Report Times
latestOtherउत्तर प्रदेशटॉप न्यूज़ताजा खबरेंराजनीतिस्पेशल

मैनपुरी उपचुनाव में अखिलेश का साथ देकर शिवपाल ने बिगाड़ा सियासी गणित, जानिए बीजेपी ने क्‍या ढूंढी काट

REPORT TIMES 

Advertisement

मैनपुरी/कानपुर: यूपी की मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव होने हैं। मैनपुरी लोकसभा सीट पर सपा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। वहीं, बीजेपी इस सीट पर हर हाल में कमल खिलाना चाहती है, लेकिन चाचा-भतीजे के एक साथ आने से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मैनपुरी सीट पर मुलायम सिंह यादव के साथ शिवपाल ने जमीनी स्तर पर काम किया है। शिवपाल के आने मैनपुरी से बीजेपी का सियासी गणित बिगड़ गया है। इसकी काट करने के लिए बीजेपी ने कानपुर-बुंदेलखंड के चार मंत्रियों को उतार कर जातीय कार्ड खेला है। एसपी सरंक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव हो रहे हैं। मुलायम सिंह की राजनीतिक विरासत संभालने की जिम्मेदारी अखिलेश यादव के कंधों पर है। सपा ने मैनपुरी लोकसभा सीट से डिंपल यादव को उतारा है। वहीं बीजेपी ने शिवपाल सिंह की करीबी रहे रघुराज सिंह शाक्य को प्रत्याशी बनाया है। मैनपुरी लोकसभा सीट पर बीजेपी और एसपी के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है। मैनपुरी में सबसे ज्यादा यादव और फिर शाक्य वोटरों की संख्या है। शिवपाल के आने से यादव वोटर एकजुट हो गए हैं। वहीं, शिवपाल की पैठ शाक्य वोटरों के बीच में भी है। शिवपाल शाक्य वोटरों में भी सेंध लगाने में कामयाब हो रहे हैं।

Advertisement

Advertisement

चार मंत्रियों को दी गई जिम्मेदारी

Advertisement

मैनपुरी में कमल खिलाने और शिवपाल की काट करने के लिए बीजेपी ने कानपुर-बुंदेलखंड के चार मंत्रियों को उतारा है। जिसमें राकेश सचान, प्रतिभा शुक्ला, अजीत पाल और कन्नौज से मंत्री असीम अरुण को जिम्मेदारी सौंपी है। जानकारी के मुताबिक, चारों मंत्रियों को अपनी-अपनी जातियों के मतदाताओं से संपर्क कर पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने के निर्देश दिए गए हैं।

Advertisement

इस सीट से एसपी को मिलती है बढ़त

Advertisement

मैनपुरी लोकसभा सीट में जसवंतनगर विधानसभा सीट आती है। जसवंतनगर सीट से शिवपाल सिंह यादव बीते कई दशकों से विधायक हैं। यह सीट मुलायम सिंह की परिवारिक सीट मानी जाती है। इस सीट में सबसे ज्यादा लोधी और शाक्य वोटरों की संख्या है। यदि मैनपुरी लोकसभा सीट के परिणामों के इतिहास पर नजर डाली जाए तो जसवंतनगर विधानसभ सीट की ईवीएम खुलते ही सपा बढ़त बना लेती है।

Advertisement

शिवपाल सिंह ने बिगाड़ा सियासी गणित

Advertisement

शिवपाल सिंह यादव ने परिवारिक कलह के बाद प्रसपा का गठन किया था। उस वक्त पूर्व सांसद रघुराज शाक्य ने हनुमान की भूमिका निभाई थी। रघुराज शाक्य ने सपा का साथ छोड़कर शिवपाल के साथ खड़े थे। शिवपाल सिंह ने रघुराज शाक्य को प्रसपा में कानपुर-बुंदेलखंड का प्रभारी भी बनाया था। रघुराज शाक्य शिवपाल को अपना राजनीतिक गुरु भी मानते थे, लेकिन विधानसभा चुनाव 2022 में रघुराज शाक्य ने बीजेपी का दामन थाम लिया था। बीजेपी ने रघुराज शाक्य को मैनपुरी से प्रत्याशी बनाकर बड़ा दांव खेला था, लेकिन चाचा-भतीजे के एकसाथ आने से बीजेपी दांव उसके लिए सिरदर्द बन गया है।

Advertisement

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

ये लेडी डॉन है राजू ठेहट के मर्डर की मास्टरमांइड, 5 साल बाद इस बात का लिया बदला

Report Times

सहारनपुर-दिल्ली पैसेंजर ट्रेन के दो कोच में आग लगने के मामले की जाँच

Report Times

राखी बनाओ  एवं थाली सजाओ प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

Report Times

Leave a Comment