Report Times
GENERAL NEWSटॉप न्यूज़ताजा खबरेंमनोरंजन

जानें बिहार में कब है सतुआन और जुड़ शीतल, क्या है इस पर्व का महत्व

Reporttimes.in

Advertisement

सतुआन उत्तरी भारत के कई सारे राज्यों में मनाया जाने वाला एक प्रमुख पर्व है. यह पर्व गर्मी के आगमन का संकेत देता है. मेष संक्रांति के दिन ही सतुआन का पर्व मनाया जाता है. इस दिन सूर्य मीन राशि से मेष राशि में प्रवेश करता है. इस दिन भगवान को भोग के रूप में सत्तू अर्पित किया जाता है और सत्तू का प्रसाद खाया जाता है. यह खास त्यौहार बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल हिस्से में मनाया जाता है.बिहार में मिथिलांचल में इसे जुड़ शीतल नाम से जाना जाता है. कहा जाता है इस दिन से ही मिथिला में नए साल की शुरुआत हुई थी.

Advertisement

कब मनाया जाता है सतुआन

सतुआन पर्व बैसाख माह के कृष्णा पक्ष की नवमी को मनाया जाता है. माना जाता है कि इस दिन सूर्य भगवान अपनी उत्तरायण की आधी परिक्रमा को पूरी कर लेते हैं. हर साल यह पर्व 14 अप्रैल को मनाया जाता है. यह पर्व गर्मी के मौसम का स्वागत करता है. इस पर्व में प्रसाद के रूप में सत्तू खाया जाता है इसलिए इसका नाम सतुआन है. हम सभी जानते हैं कि गर्मी के मौसम में सत्तू कितना लाभदायक होता है. सत्तू हमारे शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है. गर्मी के मौसम में अगर आप सत्तू खाते हैं तो ये आपके पेट को भरा- पूरा रखता है और आपको लू के चपेट से भी बचाता है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

स्वास्थ्य मंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर ने किया पदभार ग्रहण, बोले – चिकित्सा क्षेत्र में लाएंगे क्रांतिकारी बदलाव

Report Times

जयपुर-दिल्ली हाइवे का सफर महंगा, NHAI ने की टोल दरों में बढ़ोतरी

Report Times

किसान सरकार की योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाएं : रणसिंह

Report Times

Leave a Comment