 टन से 316 एल ग्रेड की स्टेनलेस स्टील का उपयोग किया गया है. 100 टन मिश्रित धातुओं में 88 टन तांबा,4 टन जस्ता और 8 टन टिन है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

भाजपा जिला महामंत्री दहिया ने की राठौड़ व पूनिया से मुलाकात

Report Times

Salman Khan के घर के बाहर हुई फायरिंग पर अरबाज खान ने जताई चिंता, बोले- हमारा परिवार सदमे में है

Report Times

जयपुर में पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के बीच बैठक, रक्षा-व्यापार समेत कई मुद्दों पर चर्चा

Report Times

Leave a Comment